बीएससी के बाद आईएएस कैसे बनें? | B.Sc ke baad IAS kaise bane

दोस्तों इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि बीएससी के बाद आईएएस कैसे बनें? B.Sc पूरी कर लेने के बाद आईएएस कैसे बन सकते हैं? 

दोस्तों देश के सबसे प्रतिष्ठित सरकारी नौकरियों में civil services की नौकरियों का ही नाम आता है, इसमें आईएएस, आईपीएस, आईएफएस जैसे अन्य 24 अन्य services आते हैं, इनमें से IAS सबसे प्रमुख है। 

बहुत सारे विद्यार्थी आईएएस बनने का सपना देखते हैं, और इसके लिए UPSC की परीक्षा की तैयारी करते हैं। 

12वीं के बाद बहुत से विद्यार्थी B.Sc course में दाखिला ले लेते हैं, और फिर उसके बाद उनके मन में आईएएस बनने या आईएएस बनने के लिए तैयारी करने की इच्छा होती है। 

ऐसे में उनके मन में यह सवाल आता है कि बीएससी के बाद आईएएस कैसे बनें? या B.Sc पूरी करने के बाद आईएएस कैसे बन सकते हैं?

बीएससी के बाद आईएएस कैसे बनें?

यहां इस लेख में हम मुख्य तौर पर इसी की बात करेंगे। जानेंगे कि B.Sc के बाद आईएएस कैसे बनें? 

साथ ही यहां हम एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए जरूरी, दुसरी कुछ जरूरी बातों के बारे में चर्चा करेंगे।

B.Sc के बाद IAS कैसे बनें?

बीएससी के बाद यूपीएससी की परीक्षा पास करके आप एक आईएएस ऑफिसर बन सकते हैं। 

आईएएस ऑफिसर बनने के लिए बीएससी के बाद आपको यूपीएससी की परीक्षा पास करनी होती है, और यदि आप UPSC CSE (civil services examination) पास कर लेते हैं, तो आप एक आईएएस ऑफिसर बन सकते हैं। 

एक आईएएस ऑफिसर बनने के लिए सबसे जरूरी यूपीएससी सिविल सर्विस की परीक्षा पास करना ही होता है। 

यूपीएससी की बात करें तो इसका पूरा नाम यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (union public service commission) है, जो कि हर साल देशभर में आईएएस आईपीएस आदि अवसरों की नियुक्ति के लिए सिविल सर्विसेज की परीक्षा लेता है।

तो आईएएस बनने के लिए आपको यूपीएससी की सिविल सर्विस की परीक्षा पास करनी होती है, और इस सिविल सर्विस की परीक्षा में बैठने के लिए न्यूनतम योग्यता भी स्नातक डिग्री यानी कि ग्रेजुएशन ही होती है। 

तो यदि आपकी विज्ञान विषय में रुचि है, या आप साइंस स्ट्रीम के विद्यार्थी रहे हैं, तो आप कह सकते हैं कि आईएएस बनने के लिए बीएससी करना जरूरी होता है। 

मतलब कि यूपीएससी में बैठने के लिए ग्रेजुएशन न्यूनतम योग्यता है, इसीलिए आप अंडर ग्रेजुएशन स्तर का कोई भी कोर्स, यानी बीएससी, बीकॉम, बीए या फिर b.tech आदि करने के बाद भी इसकी परीक्षा में बैठ सकते हैं, और पास करने पर एक आईएएस ऑफिसर बन सकते हैं। 

इससे अधिक शैक्षणिक योग्यता होने पर भी आप इसकी परीक्षा में बैठ ही सकते हैं।

B.Sc के बाद IAS बनने के steps –

तो जिस भी विद्यार्थी ने अपनी बीएससी की डिग्री ले ली है, वह ग्रेजुएटी यानी स्नातक हो चुका है, और वह UPSC की परीक्षा में बैठने के लिए एलिजिबल होता है। 

B.Sc के बाद IAS बनने के steps में –

Step 1- UPSC CSE का फार्म भरें। 

जाहिर है सबसे पहले आपको UPSC का फॉर्म ही भरना होता है। हर UPSC के द्वारा सिविल सर्विसेज की परीक्षा के लिए योग्य उम्मीदवारों से आवेदन मांगे जाते हैं। 

इच्छुक और योग्य विद्यार्थी UPSC की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर इसका ऑनलाइन फॉर्म भर सकते हैं। 

ऑनलाइन आवेदन शुरू होने से पहले इसकी आधिकारिक अधिसूचना यूपीएससी द्वारा जारी कर दी जाती है, जिसमें इससे संबंधित सारी जरूरी जानकारी दी जाती है। 

विद्यार्थी अच्छे से सब कुछ पढ़ कर इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं।

Step 2- UPSC CSE की परीक्षा (prelims, mains,  interview) पास करें

फॉर्म भर देने के बाद यूपीएससी द्वारा आपको परीक्षा की तारीख दी जाती है। 

यूपीएससी की परीक्षा तीन अलग-अलग चरणों में, और अलग-अलग तारीखों में होती है, सबसे पहले prelims होता है। 

इसमें (general studies + CSAT) दो paper होते हैं। 

दोनों ही पास करना जरूरी है। Prelims पास करने वाले विद्यार्थी ही मेंस के लिए बैठ सकते हैं। 

Mains में कुल मिलाकर 9 पेपर (2 language + 5 general studies + 2 optional papers) होते हैं। 

और mains पास करने वाले विद्यार्थियों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। 

इंटरव्यू में साक्षात्कार प्रश्न पूछे जाते हैं, जो किसी भी क्षेत्र से हो सकते हैं। 

3- इसके बाद आप IAS बन सकते हैं

Civil services में IAS सबसे पहले आता है। और UPSC की परीक्षा में top ranks के विद्यार्थियों का चुनाव ही आईएएस पद के लिए होता है। 

बाकी IPS (अपने चुनाव से), फिर IFS, IRS और इसी तरह अन्य services में नियुक्त किए जाते हैं। 

तो आईएएस बनने के लिए जरूरी है कि आप UPSC की परीक्षा में top rankers में से हों। 

सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों को आईएएस बनने के लिए कम से कम 90 रैंक के अंदर आना चाहिए, ओबीसी और उसके साथ EWS वर्ग के विद्यार्थियों को आईएएस बनने के लिए कम से कम 300 rank के अंदर आना चाहिए।

और वहीं यदि sc/st वर्ग के विद्यार्थियों को आईएएस के रूप में चयनित होना है तो उन्हें 450 के अंदर रैंक लाना होता है, वर्ग के हिसाब से उम्मीदवारों को छूट मिलती है।

अपने B.Sc का विषय optional ले सकते हैं –

बीएससी के बाद आईएएस बनने के लिए एक मुख्य बात यह भी है कि, जैसा हमने ऊपर जाना upsc मेंस परीक्षा में दो ऑप्शनल पेपर देने होते हैं, यानी इन विषयों का चुनाव विद्यार्थी खुद कर सकते हैं। 

तो बीएससी कोर्स में विद्यार्थी का जो भी मुख्य सब्जेक्ट रहा होगा, उसे वे यूपीएससी में ऑप्शन विषय के तौर पर ले सकते हैं। 

जो यह जानना चाहते हैं कि आईएएस के लिए कौन सी डिग्री चाहिए? 

उनके लिए, B.Sc फायदेमंद हो सकता है क्योंकि बाकी विषयों के साथ साथ Science के सारे मुख्य विषय optional की list में होते ही हैं। 

बीएससी के दौरान विद्यार्थी ने उस विषय को अच्छे से पढ़ा होगा, इसलिए आसानी से वह उसमें अच्छे नंबर ला सकते हैं। 

और final marks बढ़ा सकते हैं, जिससे कि उनका rank अच्छा हो, और वे IAS  के रूप में चयनित हों।

जिन विद्यार्थियों के मन में यह प्रश्न रहता है कि B.Sc के बाद आईएएस (IAS) की तैयारी में कितना खर्च आता है? 

तो आप सही स्ट्रेटजी और सही मेहनत करके बिना कोचिंग के भी यूपीएससी क्लियर कर सकते हैं।

 

Conclusion

ऊपर यहां इस लेख में हमने चर्चा की है कि बीएससी के बाद आईएएस कैसे बने? 

बीएससी कर लेने के बाद आईएएस बनने की क्या प्रक्रिया होती है? 

बहुत से विद्यार्थी बीएससी में दाखिला ले लेने, या बीएससी पास कर लेने के बाद आईएएस की तैयारी करने की सोचते हैं। 

ऐसे में वे जानना चाहते हैं कि बीएससी के बाद आईएएस कैसे बन सकते हैं? 

आईएएस बनने के लिए यूपीएससी अच्छे अंको से पास करना सबसे जरूरी है, जिसके लिए स्नातक डिग्री चाहिए होती है। 

यहां हमने इसी के बारे में अच्छे से बात की है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.