12वीं पास करने के बाद छात्रवृति | 12th pass karne ke baad scholarship

दोस्तों इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि 12वीं पास करने के बाद छात्रवृत्ति कौन-कौन सी है? 12वीं कक्षा पास करने के बाद विद्यार्थियों के लिए कौन-कौन सी छात्रवृत्ति योजनाएं हैं? 

दोस्तों विद्यार्थी जिस भी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, 12वीं के बाद उन्हें उसी क्षेत्र से संबंधित course में दाखिला लेना होता है। 

12वीं के बाद विद्यार्थी अलग-अलग क्षेत्रों के अंडर ग्रेजुएशन स्तर कोर्स में ही दाखिला लेते हैं। 

कई बार कुछ अलग-अलग courses की fees कॉलेजों में काफी ज्यादा हो जाती है, जिससे आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थी इसे afford नहीं कर पाते हैं, और उन्हें higher studies में परेशानी आती है। 

यहां पर छात्रवृत्ति यानी scholarship काम में आता है। 

12वीं पास करने के बाद छात्रवृति

इस लेख में हम मुख्य तौर पर 12वीं पास करने के बाद छात्रवृत्ति के बारे में बात करने वाले हैं। 

बहुत से आर्थिक रूप से कमज़ोर और मेधावी विद्यार्थियों को 12वीं पास करने के बाद आगे की शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति की जरूरत होती है।

यहां हम 12वीं पास करने के बाद विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध मुख्य छात्रवृत्ति योजनाओं के बारे में ही बात करेंगे।

12th पास करने के बाद Scholarship

आज के समय में भी कई बार ऐसा देखा जाता है कि कमजोर आर्थिक स्थिति कई students के बेहतर भविष्य की राह में रुकावट बन जाती है। 

बहुत से विद्यार्थी पढ़ने में अच्छे होते हैं, लेकिन किसी कोर्स की फीस नहीं चुका पाने के कारण वे पढ़ाई नहीं कर पाते हैं। 

ऐसे ही छात्र/छात्राओं की मदद के लिए सरकार की तरफ से कुछ scholarships प्रदान किए जाते हैं, जो मेधावी और आर्थिक स्तर पर कमजोर students को उनकी आगे की पढ़ाई करने में मदद करती हैं। 

भारत की केंद्र सरकार और अलग-अलग राज्यों की राज्य सरकारे भी 12वीं के बाद अलग-अलग स्कॉलरशिप देती हैं। 

जैसे शायद आपने यूपी स्कॉलरशिप फॉर्म या एमपी स्कॉलरशिप फॉर्म आदि के बारे में सुना होगा। 

अलग-अलग राज्यों की सरकारों के द्वारा 12वीं के बाद अलग-अलग क्षेत्रों जैसे इंजीनियरिंग, मेडिकल, general graduation आदि के लिए कुछ अलग-अलग स्कॉलरशिप दी जाती है। 

अलग-अलग राज्यों की राज्य सरकारें वहां Post matric scholarship scheme चलाती हैं।

यहां इस आर्टिकल में हम mainly 12वीं के बाद central government के द्वारा उपलब्ध पांच मुख्य scholarships योजनाओं के बारे में बात करेंगे। 

जो भी जरूरतमंद विद्यार्थी अपनी higher एजुकेशन के लिए स्कॉलरशिप लेना चाहते हैं, इन scholarships की जानकारी ले सकते हैं। 

12th के बाद मुख्य 5 scholarships –

  • PMMS- Pradhan Mantri scholarship scheme (प्रधानमंत्री स्कॉलरशिप स्कीम)
  • AICTE – Pragati scholarship scheme
  • MGNF – Mahatma Gandhi National fellowship
  • CSSS- Central sector scheme of scholarship for college and university students 
  • KVPY- Kishore vaigyanik protsahan Yojana (किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना)

PMMS- Pradhan Mantri scholarship scheme (प्रधानमंत्री स्कॉलरशिप स्कीम)

Pradhan Mantri scholarship scheme केंद्र सरकार की स्कॉलरशिप स्‍कीम है। 

इस scholarship का फायदा मुख्य तौर पर पूर्व सेनानियों और पूर्व भारतीय तटरक्षक बल के जवानों के बच्‍चों को (और उनकी विधवा पत्नियों) मिलता है। 

आम लोगों या पैरा मिलिट्री फोर्सेस के जवानों के परिवार को इसका फायदा नहीं मिलता है। 

इस scholarship का उद्देश्य उच्‍च तकनीकी और पेशेवरीय शिक्षा के लिए इन विद्यार्थियों को आर्थिक सहायता देने का है। 

इस छात्रवृत्ति के लिए 12वीं, डिप्लोमा/ग्रेजुएशन में कम से कम 60% अंक प्राप्त करने होते हैं, अलग-अलग वर्गों के विद्यार्थियों के हिसाब से इसमें अंतर हो सकता है। 

18 से 25 वर्ष के बीच आयु वर्ग के विद्यार्थी इस छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने के लिए योग्य होते हैं। 

फर्स्ट ईयर में एडमिशन लेने के बाद उम्मीदवार इस scholarship का फायदा ले सकते हैं।

CSSS- Central sector scheme of scholarship for college and university students 

जैसा कि इसके नाम में है, ये स्कॉलरशिप कॉलेज और यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स के लिए है। 

हर साल ये स्कॉलरशिप 82,000 नए स्टूडेंट्स को दी जाती है। इनमें आधे लड़के (41,000) और आधी लड़कियां (41,000) होती हैं। 

इस छात्रवृत्ति का उद्देश्य पढ़ाई के दौरान मेधावी छात्रों की दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए मदद करना है। 

कुल पास हुए छात्रों में से 80% से ऊपर जो छात्र/छात्राएं होते हैं, उन्हें इसका फायदा मिलता है। 

ये scholarship 3:2:1 के अनुपात, 3-science: 2-commerce: 1-arts में मिलती है। 

कई विद्यार्थियों के मन में यह सवाल भी आता है कि b.a. का स्कॉलरशिप कितना आता है?

इस स्कॉलरशिप का लाभ लेने के लिए विद्यार्थी के परिवार की सालाना आय 8 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। 

इसमें स्नातक यानी ग्रेजुएशन के दौरान शुरुआती 3 सालों में हर साल 10,000 रुपए दिए जाते हैं। 

वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान 20 हजार रुपये हर साल दिए जाते हैं।

AICTE – Pragati scholarship scheme

HRD ministry यानी मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय के द्वारा यह scholarship scheme चलाया जाता है। ये स्कॉलरशिप merit के आधार पर दिया जाता है। 

12वीं पास करने के बाद 5,000 लड़कियों को ये स्कॉलरशिप दी जाती है। 

इनमें से 2000 डिग्री क्षेत्र की, जबकि 2000 लड़कियां डिप्लोमा के क्षेत्र की होती हैं। 

और बाकी के 1,000 स्कॉलरशिप की सीटें दिव्यांग छात्राओं के लिए रिजर्व रहती है। 

इस स्कॉलरशिप योजना का उद्देश्य मुख्य तौर से लड़कियों को शिक्षित करके उन्हें सशक्त बनाने का है। 

इस स्कॉलरशिप के लिए चुनी गई छात्राओं को सालाना 50 हजार रुपये की स्कॉलरशिप के साथ कुछ अन्य लाभ भी मिलते हैं। 

इसके लिए AICTE (All India Council for Technical Education) से मान्यता प्राप्त संस्थान में दाखिला लेना होता है। 

इस scholarship का लाभ लेने के लिए छात्राओं के परिवार की वार्षिक आय 8 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

MGNF – Mahatma Gandhi National fellowship

12वीं के बाद मैनेजमेंट कोर्स में दाखिला लेने की सोचने वाले विद्यार्थियों के लिए यह स्कॉलरशिप है। 

ये IIMs (Indian Institutes of Management) की ओर से दिया जाता है। 

ये scholarship management और public policy से जुड़ा एक सर्टिफिकेट प्रोग्राम होता है, जिसमें IIM की फैकल्टी, बिजनेस और इकोनॉमिक्स से जुड़ी जानकारियां मिलती हैं। 

इसमें चुने गए लोगों को रोजगार बढ़ाने के लिए प्लान तैयार करने, फील्ड पर भेजा जाता है। 

इसमें चुने गए fellow, ग्रामीण इलाके के लोगों का जीवन बेहतर करने के लिए भी प्रयास करते हैं। 

इस दो साल की महात्मा गाांधी नेशनल फेलोशिप में पहले साल 50 हजार रुपये महीने और दूसरे वर्ष 60 हजार रुपये महीने मिलते हैं। 

इस fellowship के लिए इच्छुक विद्यार्थी IIM की वेबसाइट, iimb.ac.in पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

KVPY- Kishore vaigyanik protsahan Yojana (किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना)

इस योजना का उद्देश्य विज्ञान के क्षेत्र में छात्रों को आगे पढ़ने के लिए स्कॉलरशिप देने का है। 

विज्ञान और तकनीकी विभाग की ओर से इस फेलोशिप के जरिए प्रोत्साहन दिया जाता है।  

इस स्कॉलरशिप के लिए परीक्षा देनी होती है। जो छात्र KVPY की परीक्षा पास कर लेते हैं, उन्हें रिसर्च करने के लिए सरकार की ओर से पैसे दिए जाते हैं। 

देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक IISc (Indian institute of Science) इसकी परीक्षा करवाता है। 

परीक्षा में बैठने के लिए 12वीं में 75 फीसदी मार्क्स आना जरूरी होता है। 

इसकी परीक्षा में Aptitude test लिया जाता है। टेस्ट के आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों का इंटरव्यू होता है। 

दोनों ही परीक्षाओं के आधार पर छात्र छात्राओं को स्कॉलरशिप मिलती है। 

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के तहत चुने जाने वाले स्टूडेंट्स को PHd से पहले तक स्कॉलरशिप दी जाती है।

इसके अलावा अलग-अलग राज्यों के राज्य सरकार द्वारा भी 12वीं के बाद अलग-अलग क्षेत्र के अलग-अलग कोर्स में दाखिला लेने वाले विद्यार्थियों के लिए कुछ स्कॉलरशिप योजनाएं चलाई जाती हैं। 

जिन विद्यार्थियों के मन में प्रश्न रहता है कि, छात्रवृत्ति (scholarship) का फॉर्म कैसे भरें? तो, स्कॉलरशिप के लिए विद्यार्थी को ऑनलाइन आवेदन करना होता है। 

अलग अलग राज्य में समय-समय पर वहां स्कॉलरशिप के लिए ऑनलाइन फॉर्म निकाले जाते हैं।

Conclusion

ऊपर यहां इस आर्टिकल में हमने 12वीं पास करने के बाद छात्रवृत्ति, के बारे में बात की है। 

जिन विद्यार्थियों की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती उन्हें 12वीं के बाद हायर एजुकेशन के लिए स्कॉलरशिप की जरूरत पड़ती है। 

ऐसे में केंद्र और राज्य सरकारों के द्वारा 12वीं पास विद्यार्थियों के लिए कई स्कॉलरशिप स्कीम चलाई जाती हैं। 

ऊपर इस लेख में हमने 12वीं के बाद के कुछ मुख्य स्कॉलरशिप्स के बारे में ही बात की है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.