बीए (b.a.) का स्कॉलरशिप कितना आता है ? | B.A. ka scholarship Kitna aata hai

दोस्तों इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि b.a. का स्कॉलरशिप कितना आता है? 

दोस्तों एक बेहतर भविष्य के लिए higher studies आज के समय में काफी महत्वपूर्ण हो गई है। 

12वीं पास करने के बाद बहुत से विद्यार्थी under graduation courses में b.a. यानी बैचलर ऑफ आर्ट्स में अलग-अलग विषय में एडमिशन लेते हैं। 

अब हर विद्यार्थी की आर्थिक स्थिति एक जैसी नहीं होती। कई विद्यार्थी अपनी b.a. की पढ़ाई की फीस देने में समर्थ नहीं होते हैं, ऐसे में सरकार की ओर से उनके लिए स्कॉलरशिप का विकल्प रहता है। 

B.a. में दाखिला लेने वाले विद्यार्थी अक्सर इस बारे में सर्च करते हैं कि b.a. का स्कॉलरशिप कितना आता है?  

b.a. part-1 का स्कॉलरशिप कितना आता है? b.a. part-2 का स्कॉलरशिप कितना आता है? b.a. part-3 का स्कॉलरशिप कितना आता है? आदि।

बीए (b.a.) का स्कॉलरशिप कितना आता है ?

यहां इस लेख में हम मुख्य तौर पर इसके बारे में बात करेंगे। जानेंगे कि बीए का स्कॉलरशिप कितना आता है? 

इसके लिए विद्यार्थी कैसे आवेदन कर सकते हैं? कौन-कौन आवेदन कर सकते हैं? आदि।

B.A. का scholarship कितना आता है?

सीधे-सीधे कहें तो स्कॉलरशिप कितना आएगा यह निर्भर करता है कि आपका कॉलेज/यूनिवर्सिटी कौन सा है, और उसकी फीस कितनी है। 

फिर अलग-अलग states में वहां के कॉलेजों में स्कॉलरशिप के लिए फॉर्म भरे जाते हैं, और उनमें scholarship की रकम अलग-अलग हो सकती है। 

उत्तर प्रदेश अंडर ग्रेजुएशन स्कॉलरशिप की बात करें तो, कुछ साल पहले तक B.A और B.Sc की स्कालरशिप लगभग 8600 रुपये तक आती थी। 

लेकिन बाद में इसे घटा कर लगभग 7,500 रुपये के आसपास कर दिया गया था। 

लेकिन आने वाले समय के लिए स्कालरशिप की अमाउंट बढ़ा दी गयी है, इस साल से लगभग साढ़े आठ हजार रुपये (8500 रुपये) तक स्कालरशिप की कर दी गयी है। 

यह scholarship amount,  b.a. course के लिए भी है। 

तो कह सकते हैं कि b.a. का स्कॉलरशिप इसी अमाउंट (8,500) के आसपास का आता है। 

हालांकि, जैसा हमने कहा स्कालरशिप की अमाउंट आपके कॉलेज फीस पर डिपेंड करती है। 

यदि आपकी कॉलेज की फीस ज्यादा होगी तो आपको स्कॉलरशिप में ज्यादा रकम आती है, और फीस कम होने पर उसी हिसाब से स्कॉलरशिप भी कम ही आती है। 

उदाहरण के लिए अगर आपके कॉलेज की फीस 5,000 रूपये सालाना है, तो स्कॉलरशिप में आपको पूरी फीस लौटा दी जाती है, इसके साथ-साथ स्कॉलरशिप में और 1,2 हज़ार रुपये आपको एक्स्ट्रा भी दिए जाते हैं।

Scholarship के तौर पर कुछ विद्यार्थियों को कम रुपए दिए जाते हैं, तो कुछ विद्यार्थियों को ज्यादा रुपए दिए जाते हैं, depending की विद्यार्थी की कॉलेज/यूनिवर्सिटी कौन सी है, और उसकी फीस कितनी है। 

स्कॉलरशिप की बात करें तो यह आपको 10वीं कक्षा में प्राप्त हो सकती है, 12वीं कक्षा में भी मिल सकती है, और साथ ही साथ ग्रेजुएशन की किसी डिग्री में भी मिल सकती है, यहां हम इसी (b.a.) की बात कर रहे हैं। 

स्कॉलरशिप विद्यार्थी को उसका स्कूल, कॉलेज या फिर यूनिवर्सिटी ही देती है। 

जिन विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप मिलती है, उन्हें इसके अंतर्गत कुछ पैसे मिलते हैं, जोकि non-refundable होते हैं। 

यानी की स्कॉलरशिप के अंतर्गत आपको जो पैसे मिलते हैं, उसे आपको लौटाना नहीं होता है। 

Generally, Scholarship देने का काम गवर्नमेंट स्कूल या फिर government यूनिवर्सिटी ही करती हैं। 

हालांकि कुछ प्राइवेट institutes भी अपनी तरफ से विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप का विकल्प देते हैं।

B.a. part-1 का स्कॉलरशिप कितना आता है?

तो जैसा कि हमने ऊपर जाना, स्कॉलरशिप में कितनी रकम मिलेगी, यह निर्भर करता है कि आप की फीस कितनी है। 

अब आपकी कॉलेज की जो फीस होती है, वह आपको सामान्यतः सालाना तौर पर ही देनी होती है। 

तो बात करें कि पार्ट वन का स्कॉलरशिप कितना आता है, तो यह उतना ही आएगा जितनी कि आपकी पहले साल की फीस होगी। 

असल में स्कॉलरशिप की पूरी राशि एक ही बार में आपके अकाउंट में नहीं आ जाती है। 

जैसे जैसे आप आगे बढ़ते हैं, यानी कि पहला साल फिर दूसरा साल और फिर तीसरा साल पास करते हैं, उसी तरह हर साल के लिए आपको उस 1 साल की स्कॉलरशिप की राशि मिलती है। 

कॉलेज फीस के हिसाब से b.a. पार्ट वन का स्कॉलरशिप 1-1.5 हजार से लेकर 2.5-3 हज़ार के बीच तक आ सकता है।

B.a. part-2 का स्कॉलरशिप कितना आता है?

B.a. part-2 के scholarship amount के लिए भी वही बात है। 

जब आप b.a. सेकंड ईयर में जाते हैं, तो उसके बाद b.a. पार्ट 2 के स्कॉलरशिप के पैसे आपको मिलते हैं, जिससे आपको कॉलेज की फीस ही भरनी होती है। 

Part 1 और part 2 की fees में ज्यादा अंतर नहीं होता है, तो स्कॉलरशिप की रकम भी लगभग एक समान ही होती है।

B.a. part-3 का स्कॉलरशिप कितना आता है?

फिर यही बात B.a. part-3 के लिए भी आती है। part – 3  में भी आपकी कॉलेज की जितनी फीस होगी, उसी हिसाब से आपका स्कॉलरशिप आता है। 

तीनों साल की टोटल फीस को समान रूप से ही काटा जाता है। 

सरकारी कॉलेजों में b.a. जैसे कोर्स के लिए फीस वैसे भी कम ही होती है। 

इसके साथ-साथ स्कॉलरशिप मिल जाने पर आपकी पूरी फीस आपको एक तरह से लौटा दी जाती है।

B.A scholarship के लिए पात्रता और जरूरी डॉक्युमेंट्स –

बात करेगी b.a. स्कॉलरशिप के लिए कौन कौन विद्यार्थी पात्र होते हैं, तो इसका सीधा जवाब यही होगा कि जिन भारतीय विद्यार्थियों की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती है। 

आपको स्कॉलरशिप के लिए online apply  करना होता है, जिसमें आपको अपने परिवार की इनकम दिखानी होती है। 

जो कि एक निश्चित रकम से कम रहने पर ही आप स्कॉलरशिप के लिए एलिजिबल होते हैं। 

हालांकि इसके अलावा मेघावी छात्रों के लिए स्कॉलरशिप की परीक्षाएं भी आयोजित करवाई जाती हैं, जिनमें पास होने पर आपकी फीस माफ की जाती है, और स्कॉलरशिप के पैसे मिलते हैं। 

Scholarship के लिए required documents की बात करें तो इसमें विद्यार्थी के पास निम्नलिखित दस्तावेज होने चाहिए –

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • छात्र की आईडी
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट डिटेल्स
  • जाति प्रमाण पत्र
  • परीक्षा की मार्कशीट
  • आदि।

यह सभी चीजें रहने पर आप स्कॉलरशिप के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं। 

Generally, स्कॉलरशिप प्रोग्राम सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए नहीं होता है। 

अलग-अलग राज्यों में वहां की राज्य सरकार द्वारा साल में बीए जैसे कोर्स में स्कॉलरशिप के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे जाते हैं। 

पात्रता जांच कर विद्यार्थी इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं और स्कॉलरशिप का लाभ ले सकते हैं। 

स्कॉलरशिप के लिए apply करने या इसका स्टेटस आदि जांचने के लिए विद्यार्थियों को इससे संबंधित पोर्टल पर visit करना चाहिए।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने बात की है कि b.a. का स्कॉलरशिप कितना आता है? 

आर्थिक स्थिति अच्छी ना होने के कारण बहुत से विद्यार्थी बीए जैसे कोर्स में दाखिला लेने के बाद स्कॉलरशिप चाहते हैं, और इसके लिए apply करते हैं। 

विद्यार्थी यह जानना चाहते हैं कि बीए का स्कॉलरशिप कितना आता है? 

यहां हमने इसी के बारे में अच्छे से बताने का प्रयास किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.