ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं? | Graduation mein kitne subject hote Hain

दोस्तों हर विद्यार्थी अपने लिए एक अच्छा करियर बनाना चाहता है, और उसके लिए वह अपने रूचि और जिस प्रोफेशन में वह जाना चाहता है उसके अनुसार अलग-अलग विषयों और अलग-अलग courses की पढ़ाई करता है।

दसवीं के बाद तो 12वीं ही है, और 12वीं के बाद विद्यार्थियों के पास कई ऑप्शन खुलते हैं। 

जैसे कि इंजीनियरिंग में जानने की इच्छा रखने वाले छात्र बीटेक जैसे कोर्स के लिए जाते हैं और मेडिकल में जाने की इच्छा रखने वाले छात्र एमबीबीएस या नर्सिंग जैसे कोर्स के लिए।

इनके अलावा बहुत से विद्यार्थी 12वीं के बाद simple graduation की तरफ भी जाते हैं।

बहुत से विद्यार्थी ग्रेजुएशन फिर पोस्ट ग्रेजुएशन आदि करके कई सारी क्षेत्रों में नौकरी लेते हैं।

12वीं के बाद सिंपल ग्रेजुएशन करने की सोचने वाले बहुत से विद्यार्थियों के मन में यह सवाल आता है कि ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

यदि वे 12वीं के बाद ग्रेजुएशन में दाखिला लेते हैं तो उन्हें कौन-कौन से विषय पढ़ने होंगे? आदि।

आज इस आर्टिकल में हम मुख्यत: यही जानेंगे कि ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं? ग्रेजुएशन में विद्यार्थियों को कितने विषय पढ़ने होते हैं?

Graduation में कुल subjects

ग्रेजुएशन में कितने विषय हैं, इसके बारे में जाने से पहले थोड़ा सा ग्रेजुएशन कोर्स के बारे में बात करते हैं।

ग्रेजुएशन एक डिग्री कोर्स है, ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद आपके पास एक स्नातक की डिग्री होती है।

Subjects की बात करें तो असल में आप किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन कर सकते हैं। 

मतलब निचली कक्षाओं से आप जो भी सब्जेक्ट पढ़ते हैं, जैसे कि मैथ, साइंस ( इसमें physics chemistry और biology), हिंदी, इंग्लिश, हिस्ट्री, ज्योग्राफी, इकोनॉमिक्स और भी अन्य subjects।

आप ग्रेजुएशन में किसी भी सब्जेक्ट को मुख्य सब्जेक्ट रखकर ग्रेजुएशन कर सकते हैं।

यानी आप ग्रेजुएशन में सिर्फ उस एक विषय की मुख्य रूप से पढ़ाई करेंगे, हालांकि उसके साथ कुछ अन्य विषय compulsory और optional subjects भी रहते हैं।

असल में ग्रेजुएशन कोई एक कोर्स नहीं है, जिसके अंदर कुछ निर्धारित सब्जेक्ट होते हैं।

ग्रेजुएशन के अंतर्गत बहुत से courses उपलब्ध होते हैं, और उन अलग-अलग courses के अंतर्गत अलग-अलग विषय आते हैं।

जैसे कि ग्रेजुएशन में सबसे पॉपुलर कोर्सेज में आपने बीए, बीकॉम और बीएससी का नाम सुना होगा।

Arts stream वाले ग्रेजुएशन में b.a. करते हैं, कॉमर्स स्ट्रीम वाले बीकॉम और साइंस स्ट्रीम वाले बीएससी।

मतलब आर्ट्स स्ट्रीम के अंतर्गत जितने विषय आते हैं आप उनमें ग्रेजुएशन या कहें ba कर सकते हैं, उसी तरह कॉमर्स स्ट्रीम के अंतर्गत आने वाले सारे विषयों में ग्रेजुएशन फिर साइंस स्ट्रीम के अंतर्गत आने वाले सारे विषयों में ग्रेजुएशन किया जाता है।

बीएससी बीकॉम और बीए ही ग्रेजुएशन के अंदर आने वाले मुख्य course है। सबसे ज्यादा विद्यार्थी इन्हीं तीनों में से किसी में दाखिला लेते हैं।

Graduation में बीएससी के विषय

बीएससी में तो साइंस के ही विषय आएंगे। बीएससी में आने वाले मुख्य विषय में Physics, Chemistry,  Mathematics , Botany, Zoology आदि आते हैं।

बीएससी में भी आप ऑनर्स या जनरल कर सकते हैं। आप किसी एक विषय में ऑनर्स कर सकते हैं, इसमें आप ग्रेजुएशन के तीनों साल एक ही मैन सब्जेक्ट पढ़ते हैं साथ में कुछ एडीशनल सब्जेक्ट भी होते हैं। 

जनरल में आप ग्रेजुएशन में पहले और दूसरे साल में तीन तीन सब्जेक्ट पढ़ते हैं और तीसरे साल में 2 सब्जेक्ट।

इन सब्जेक्ट्स का चुनाव आप अपने हिसाब से कर सकते हैं, हालांकि कुछ मेन सब्जेक्ट के साथ एडीशनल सब्जेक्ट फिक्स्ड होते हैं।

Graduation में बीकॉम के विषय

BCom के अंतर्गत आने वाले मुख्य सब्जेक्ट में Business Law, Economic, Banking, Tax, English, Mathematics, Information Technology आदि का नाम आता है।

इसमें भी बीएससी जैसा ही सिस्टम है। 

आप किसी भी एक विषय में ऑनर्स कर सकते हैं, या फिर जनरल से भी अभी कॉल कर सकते हैं।

एक सब्जेक्ट मुख्य और बाकी उसके साथ एडीशनल सब्जेक्ट होते हैं। फिर जनरल के लिए पहले और दूसरे साल में तीन तीन सब्जेक्ट और फिर दो सब्जेक्ट हैं।

Graduation में b.a के विषय

B.a. के मुख्य विषयों में हिंदी लिटरेचर, इंग्लिश लिटरेचर, हिस्ट्री, ज्योग्राफी, पॉलीटिकल साइंस और arts स्ट्रीम के अंदर आने वाले बाकी कई सारे विषय भी आते हैं।

B.a. में भी आप किसी एक सब्जेक्ट में honours कर सकते हैं या फिर जनरल से b.a. कर सकते हैं।

विषयों का चुनाव आप अपने हिसाब से कर सकते हैं, और वही, additional subjects में से कुछ fixed रहते हैं।

Graduation में कौन-कौन से course हैं?

जैसा कि हमने ऊपर कहा, यदि ग्रेजुएशन के विषयों की बात होती है, तो ग्रेजुएशन में आप कौन सा विषय पढ़ेंगे या graduation में कौन-कौन से विषय पढ़ने होते हैं यह निर्भर करता है कि आप कौन सा कोर्स चुनते हैं।

Mainly हम हम ग्रेजुएशन में बीएससी, बीकॉम और बीए के बारे में ही बात करते हैं। पर इनके अलावा भी ग्रेजुएशन के अंदर और बहुत से courses हैं।

इनके अलावा ग्रेजुएशन या कहें अंडर ग्रेजुएशन कोर्सेज में निम्नलिखित नाम आते हैं –

B.Tech – Bachelor of Technology

B.Ed. – Bachelor of Education 

B.F.A. – Bachelor of Fine Arts

B.Sc. Ag – Bachelor of Science in Agriculture

B.B.A. – Bachelor of Business Administration

B.H.M.S. – Bachelor of Homeopathic Medicine & Surgery

B.A.S. – Bachelor of Applied Sciences

B.H.M. – Bachelor of Hotel Management

B.L.Sc – Bachelor of Library Science

B.Ed.Al – Bachelor of Artificial Intelligence

B.I.S.M. –Bachelor of Information System Management

B.Des- Bachelor of Design

B.P.R. – Bachelor of Public relation

B.M.M. – Bachelor of Mass Media

B.V.Sc. – Bachelor of Veterinary Science

B.B.M. – Bachelor of Business Management

B.T.A. –Bachelor of Tourism Administration

B.A.LLB- Bachelor of Arts Bachelor of Law

B.Pharma – Bachelor of Pharmacy

LLB- Bachelor of Law

B.H.Ed – Bachelor of Health Care

B.P.Ed.- Bachelor of Physical Education

B.F.S. – Bachelor of Fishery Sciences

B.El.ED – Bachelor of Elementary Education

B.Arch – Bachelor of Architecture

B.H.T.M. – Bachelor of Hospitality & Tourist Management

B.M.L.T. – Bachelor of Medical Laboratory Technology

B.F.Tech – Bachelor of Fashion Technology

B.J.M.C. – Bachelor of Journalism & Mass Communication

B.M.S. – Bachelor of Management Studies

B.C.A – Bachelor of Computer Applications

B.D.S. – Bachelor of Dental Surgery

B.E. – Bachelor of Engineering

अब जाहिर है इन अलग-अलग कोर्स में पढ़ाई के हिसाब से अलग-अलग विषय भी पढ़ाए जाएंगे।

विद्यार्थी जिस भी कोर्स का चयन करते हैं, उसी के अनुसार उन्हें पढ़ने के लिए subjects चुनने होते हैं।

असल में 12th में आपने जिस भी स्ट्रीम से पढ़ाई की होगी, उन्हीं विषयों को ग्रेजुएशन में विस्तार से पढ़ाया जाता है।

और आप जिस क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं उस हिसाब से कोर्स और सब्जेक्ट चुनते हैं।

जैसा कि हमने ऊपर बीएससी बीकॉम और b.a. के subjects की बात की।

12th science स्ट्रीम से करने पर आप ग्रेजुएशन बीएससी (B.SC.) या बीटेक (B.Tech) से कर सकते हैं।

कुल मिलाकर ग्रेजुएशन में कई ऐसे कोर्स होते है जिनमें किसी भी स्ट्रीम से 12th पास करने वाला स्टूडेंट एडमिशन ले सकता है।

आपके कोर्स के अनुसार ही आप का सब्जेक्ट होता है और आपको उन्हीं को पढ़ना होता है।

एक जरूरी ध्यान रखने वाली बात यह है कि चाहे आप किसी भी कोर्स से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई को करें।

आपको अपने कोर्स के अंदर आने वाले subjects में से maximum 3 सब्जेक्ट को ही लेकर पढ़ना होता है।

ज्यादातर यूनिवर्सिटीज में एक ही सब्जेक्ट लेकर, ऑनर्स की पढ़ाई की सुविधा भी उपलब्ध होती है।

ग्रेजुएशन का कोर्स और सब्जेक्ट अच्छे से चुनना चाहिए क्योंकि आप उसी को पढ़कर आगे करियर में बढ़ेंगे।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने मुख्य तौर पर ग्रेजुएशन के विषयों के बारे में बात की है।

ग्रेजुएशन के अंतर्गत कई सारे कोर्स होते हैं और उन अलग-अलग courses के हिसाब से ग्रेजुएशन में अलग-अलग सब्जेक्ट पढ़ने होते हैं।

कुल मिलाकर आप किसी भी विषय में ग्रेजुएशन कर सकते हैं, अलग-अलग क्षेत्रों के लिए अलग-अलग graduation courses उपलब्ध हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.