BA की फीस कितनी है? | BA ki fees kitni hai

यहां इस लेख में हम b.a. की फीस के बारे में जानेंगे, b.a. की फीस कितनी होती है, बी ए का कोर्स करने में कितना खर्च आता है, अपने b.a. की पढ़ाई पूरी करने के लिए आपको कितने पैसों की जरूरत पड़ती है आदि जैसे सवाल कई सारे विद्यार्थियों के मन में आते हैं।

दोस्तों हर विद्यार्थी को अपने लिए करियर को चुनाव तो करना होता ही है, हर कोई चाहता है कि वह पढ़ाई करके अच्छी से अच्छी डिग्री पाकर, एक अच्छे से अच्छे पद पर कार्य कर सकें।

हर छात्र सिर्फ डॉक्टर और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में ही नहीं जाते, बहुत से छात्र 10वीं और फिर 12वीं पूरी करने के बाद ग्रेजुएशन में दाखिला लेते हैं, यहां हम ग्रेजुएशन में b.a. यानी बैचलर ऑफ आर्ट्स की बात कर रहे हैं।

दसवीं के बाद जो छात्र आर्ट्स स्ट्रीम को चुनते हैं, वह ग्रेजुएशन में b.a करते हैं।

यदि आप भविष्य में कोई सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं, या फिर arts स्ट्रीम के किसी विषय में शिक्षक या रिसर्च इत्यादि जैसे क्षेत्रों में करियर बनाना चाहते हैं, तो 12वीं के बाद b.a ही आपके लिए सबसे बेहतर विकल्पों में से है।

बहुत से छात्र आजकल बी ए का कोर्स करते हैं, यह दूसरे कोर्सेज से आसान और फायदेमंद भी रहता है।

B.a. करने की सोचने वालों के मन में एक सामान्य सवाल आ सकता है कि आखिर b.a करने में कितना खर्च आता है? इस लेख में हम इसी की बात करेंगे, जानेंगे की b.a की फीस कितनी होती है? (BA ki fees kitni hai)

B.a कोर्स क्या है?

सबसे पहले तो b.a. का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ आर्ट्स (bachelor of arts) होता है, ये arts stream के किसी भी सब्जेक्ट में बैचलर की डिग्री है जिसे हिंदी में कला स्नातक कहा जाता है।

बीए 3 वर्ष की अवधि का एक अंडर ग्रेजुएशन कोर्स होता है, जिसमें सामान्य तौर पर 3 साल में 6 सेमेस्टर होते हैं।

हो सकता है कुछ colleges में 1st year, 2nd year और 3rd year हो, इसकी जानकारी आपको कॉलेज से मिल जाएगी जिसमें आप बीए में दाखिला लेंगे।

बी ए का कोर्स आप रेगुलर या डिस्टेंस दोनों तरीके से कर सकते हैं। रेगुलर में आपको नियमित रूप से कॉलेज जाकर कक्षाएं पढ़नी पड़ती है, जबकि डिस्टेंस में आप घर से ही पढ़ाई करते हैं, सिर्फ परीक्षा देने के लिए ही कॉलेज जाना होता है।

रेगुलर से b.a. करने और डिस्टेंस से b.a. करने की फीस भी अलग-अलग होती है। अब b.a. की फीस के बारे में ही बात कर लेते हैं।

1. b.a. फर्स्ट ईयर की फीस कितनी है?

2. b.a. सेकंड ईयर की फीस कितनी है?

B.A की फीस कितनी होती है?

BA की फीस कितनी है?

हर छात्र जो 12वीं पूरी करके बीए में दाखिला लेने की सोचता है, उसके मन में यह सवाल जरूर रहता होगा कि b.a. की फीस कितनी होती है, जब आपका प्रश्न हो की b.a. कोर्स की फीस कितनी होती है, तो इसका कोई एक निर्धारित जवाब नहीं है।

कहने का मतलब यह है कि बी ए का कोर्स पूरा करने में आपको कितना खर्च आएगा यह कई बातों पर निर्भर करता है।

फीस कितनी होगी, इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि आप सरकारी कॉलेज से बी ए का कोर्स करते हैं या प्राइवेट कॉलेज से।

BA की फ़ीस कितनी है? (B.A ki fees kitni hai)

सरकारी कॉलेज में बीए की फ़ीस ₹3,000 से ₹25,000 रुपये तक होती हैं। तथा प्राइवेट कॉलेज में BA की फ़ीस ₹20,000 से ₹40,000 रुपये तक होती हैं।अलग-अलग कॉलेज में फ़ीस अलग होती हैं।

B.a. करने के लिए सरकारी और प्राइवेट दोनों ही कॉलेजेस उपलब्ध है, आप किसी से भी बीए कर सकते हैं, लेकिन सबसे बड़ी बात fees की ही हो जाती है।

जैसा कि सभी courses में होता है, यदि आप किसी सरकारी कॉलेज से b.a. करते हैं तो आपको किसी प्राइवेट कॉलेज से b.a. करने की तुलना में काफी कम पैसे खर्च करने पड़ते हैं।

जाहिर है सरकारी कॉलेज आपसे प्राइवेट कॉलेजेस की तुलना में कम फीस ही लेती है।

हमने बताया कि बीए 3 साल का कोर्स है जिसमें 6 सेमेस्टर होते हैं, आपको हर सेमेस्टर की परीक्षाएं भी देनी होती है, और परीक्षाओं के लिए रजिस्ट्रेशन फीस, एग्जामिनेशन फीस जैसे और भी कई सारे फीस हर सेमेस्टर भरने पड़ते हैं।

Private colleges में ये सारे charges भी सरकारी कॉलेज की तुलना में ज्यादा लगते हैं।

इसीलिए सबसे बेहतर यही रहता है कि आप एक सरकारी कॉलेज से बीए की पढ़ाई पूरी करें, यह कम खर्च में हो जाता है और सरकारी और प्राइवेट कॉलेज की डिग्री में कोई अंतर भी नहीं होता है।

आपको केवल एक सेमेस्टर की परीक्षा फीस के रूप में लगभग ₹650 रुपये देने पड़ते है, यानी कि कुल 6 सेमेस्टर के लिए आपको ₹3,900 से 4,000 रुपये तक रकम चुकाने पड़ते हैं।

एक average के तौर पर बात करें तो यदि आप अपना बीए का कोर्स किसी सरकारी कॉलेज से करते हैं, तो आसानी से सब मिला कर लगभग ₹10,000 से ₹15,000 रुपये में b.a पूरा कर सकते है।

वहीं अगर आप अपना बीए का कोर्स किसी प्राइवेट कॉलेज से करते है तो आपको सरकारी कॉलेज की तुलना में अधिक फीस देनी पड़ती है, प्राइवेट कॉलेज में आपको फीस के रूप में लगभग ₹20,000 से ₹25,000 रुपये या उससे भी कई ज्यादा, लाखों रुपए तक भी चुकाने पड़ सकते है।

सरकारी कॉलेज में B.A की फीस कितनी होती है?

सरकारी कॉलेज से ही बीए करना सबसे अच्छा रहता है, और ज्यादातर छात्र सरकारी कॉलेज से ही बीए करते हैं। हालांकि अलग-अलग सरकारी कॉलेज में भी फीस में थोड़ा बहुत अंतर हो सकता है।

1. B.A फर्स्ट ईयर की फीस कितनी है?

पर on average fees कम ही रहती है। सरकारी कॉलेज की बात करें तो इसमें पहले साल में एडमिशन के समय 2000-3000 admission fees, और उसके बाद सेमेस्टर की परीक्षाओं के लिए रजिस्ट्रेशन फीस और ऐडमिशन फीस जैसे charges लगते हैं।

2. B.A सेकंड ईयर की फीस कितनी है?

यानी कुल मिलाकर 1 साल में आपको लगभग ₹5000 तक का खर्च आता है, जो कि 3 साल में ज्यादा से ज्यादा 15000 तक  जाता है। इतने खर्च में ही आप एक सरकारी कॉलेज से अपने b.a. की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं।

Private college में B.A की फीस कितनी होती है?

Private colleges में b.a. की फीस सरकारी कॉलेज की तुलना में काफी ज्यादा होती है।

Private college में दाखिले के समय भी एडमिशन फीस बहुत अधिक लगता है इसके अलावा रजिस्ट्रेशन फीस और एग्जामिनेशन फीस जैसे charges तो रहते ही हैं।

Private colleges में भी वही बात है, कि यदि आप किसी बड़े प्राइवेट कॉलेज से बीए करते हैं तो आपको किसी छोटे प्राइवेट कॉलेज की तुलना में ज्यादा फीस देनी होती है।

एक average के तौर पर बात करें तो तो किसी प्राइवेट कॉलेज की पहले साल की b.a की फीस 10000 से 20000 या उससे भी ज्यादा हो सकती है, जो कि 3 साल में 60 हजार से ऊपर तक भी जा सकता है।

कुछ बड़े private colleges तो लाख रुपए से भी ज्यादा तक fess के तौर पर लेते हैं।


  1. B.a में कितने पेपर होते हैं ?
  2. ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं?
  3. आर्ट्स में कौन कौन सी जॉब होती है?

College fees के अलावा दूसरे खर्च भी होते हैं।

अगर बात करें की कुल कितने खर्च में आपकी b.a. की पढ़ाई पूरी होती है, तो उसमें सिर्फ कॉलेज फीस ही नहीं बल्कि उसके साथ कई सारे दूसरे खर्चे भी जुड़ते हैं।

जैसे कि कई colleges में b.a. करने वाले छात्र घर से दूर हॉस्टल लेकर भी रहते हैं, ऐसे में हॉस्टल का किराया, वहां रहने पर खाने-पीने में होने वाला खर्च आदि भी कुल खर्च में जुड़ता है।

या फिर यदि आपका कॉलेज आपके घर से दूर हो और आप रेगुलर कोर्स कर रहे हैं तो कॉलेज आने जाने के लिए भी पैसे खर्च करने पड़ते हैं जो कि 3 साल मिलाकर एक अच्छी खासी रकम बन सकती है।

हालांकि यह सारे खर्चे एकदम अनिवार्य नहीं होते हैं, विद्यार्थी इन्हें अपने अनुसार मैनेज कर सकते हैं।

जैसे कि आप खाने पीने में कितना खर्च करेंगे यह आप पर निर्भर करता है, हॉस्टल के अलावा आप कहीं कम खर्च में रूम लेकर भी रह सकते हैं, आदि।

B.A में B.A Honours और B.A General क्या होता है?

यादि आप b.a  General करते हैं, यानि की सामान्य बीए का कोर्स तो आपको तीन विषय पढ़ने होते हैं, बीए के प्रथम वर्ष और दुसरे वर्ष में आपको आपको वही 3 सब्जेक्ट पढने होंगे, और आपको तीनो सब्जेक्ट के एग्जाम भी देने होंगे, लेकिन बीए के तीसरे यानि की अंतिम वर्ष में आपको 2 सब्जेक्ट ही पढना होता है।

जब आप बीए के अंतिम वर्ष में जाते हैं, तो आप कोई एक सब्जेक्ट छोड़ सकते हो और आपको सिर्फ 2 सब्जेक्ट ही पढना होगा।

वहीं अगर आपने b.a general के स्थान पर BA Honours चुना है, तो आपको तीनो साल सिर्फ एक ही सब्जेक्ट की पढाई करनी होती है, BA General  की तरह इसमें 3 या दो सब्जेक्ट नही, बल्कि एक ही मुख्य सब्जेक्ट रहता है।

ऑनर्स में आप अपने मुख्य सब्जेक्ट के साथ कुछ एडीशनल सब्जेक्ट पढ़ते हैं जो सेमेस्टर दर सेमेस्टर बदलते रहते हैं।

परंतु विद्यार्थियों के लिए कई बार कई जगहों पर दिक्कत वाली बात यह हो जाती है कि BA Honours का कोर्स सभी कॉलेज में नही कराया जाता है ,सिर्फ कुछ कॉलेज में ही आपको BA Honours  की सुविधा  मिलती है।

Honours  ना मिलने पर आप जनरल भी कर सकते हैं, ज्यादातर जगहों पर डिग्री का महत्व सेम ही होता है बस आपको ऑनर्स में अपने सब्जेक्ट विशेष की ज्यादा जानकारी मिलती है।

B.a का कोर्स कैसे कर सकते हैं?

बात करें बी ए का कोर्स कैसे कर सकते हैं तो, सबसे पहले तो इसके लिए आपका किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से science commerce या arts stream में से किसी भी स्ट्रीम से कम से कम 50% अंकों के साथ 12वीं पास करना जरूरी होता है।

यदि आप साइंस स्ट्रीम से हैं, या फिर commerce स्ट्रीम से हैं तो भी आप ग्रेजुएशन में b.a. कर सकते हैं, लेकिन आर्ट्स स्ट्रीम के होने पर तो केवल बीए ही विकल्प है, आप बीएससी या बीकॉम नहीं कर सकते हैं।

एक सरकारी कॉलेज में b.a. में दाखिला लेने के लिए आपको ऑनलाइन उसका फॉर्म भरना होता है, और 12वीं में मार्क्स सही रहने पर एडमिशन लिस्ट में आपका नाम आ जाता है।

ज्यादातर कॉलेजेस में b.a. में दाखिला मेरिट बेस पर ही होता है।

यदि आप बड़े यूनिवर्सिटीज जैसे कि बीएचयू या जेएनयू इत्यादि से b.a. करना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देना होता है, एग्जाम पास करके ही आप इन यूनिवर्सिटीज से b.a. कर सकते हैं।

General colleges की बात करें तो आप 12वीं में जितने अच्छे अंक लाएंगे अच्छे कॉलेज में b.a में आप के दाखिले की संभावना उतनी ही ज्यादा होगी।

यानी कि आसान भाषा में बीए में दाखिले की प्रक्रिया समझे तो, आपको थोड़े अच्छे अंकों के साथ 12वीं पास करनी है, उसके बाद बीए में दाखिले के लिए कॉलेज का फॉर्म ऑनलाइन या ऑफलाइन भर देना है, फिर कॉलेज द्वारा जारी किए गए लिस्ट में यदि आपका नाम आता है तो कॉलेज में b.a. में आपका दाखिला हो जाएगा।

दाखिले के लिए जो एंट्रेंस एग्जाम होते हैं उनमें आए अंकों के हिसाब से छात्रों को पहले काउंसलिंग के लिए बुलाया जाता है और फिर collage allot किया जाता है।

Conclusion

इस लेख में हमने जाना कि बीए क्या है, और मुख्य तौर पर इस बात की चर्चा की, कि b.a की फीस कितनी होती है

अलग-अलग राज्यों के अलग अलग कॉलेज में फीस अलग अलग हो सकती है, इसका निर्धारण राज्य सरकार या फिर वह शिक्षण संस्थान भी करता है।

फीस का निर्धारण कॉलेज की फैसिलिटीज के आधार पर भी होता है। Colleges में BA की फीस समय-समय पर बदल भी सकती है प्रशासन द्वारा इसमें बदलाव किया जा सकता है।

सरकारी कॉलेजेस में तो इसका निर्धारण सरकार ही करती है, परंतु प्राइवेट कॉलेजेस में यह चीज ज्यादा देखने को मिलती है।

किसी भी कॉलेज में b.a. में दाखिले से पहले आप उस कॉलेज की फीस ऑनलाइन वेबसाइट या फिर कॉलेज जाकर भी पता कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.