UPSC में कितने सब्जेक्ट होते हैं? (upsc subject list in hindi)

यहां इस लेख में हम यूपीएससी के सब्जेक्ट की बात करेंगे, यूपीएससी में कितने विषय होते हैं?, यूपीएससी की तयारी में किन विषयों को पढ़ना होता है?, आदि।

सिविल सर्विसेज में जाने की सोचने वाला हर विद्यार्थी यूपीएससी के बारे में निश्चित रूप से जानता होगा। दोस्तों Civil Services एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें जाने की इच्छा लाखों विद्यार्थियों की होती है।

बहुत से विद्यार्थी बचपन से एक आईएएस या आईपीएस अधिकारी बनने का सपना देखते हैं, इन पदों पर कार्य करने की अपने ही प्रतिष्ठा होती है।

जो भी विद्यार्थी सिविल सेवाओं में जाना चाहते हैं वे एक ही परीक्षा की तैयारी करते हैं जिसका नाम है upsc.

यहां हम इसी की बात करेंगे कि UPSC के अंदर आपको कितने विषय पढ़ने होते हैं, UPSC में कौन-कौन से विषय अनिवार्य और UPSC में कौन से विषय ऑप्शनल होते हैं, कोई विद्यार्थी किन विषयों में से चुनाव कर सकता है, आदी।

Upsc क्या है?

विषयों के बारे में जानने से पहले संक्षिप्त में जान लेते हैं कि UPSC है क्या?

UPSC का पूरा नाम यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (union public service commission) है, जिसे हिंदी में संघ लोक सेवा आयोग कहते हैं।

भारतीय प्रशासनिक सेवा ( IAS), भारतीय विदेश सेवा (IFS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS), भारतीय राजस्व  सेवा (IRS) और इसके अलावा CDS, SCRA, IRPS जैसे अन्य  24 सम्मानित पदों पर जो भर्ती होती है, वह UPSC द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करने के बाद ही होती है।

यानी कि सिविल सर्विस के लिए जो अनिवार्य परीक्षा होती है, CSE (civil service examination) उसे UPSC द्वारा ही आयोजित किया जाता है।

यह एक आयोग है जो ऐसे पदों पर भर्ती के लिए upsc की परीक्षा आयोजित करता है। इसकी स्थापना 1 oct 1926 को हुई थी। 

UPSC (संघ लोक सेवा आयोग ) द्वारा हर साल सिवल सेवा परीक्षा का आयोजन किया जाता हैं, जिसमें लाखों छात्र परीक्षा में बैठते हैं, और उनमें से हजार के आस पास ही अधिकारी बन पाते हैं, जो अपने आप में इस परीक्षा के level को दर्शाता है।

UPSC ही सभी Indian सेवाओं और केंद्रीय सेवाओं के ग्रूप A और ग्रूप B के लिए नियुक्तियां करता है। यूपीएससी पूरे भारत के सबसे कठिन परीक्षा में आता है।

UPSC के अंदर ग्रूप A और ग्रूप B  के अंतर्गत 24 पोस्ट आते हैं, जिसमें upsc exam के ranking के अनुसार आप पद पर नियुक्त किए जाते हैं।

आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS), आईएफएस (IFS) यूपीएससी में सबसे top level के पद देते हैं।

यूपीएससी (UPSC) में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

यूपीएससी में कौन कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

दोस्तों UPSC को भारत की सबसे कठिन परीक्षा ऐसे ही नहीं कहा जाता है, UPSC का सिलेबस इतना vast होता है कि इसे पूरा कवर करने के लिए आपको बहुत ज्यादा समय और फोकस की जरूरत पड़ती है।

UPSC की तैयारी करने वाले ऐसा भी कहते हैं कि इसमें सूरज के नीचे आने वाली हर चीज के बारे में पूछा जा सकता है।

कहने का मतलब यही है कि UPSC की तैयारी है आपको बहुत से अलग-अलग क्षेत्र का नॉलेज रखना पड़ता है, UPSC की परीक्षा में किसी भी क्षेत्र से प्रश्न पूछे जा सकते हैं।

जैसे कि General knowledge और current affairs के अंतर्गत हर क्षेत्र के सवाल ही आ जाते हैं। और आपको इसी अनुसार तैयारी भी करनी होती है। 

भले ही vast हो, पर UPSC का भी अपना एक निर्धारित सिलेबस होता है। जिसके अंदर पढ़े जाने वाले विषयों और उनके अंदर आने वाले टॉपिक्स की सूची होती है।

UPSC की तैयारी में बहुत से विषय अनिवार्य होते हैं, जबकि कुछ विषय आप अपने अनुसार चुन सकते हैं जो optional होते हैं।

अब हम जानते हैं कि UPSC की परीक्षा में आने वाले प्रश्न पत्रों में किन विषयों से सवाल पूछे जाते हैं। 

UPSC की परीक्षा के Subjects

UPSC की परीक्षा तीन चरण में होती है, पहले चरण और दूसरे चरण की परीक्षा लिखित होती है। आखरी सबसे कठिन चरण इंटरव्यू का होता है। 

UPSC prelims इसका सबसे पहला चरण है, upsc prelims में दो paper होते हैं, दोनों ही प्रश्न पत्र अनिवार्य होते है। यह परीक्षा कुल 400 अंक का होता है, हर एक प्रश्न पत्र से अब से 200 अंक के प्रश्न पूछे जाते हैं।

इसमें आपसे current affairs, राजनीतिक शास्त्र सामान्य विज्ञान इतिहास भूगोल जैसे विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं।

जो छात्र पहले चरण की परीक्षा पास करते हैं उन्हें ही दूसरे चरण के परीक्षा के लिए बुलाया जाता है।

दूसरे चरण की परीक्षा में कुल 9 paper होते हैं। जिसमें से दो सिर्फ qualifying होते हैं, यानी उसमें आपको पास अंक लाने जरूरी है।

बाकी बचे 7 papers में से दो question paper ऑप्शनल होते हैं, इन दोनों पेपर में आप किसी एक विषय पर परीक्षा दे सकते हैं। इसमें चार paper सामान्य अध्ययन जैसे विषय से पूछे जाते हैं तथा एक paper निबंध का होता है।

Upsc के Main subjects

General Studies Paper -1 Syllabus 

  • General Science 
  • History of India & Indian National Movements
  • Current events of national & International Important 
  • Indian & World Geography- Physical, Social Economic Geography of India & World 
  • Economic & Social Development – Sustainable Development, Poverty, Inclusion, Demographics, Social Sector Initiatives, etc.
  • Indian Polity & Governance – Constitution, Political System, Panchayati Raj, Rights issues, Public Policy, etc.
  • General issues on Environmental ecology, Biodiversity & Climate change.

अभी सभी विषयों के बारे में एक-एक करके संक्षिप्त में जान लेते हैं, कि इनके अंतर्गत किन चीजों को पढ़ना होता है।

1. General Science 

इस विषय के अंतर्गत मुख्यत: जनरल साइंस और जनरल नॉलेज आते हैं। विज्ञान के सभी क्षेत्रों से इसमें प्रश्न रहते हैं इसीलिए इसकी शुरुआत से ही अच्छे से पढ़ाई करनी चाहिए।

यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है, क्योंकि इसके अंतर्गत बहुत से क्षेत्र के प्रश्न आ जाते हैं। Physics, chemistry, biology और इसके अलावा विज्ञान के दूसरे विषय और साथ ही गणित आदि के भी सामान्य प्रश्न इसमें रहते हैं।

इस विषय से असल में आपकी बौद्धिक क्षमता की परीक्षा ली जाती है, क्योंकि इसमें आपको सभी प्रश्नों को सही से याद रखना होता है।

यह वह विज्ञान नहीं है जिसमें आप किसी एक विषय का गहन अध्ययन करते हैं, इसमें आपको सभी विषयों को एक साथ लेकर चलना होता है। क्योंकि साइंस के किसी भी विषय के सामान्य प्रश्न इसमें पूछे जा सकते हैं।

2. History of India & Indian National Movements

इतिहास तो UPSC के main सब्जेक्टस् में आता ही है। इसके अंदर आपको भारत का इतिहास और भारत में होने वाले इतिहास के प्रमुख आंदोलनों के बारे में पढ़ना होता है।

हमारे भारत देश का इतिहास काफी बड़ा और रोचक भी है, इतिहास की बहुत सारी ऐसी घटनाएं या कहें आंदोलन है, जिनके बिना आज का भारत संभव नहीं होता।

किस प्रकार आंदोलनों ने भारत के इतिहास में भूमिका निभाई है, आंदोलन कब और किन के द्वारा किए गए, उनका उद्देश्य और भारत के इतिहास के बारे में और भी कई सारी चीजें आप इस विषय में पढ़ते हैं।

समय के साथ भारत का इतिहास किस तरह बदला है, किन लोगों ने इसमें कैसे भूमिकाएं निभाई है, आदि के बारे में भी प्रश्न पूछे जाते हैं। इस विषय की तैयारी आपको अच्छे किताब से करनी चाहिए।

3. Current events of national & International Importance

Current affairs भी UPSC के सबसे मुख्य विषयों में आता है। यदि आपको यूपीएससी की परीक्षा पास करनी है तो आपको हर क्षेत्र के करंट अफेयर्स के बारे में सही सही जानकारी रखनी जरूरी होती है।

सिर्फ हमारे देश के ही नहीं बल्कि विदेश की भी सारे जरूरी करंट अफेयर्स आपको पता होने चाहिए।

लिखित परीक्षा के साथ-साथ इंटरव्यू में भी इस विषय की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

हाल फिलहाल में होने वाली ऐसी घटनाएं जो राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय महत्व की हों, वे सारे इंपोर्टेंट करंट अफेयर्स में आते हैं।

Current affairs up to date रखने के लिए आप को नियमित रूप से अखबार और उसके साथ विशेष तौर पर इसके लिए आने वाली megaines पढ़ते रहने चाहिए।

UPSC में करंट अफेयर एक अनिवार्य और मुख्य सब्जेक्ट होता है।

4. Indian & World Geography- Physical, Social Economic Geography of India & World 

इतिहास के साथ-साथ भारत और पूरे विश्व का भूगोल भी UPSC के प्रमुख विषयों में है।

यह UPSC की परीक्षा के सबसे अहम विषयों में से एक है, जिसमे आपको भारत की भौगोलिक संरचना तथा भारत के भूगोल से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

भूगोल से संबंधित प्रश्न जैसे – भारत में कितनी नदीयां हैं, कौन सी नदी किस किस राज्य से होकर गुजरती है, आदि। भारत के वर्षा वनों, स्थल आकृतियों आदि के बारे में प्रश्न पूछे जाते हैं।

इसके साथ ही भारत के मौसम, जलवायु, आदी से संबंधित प्रश्न ही भूगोल के अंतर्गत ही आते हैं।

भूगोल विषय का अध्ययन हम निचली कक्षाओं से ही करते हैं इसीलिए यदि UPSC लक्ष्य है तो निचली कक्षाओं से ही इन विषयों पर अच्छे से ध्यान देने की जरूरत रहती है।

5. Economic & Social Development – Sustainable Development, Poverty, Inclusion, Demographics, Social Sector Initiatives, etc.

इस विषय के अंतर्गत मुख्य रूप से देश की आर्थिक स्थिति और आर्थिक व्यवस्था के बारे में पढ़ा जाता है।

देश में किस प्रकार सोशल डेवलपमेंट हो रहा है और किस तरह होना चाहिए, सस्टेनेबल डेवलपमेंट किसे कहते हैं, किस तरह से सस्टेनेबल डेवलपमेंट किया जा सकता है आदि।

फिर देश की गरीबी के बारे में, inclusion, demographics और इसके साथ सोशल सेक्टर में किस तरह की इनीशिएटिव्स लिए जा रहे हैं, किस तरह उसका विकास किया जा सकता है, आदि जैसी चीजें ही इस विषय के अंदर पढ़नी होती है।

यह भी एक इंपॉर्टेंट विषय है, इसकी अच्छे से पढ़ाई करना जरूरी है।

6. Indian Polity & Governance – Constitution, Political System, Panchayati Raj, Rights issues, Public Policy, etc.

चूंकि UPSC में प्रशासनिक सेवा यानी भारतीय संविधान और सामाजिक न्याय से संबंधित कार्य होते हैं।

इसीलिए इस परीक्षा में आपसे भारत की राजनीति, भारतीय संविधान, सामाजिक न्याय, इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय कानून और अंतरराष्ट्रीय संबंध के विषय के बारे में भी पढ़ना होता है।

इसमें आपको भारत के विदेशी और अंतरराष्ट्रीय मामलों की पढ़ाई करनी होती है।

देश के संविधान में किस काम के लिए कौन सा कानून है यह जानना जरूरी है ताकि आपको देश के संविधान और कानून की सही जानकारी हो सके, और आप  प्रशासनिक सेवा में इन नियमों का पालन अच्छे तरीके से कर सकें।

7. General issues on Environmental ecology, Biodiversity & Climate change.

यह भी UPSC का एक जरूरी विषय है जिसमें हमारे देश में पाए जाने वाले विभिन्न प्रकार के जानवरों तथा पेड़ों के बारे में यानी हमारे देश के जैव विविधता से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

देश मे किस प्रकार की प्राकृतिक आपदाएं आती हैं, इसमें आपको प्राकृतिक आपदाओं के बारे में पढ़ाया जाता है।

इन अदाओं से बचना कैसे है, उसके लिए सुरक्षा प्रबंधन के बारे में पढ़ाया जाता है।

General Studies- 2 Paper (CSAT Syllabus)

1. Logical reasoning & Analytical ability 

इस विषय में लॉजिकल रीजनिंग के प्रश्न रहते हैं, थ्योरी पेपर में इसकी परीक्षा देनी जरूरी होती है।

विद्यार्थी की इस तरह के प्रश्नों के लिए एनालिटिकल एबिलिटी जांचने के लिए इस विषय को रखा गया है। अच्छी तरह से इसकी पढ़ाई करने पर विषय आसान ही होता है।

2. Comprehension

कंप्रीहेंशन का मतलब समझना होता है, यह समानत: अंग्रेजी से जुड़ा विषय है। इसमें आपको आर्टिकल पढ़कर उससे संबंधित उत्तर देने होते हैं।

सुनने में यह सहज लग सकता है पर UPSC के कंप्रीहेंशंस high level के होते हैं जिसके लिए अच्छी नॉलेज होना जरूरी है। यह भी एक अच्छा विषय है जिसमें नंबर लाए जा सकते हैं।

3. Interpersonal Skills including communication skills.

प्रशासनिक सेवा में जाने के लिए अच्छे कम्युनिकेशन स्किल्स और अच्छा इंटरपर्सनल स्किल होना भी जरूरी होता है।

इसीलिए यूपीएससी के सिलेबस में इस तरह के विषयों को रखा गया है। इन विषयों की भी परीक्षा ली जाती है।

4. Decision Making & Problem Solving 

यह एक ऐसा सब्जेक्ट है जिसकी तैयारी आपको खुद से ही करनी पड़ेगी, क्योंकि यह विद्यार्थियों के लिए चुनौती वाला सब्जेक्ट होता है जिसका समाधान आपको खुद पढ़कर करना होता है।

हम कोई लक्ष्य प्राप्त करने के लिए गोल बनाते हैं, उसी तरह इस सब्जेक्ट की समस्या हल करने के लिए भी आपको लक्ष्य बनाना होता है, तभी आप इन समस्याओं से समाधान पा सकते हैं।

5. General Mental ability 

इस विषय के अंतर्गत आपको बहुत ही अधिक जटिल घुमावदार तथा दिमाग को भ्रमित करने वाले प्रश्न पूछे जाते हैं।

इसके अंतर्गत आपकी मेंटल एबिलिटी से रिलेटेड क्वेश्चन पूछे जाते हैं, जो कि बिल्कुल रिजनिंग की तरह होता है, जिसे आप आसानी से हल कर सकते हैं, बशर्ते आपने इसकी अच्छी तरह से प्रैक्टिस की हो।

6. Basic numeracy  

इसके अंदर आपको न्यूमेरिकल्स से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। Basic numericals के प्रश्न किस तरह सॉल्व किए जाते हैं, इसके बारे में पता होना जरूरी होता है। यह भी एक इंपॉर्टेंट विषय है, आप इसकी अच्छे से तैयारी कर सकते हैं।

UPSC के optional subjects

Main subjects के अलावा यूपीएससी में बहुत से ऑप्शनल सब्जेक्ट भी होते हैं।

ऑप्शनल का मतलब ही है, इनमें से आपको जो विषय सही और आसान लगता है आप उसे चुन सकते हैं ताकि आप अच्छे से अच्छे नंबर ला पाए। Upsc के optional subjects की सूची –

  • Physics 
  • Chemistry 
  • Biology
  • Indian History
  • Statics 
  • Electrical Engineering 
  • Economics
  • Medical Science 
  • Mathematics 
  • Botany 
  • Civil Engineering 
  • Agriculture 
  • Essay
  • Psychology
  • Animal Husbandry & Veterinary 
  • Anthropology
  • Philosophy
  • Political Science 
  • Law
  • Management
  • Mechanical Engineering
  • Statistics
  • Anthropology
  • Zoology 
  • Sociology

UPSC के optional Literature Subjects-

UPSC में आपको एक ऑप्शनल लिटरेचर सब्जेक्ट भी चुनना होता है। इसमें आप निम्नलिखित विषयों में से चुन सकते हैं –

  • Hindi
  • English
  • Assamese
  • Dogri
  • Bodo
  • Bengali 
  • Gujarati 
  • Kashmiri
  • Kannada
  • Maithili
  • Konkani
  • Manipuri
  • Malayalam
  • Nepali
  • Marathi
  • Punjabi
  • Santhali
  • Tamil
  • Sanskrit
  • Sindhi
  • Urdu
  • Oriya
  • Telugu

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने UPSC के सभी सब्जेक्ट के बारे में जाना। देश में आईएएस आईपीएस बनने के लिए यूपीएससी की परीक्षा अनिवार्य रूप से पास करनी होती है।

UPSC द्वारा आयोजित सिविल परीक्षा को पास करके ही आप आईएएस या आईपीएस सहित इस जैसे कुछ दूसरे पदों पर कार्य कर सकते हैं।

पर UPSC की परीक्षा पास करके आपको जितनी ऊंचे पद पर नौकरी मिलती है, उसे पास करने के लिए आपको उतनी ही ज्यादा मेहनत भी करनी पड़ती है।

हर विद्यार्थी जो UPSC की तैयारी करना चाहता है, उसके लिए यह जरूरी है कि उसे इस परीक्षा के बारे में सभी जरूरी चीजें पता हो, और UPSC के अंतर्गत आने वाले विषय, उन्हीं सबसे जरूरी चीजों में से है।

इससे संबंधित कोई भी सवाल यदि आपके मन में है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

3 thoughts on “UPSC में कितने सब्जेक्ट होते हैं? (upsc subject list in hindi)”

  1. आपके इस प्यारे आर्टिकल में समस्त जानकारियां हम विद्यार्थियों के डाउटस क्लियर करने के लिए बोहोत बढ़िया है।
    और आपको आभार धन्यवाद इतनी जानकारियां जुटाकर हम तक पोहोचने के लिए।
    Upsc अपने आप में एक बेहतरीन प्लेटफार्म है बोहोत कुछ करने का।
    धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.