आईएएस के लिए कौन सी डिग्री चाहिए? | IAS ke liye kaun si degree chahie

दोस्तों आज के समय में लाखों युवाओं का सपना भविष्य में एक आईएएस ऑफिसर बनने का होता है।

जब देश के सबसे उच्च पदों पर नौकरी की बात होती है तो उसमें लोक सेवा में  एक आईएएस अधिकारी का पद सबसे ऊंचे पदों में आता है।

हर साल कुछ limited पदों पर ही आईएएस अधिकारियों की नियुक्ति होती है लेकिन उसके लिए लाखों की संख्या में आवेदन आते हैं।

एक आईएएस ऑफिसर का पद सबसे प्रतिष्ठित और सम्माननीय नौकरी है। ऐसे में लोक सेवा में जाने में रुचि रखने वाले जी जान लगाकर आईएएस के लिए प्रिपरेशन करते हैं। 

जो विद्यार्थी भविष्य में एक आईएएस ऑफिसर बनने की सोचते हैं, शुरुआत में उनके मन में उनके मन में एक सवाल जरूर ही आता होगा कि आखिर देश के इतने बड़े सरकारी पद यानी कि एक आईएएस बनने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए होती है?

आईएएस के लिए कौन सी डिग्री चाहिए?

आईएएस बनने के लिए कौन सी डिग्री जरूरी है? 

आज इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में बात करेंगे। जानेंगे कि आई ए एस के लिए कौन सी डिग्री जरूरी होती है? क्या आईएएस के लिए कोई डिग्री अनिवार्य होती है? आदि।

IAS बनने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए?

जैसे कि एक इंजीनियर बनने के लिए आपके पास इंजीनियरिंग या कहें कम से कम बीटेक की डिग्री होनी चाहिए, और डॉक्टर बनने के लिए एमबीबीएस की, उसी तरह यदि आईएएस बनने के लिए जरूरी डिग्री की बात करें तो इसका जवाब होगा ‘ग्रेजुएशन’।

मतलब कि आपके पास यदि ग्रेजुएशन की डिग्री है, आपने अपनी ग्रेजुएशन पूरा कर लिया है तो आप आईएएस के लिए परीक्षा में बैठ सकते हैं।

और सबसे जरूरी यह परीक्षा ही होती है। यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ऑफ इंडिया के द्वारा हर साल आईएएस, आईपीएस और आई एफ एस officers समेत अन्य कई सेवाओं में भर्ती के लिए सिविल सर्विस की परीक्षा आयोजित की जाती है।

पर यदि सिर्फ जरूरी डिग्री या मिनिमम रिक्वायर्ड क्वालीफिकेशन की बात करें तो यूपीएससी के नोटिफिकेशन के तहत आईएएस बनने के लिए न्यूनतम योग्यता स्नातक यानी ग्रेजुएशन की ही रखी गई है। 

ग्रेजुएशन की डिग्री आपको यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए एलिजिबल बना देती हैं।

ग्रेजुएशन पूरा कर चुके या ग्रेजुएशन के लास्ट ईयर के छात्र भी यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

हालांकि विद्यार्थियों के आईएएस बनने का ग्रेजुएशन की डिग्री से कोई खास संबंध नहीं होता मतलब कि आप यूपीएससी की परीक्षा में कैसा perform करते हैं, मायने यह रखता है।

IAS के लिए ग्रेजुएशन में कितने अंक होने चाहिए?

अब जब हम यह जानते हैं कि आईएएस बनने के लिए ग्रेजुएशन की डिग्री जरूरी होती है तो फिर यह प्रश्न भी आ सकता है कि आईएएस बनने के लिए ग्रेजुएशन में किसी उम्मीदवार के कितने अंक होने चाहिए? या आईएएस बनने के लिए ग्रेजुएशन में मिनिमम कितने नंबर लाने होते हैं?

तो दोस्तों जैसा कि हमने ऊपर भी बताया की ग्रेजुएशन सिर्फ जरूरी क्वालिफिकेशन हो जाती है, यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए।

आपके ग्रेजुएशन में नंबर कितने आए हैं, यह मायने नहीं रखता। आप मिनिमम अंकों के साथ ग्रेजुएशन पूरा करके भी यूपीएससी की परीक्षा में बैठ सकते हैं। और यदि आपने इस परीक्षा के सारे चरण अच्छे से पास कर लिए, तो आप आईएएस भी बन जाएंगे।

बस उम्मीदवार का ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है, फिर चाहे वह कितने भी अंकों के साथ हो। अब कितने भी अंको से मतलब है कि उम्मीदवार को minimum passing marks तो लाने होते ही हैं।

चाहे आप ग्रेजुएशन में 55% अंक लाए, चाहे 60% या 80 या 90 इससे आपके यूपीएससी के परिणाम या कहें आईएएस बनने में कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा।

हां, एक बात यह हो सकती है कि आपका ग्रेजुएशन में जो भी main सब्जेक्ट रहा हो और वही सब्जेक्ट यदि आपने यूपीएससी में ऑप्शनल विषय के तौर पर लिया है तो फिर यदि आप अपने उस सब्जेक्ट में अच्छे नंबर लाते हैं तो उसका फायदा आपको यूपीएससी की परीक्षा में उस सब्जेक्ट की तैयारी में मिल सकता है।

मतलब आप ग्रेजुएशन में ही उस सब्जेक्ट को अच्छे से पढ़ लेंगे, तो यूपीएससी की तैयारी में आपको आसानी होगी। हालांकि बात फिर वही है कि ग्रेजुएशन के अंको से प्रभाव नहीं पड़ता है।

आईएएस के लिए ग्रेजुएशन में कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए?

हमने जान लिया कि आईएएस की परीक्षा में बैठने के लिए ग्रेजुएशन जरूरी है, फिर यह भी जाना कि ग्रेजुएशन के मार्क्स मायने नहीं रखते, आपको यूपीएससी की परीक्षा अच्छे से पास करनी होती है।

अब जब आईएएस के लिए ग्रेजुएशन जरूरी है तो यह सवाल भी काफी लोगों के मन में आ सकता है कि आईएएस के लिए ग्रेजुएशन में कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए? या कौन सा सब्जेक्ट सही रहता है?

तो दोस्तों इस प्रश्न का उत्तर भी पहले प्रश्न के उत्तर जैसा ही है मतलब की जिस तरह से आप के ग्रेजुएशन के मार्क्स मायने नहीं रखते, उसी तरह आपने किस विषय से ग्रेजुएशन किया है यह भी मायने नहीं रखता।

12वीं के बाद ग्रेजुएशन में दाखिला लेते समय चाहे आपने साइंस स्ट्रीम का विषय चुना, या कॉमर्स स्ट्रीम का, या फिर आर्ट्स स्ट्रीम का आईएएस की परीक्षा में बैठने के लिए आपकी ग्रेजुएशन का विषय किसी भी स्ट्रीम का कोई भी विषय हो सकता है।

चाहे आप ग्रेजुएशन में बीएससी करें या बीकॉम या b.a., यदि आप ग्रेजुएट हो चुके हैं तो आप यूपीएससी में बैठने के लिए एलिजिबल है।

हां, ऐसे कुछ विषय हैं जिनमें यदि आप ग्रेजुएशन करते हैं तो यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी में आपको फायदा मिल सकता है।

हिस्ट्री, जियोग्राफी या इकोनॉमिक्स जैसे विषय यदि आप ग्रेजुएशन में लेते हैं तो फिर बाद में यूपीएससी के ऑप्शनल पेपर में आप इनका चुनाव कर सकते हैं और उस समय आपको इसका फायदा मिलेगा।

सिर्फ यही नहीं यूपीएससी के ऑप्शनल पेपर में और भी बहुत से विषयों के विकल्प रहते हैं, जिनमें साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स के बहुत से विषय आते हैं।

आप उनमें से किसी भी विषय में ग्रेजुएशन करके यूपीएससी की परीक्षा में बैठ सकते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने बात की कि आईएएस बनने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए?

IAS जैसी नौकरी का देश में अलग ही क्रेज है, बहुत से युवा आईएएस बनने का सपना देखते हैं, और उनके लिए यह जरूरी है कि उन्हें इससे और इसकी परीक्षा से संबंधित सारी जरूरी बातें पता हो।

आईएएस के लिए कौन सी डिग्री जरूरी होती है यह सवाल कई विद्यार्थियों के मन में आता है, और हमने यहां यही जाना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.