सिविल इंजीनियर की सैलेरी कितनी होती है? | Civil engineer ki salary kitni hoti hai

दोस्तों विद्यार्थियों के लिए करियर ऑप्शंस की बात आने पर engineering सबसे ज्यादा विद्यार्थियों द्वारा चुने जाने वाले professions में आता है।

हर साल लाखों करोड़ों की संख्या में विद्यार्थी इंजीनियरिंग के अलग-अलग कोर्सेज में दाखिला लेते हैं।

Engineering के अंतर्गत कई सारे ट्रेड उपलब्ध होते हैं जैसे कि मैकेनिकल, कंप्यूटर साइंस, सिविल आदि। विद्यार्थी जिस भी ट्रेड को चुनते हैं, वे उसी में इंजीनियर बनते हैं।

सिविल इंजीनियरिंग भी काफी विद्यार्थियों द्वारा चुना जाता है, उसकी पढ़ाई करके विद्यार्थी सिविल इंजीनियर बनते हैं।

अब बहुत से विद्यार्थियों के मन में यह सवाल आता है कि एक सिविल इंजीनियर की सैलेरी कितनी होती है?

या सिविल इंजीनियर महीने का कितना कमाते हैं? इस आर्टिकल में यहां हम मुख्यतः इसी की बात करेंगे।

सिविल इंजीनियर की सैलेरी कितनी होती है?

जानेंगे एक सिविल इंजीनियर की सैलेरी कितनी होती है, सिविल इंजीनियर क्या काम करते हैं जिसकी उन्हें सैलरी मिलती है।

जो छात्र इंजीनियरिंग में दाखिला चाहते हैं, उन्हें इन सब चीजों की जानकारी होनी चाहिए ताकि एडमिशन लेते समय वे अपने लिए  बेहतर इंजीनियरिंग ट्रेड चुन सकें जिसमें से सिविल इंजीनियरिंग भी एक है।

सिवल इंजीनियर सैलरी (Civil Engineering Salary)

Private Sector में एक सिविल इंजीनियर की शुरुआती सैलरी औसतन 25-35 हज़ार रुपए प्रति महीने तक रहती है। 3-4 साल या इससे ज्यादा का अनुभव हो जाने के बाद सैलरी 1 लाख प्रति महीने तक भी जा सकती है। वहीं सरकारी सिविल इंजिनियर के case में भी शुरुआत में सैलरी 30-35 हज़ार रुपए प्रति महीने और कुछ सालों का अनुभव हो जाने के बाद ₹100000 प्रति महीने से ज्यादा की हो सकती है।

Salary के बारे में और विस्तार से बात करने से पहले यदि हम थोड़ा सिविल इंजीनियर के काम यानी सिविल इंजीनियरिंग की बात करें तो दैनिक जीवन में हम जो overbridge, बड़े-बड़े Dams (बांध), बड़ी बड़ी buildings, अच्छे roads और मकान आदि देखते हैं, इनके नक्से और डिज़ाइन आदि बनाने का काम इन्हीं civil engineers का होता है।

बड़े बड़े प्रोजेक्ट्स, सिविल इंजीनियर की देखरेख में ही बनाए या बनवाए जाते हैं।

आसान भाषा में सिविल इंजीनियर के काम को आप निर्माण कार्य समझ सकते हैं।

Civil engineering एक प्रोफेशनल इंजीनियरिंग कोर्स है जिसके बाद आप सरकारी या प्राइवेट सेक्टर में सिविल इंजीनियर के तौर पर काम पा सकते हैं।

construction का इनका काम काफी जिम्मेदारी भरा होता है।

अब यदि सैलरी की बात करें तो ऐसा नहीं है कि हर सिविल इंजीनियर की एक fixed सैलरी होती है।

अलग-अलग सिविल engineers की सैलरी में अंतर होता है, कहने का मतलब यह है कि एक सिविल इंजीनियर की सैलरी कितनी होगी यह निर्भर करता है कि वह किस कंपनी के लिए काम कर रहा है, वह सिविल इंजीनियर सरकारी या फिर प्राइवेट सेक्टर में कार्यरत है, उसके पास कितने साल का एक्सपीरियंस है, वह अकेले या फिर ग्रुप में काम कर रहा है, आदि।

इसलिए जब भी सिविल इंजीनियर की सैलरी के बारे में बताया जाता है तो एक औसत सैलरी बताई जाती है।

बिल्कुल शुरुआत में एक सिविल इंजीनियर की औसत सैलरी कितनी तक की हो सकती है, फिर जैसे-जैसे काम में उनका अनुभव बढ़ता है वैसे वैसे किस तरह उनकी सैलरी में बढ़ोतरी होती है।

इन्हें भी पढ़ें

Civil engineer की औसतन Monthly Salary

Civil engineer की average salary सैलरी की बात करें तो बिल्कुल शुरुआत में एक सिविल इंजीनियर की महीने की तनख्वाह ₹20000 लेकर ₹30000 तक के बीच रह सकती है, और जैसे-जैसे अपने काम के इस क्षेत्र में इन्हें अनुभव मिलता जाता है, वैसे-वैसे उसकी सैलरी में वृद्धि होती है।

1 से 2 साल के अनुभव के बाद ही उनकी सैलरी 40-45 हज़ार तक भी पहुंच सकती है।

काम का थोड़ा अनुभव हो जाने के बाद एक सिविल इंजीनियर की तनख्वाह काफी अच्छी- खासी हो जाती है।

पर सिविल इंजीनियर टीम बनाकर भी काम कर सकते हैं, और इससे उनकी कमाई लाखों तक पहुंच सकती है, क्योंकि कई बार अच्छे सिविल engineers की टीम को बहुत बड़े-बड़े प्रोजेक्ट मिल जाते हैं, जिनमें बहुत ज्यादा मुनाफा होता है।

एक सिविल इंजीनियर की सैलरी को यदि Annually यानी प्रति वर्ष के हिसाब से देखें तो, शुरुआत में या कहें 1 साल से कम के अनुभव वाले सिविल engineers को लगभग 2.5 से 3 लाख रुपए तक की सैलरी मिलती है।

Civil engineering के क्षेत्र में लगभग 1-4 साल का अनुभव ले लेने वाले सिविल engineers की सैलरी लगभग 4 से 5 लाख रुपए प्रति वर्ष तक रहती है, यह बस एक एवरेज सैलेरी है, कई बार यह इससे ज्यादा तक भी जा सकती है।

फिर ऐसे सिविल engineers जिन्हें इस क्षेत्र में अपने काम का 5 से 10 साल का experience रहता है उनकी सालाना सैलरी 8-10 लाख रुपए तक हो सकती है।

फिर इसके बाद इससे भी ज्यादा वर्षों के अनुभव वाले सिविल engineers की सैलरी इसी तरह बढ़ती रहती है, डिपेंडिंग की वे किस तरह से अपना काम करते हैं। 

Civil engineering में India में विद्यार्थी निम्नलिखित engineerings में जा सकते हैं और उनमें offer की जाने वाली salaries कुछ इस प्रकार हैं –

  • Management and Construction Engineering में औसत सैलरी ₹700000 प्रति वर्ष
  • Geotechnical Engineering में औसत सैलरी  5.6 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • Earthquake Engineering में औसत सैलरी  5.18 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • Structural Engineering में औसत सैलरी  4.8 लाख रुपए प्रति वर्ष।
  • Transportation Engineering में औसत सैलरी 4.2 लाख रुपए प्रति वर्ष।    
  • Water Engineering  में औसत सैलरी 6.6 लाख रुपए प्रति वर्ष।  
  • Environmental Engineering में औसत सैलरी  4.6 लाख रुपए प्रति वर्ष।
  • Forensic Engineering  में औसत सैलरी  4.8 लाख रुपए प्रति वर्ष।
  • Highway Engineering  में औसत सैलरी  4.3 लाख रुपए प्रति वर्ष।
  • Coastal Engineering  में औसत सैलरी  6.7 लाख रुपए प्रति वर्ष।

सरकारी और Private Civil engineer की सैलरी

Civil engineers के लिए उपलब्ध जॉब क्षेत्रों की बात करें तो एक सिविल इंजीनियर स्टेट और सेंट्रल गवर्नमेंट के पब्लिक वर्कर्स विभाग, मिलिट्री के कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट एवं रेलवे आदि में रोजगार के अवसर प्राप्त कर सकते हैं।

या फिर सिविल इंजीनियरिंग एक प्रोजेक्ट इंजीनियर के रूप में प्राइवेट निर्माण कंपनी में तो जॉब कर ही सकते हैं, जहां वे अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

Private sector में इनकी सैलरी की बात करें तो यहां किसी civil engineer को initial phase में लगभग 25,000 INR से 35,000 INR महीना तक की ही salary मिलती है।

कुछ सालो का अनुभव हो जाने के बाद उस आधार पर 3-4 साल में 1,00,000 INR महीना तक की भी कमाई कर सकते है। 

Civil engineers को विदेश में भी काम करने के अवसर मिलते हैं। जैसे कि UK में civil engineer की annual average salary लगभग 30-35 लाख तक जा सकती है।

वहीं अगर सरकारी सिविल इंजीनियर की सैलरी की बात करें तो इसकी range भी लगभग इतनी ही रहती है शुरुआत में सैलरी 30-35 हज़ार और फिर कुछ सालों के अनुभव के बाद लगभग लाख रुपए तक जा सकती है। 

लेकिन सरकारी सिविल इंजीनियर की नौकरी में प्राइवेट की तुलना job security आदि भी देखने को मिलती है। 

इसीलिए सिविल इंजीनियर बनने के बाद बहुत से लोग सरकारी विभागों में सिविल इंजीनियर की नौकरी की तरफ ज्यादा रुझान रखते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने मुख्य तौर पर एक सिविल इंजीनियर की सैलरी के बारे में बात की है।

इंजीनियरिंग आज के समय में सबसे ज्यादा विद्यार्थियों द्वारा चुने जाने वाला विकल्प है, और सिविल इंजीनियरिंग भी इंजीनियरिंग का एक बहुत ही लोकप्रिय ट्रेड है, जिसमें लाखों विद्यार्थी दाखिला लेते हैं। ऐसे में उन्हें एक सिविल इंजीनियर की सैलरी के बारे में सही आईडिया होना जरूरी हो जाता है।

1 thought on “सिविल इंजीनियर की सैलेरी कितनी होती है? | Civil engineer ki salary kitni hoti hai”

  1. Type here..my name is pankaj kumar my village name done siwan bihar mai abhi class 10 me reading karta hu my hobby is sevel engenear

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *