अकाउंटेंट की सैलेरी कितनी होती है? | How much is the salary of an accountant?

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि एक अकाउंटेंट की सैलरी कितनी होती है? एक अकाउंटेंट प्रति महीने कितने रुपए कमाते हैं? 

दोस्तों बहुत से विद्यार्थियों की फाइनेंस सेक्टर में रूचि होती है और वह उसी में आगे अपना करियर बनाना चाहते हैं। 

फाइनेंस यानी कॉमर्स में accountant एक बहुत ही लोकप्रिय करियर विकल्प है। 

Chartered accountant को कॉमर्स का सबसे बेहतरीन करियर विकल्प भी कहा जाता है। 

पर इसके अलावा भी अकाउंटेंट होते हैं आप अलग-अलग विषयों में accountancy की पढ़ाई कर सकते हैं और एक अकाउंटेंट बन सकते हैं, जो आज के समय में एक बेहतरीन करियर विकल्प है। 

हम जो यहां अकाउंटेंट की बात कर रहे हैं, उसमें बहुत से विद्यार्थियों के मन में यह सवाल रहता है कि अकाउंटेंट की सैलेरी कितनी होती है? 

इस आर्टिकल में हम मुख्य रूप से इसी पर चर्चा करेंगे। 

हम आपको एक अकाउंटेंट की सैलरी से संबंधित सभी जरुरी बातें बताएंगे। 

Accountant की salary कितनी होती है?

एक अकाउंटेंट की शुरुआती सैलरी 10-15 हज़ार से लेकर 20-25 हजार रुपए मासिक तक हो सकती है। 

Chartered accountant की औसत शुरुआती सैलरी भी ₹3,00,000 प्रति वर्ष तक रहती है।

अनुभव बढ़ जाने पर एक अकाउंटेंट के तौर पर आपकी सैलरी 70-80 हजार रुपए मासिक तक भी पहुंच सकती है। 

एक अकाउंटेंट की सैलरी वास्तव में कितनी होगी यह कई जरूरी बातों पर निर्भर करता है। 

जैसे कि सबसे पहले कि वह अकाउंटेंट किस कंपनी में नौकरी कर रहा है। 

जाहिर है छोटे companies के accountants की सैलरी कम होती है जबकि बड़े मल्टीनेशनल कंपनी में यदि आप accountant की नौकरी पा लेते हैं तो आपकी सैलरी काफी अधिक रहती है। 

फिर एकाउंटिंग के फील्ड में आप कितने अनुभवी हैं, इससे भी सैलरी में बहुत ज्यादा अंतर आता है। 

Freshers को शुरुआती सैलरी मिलती है जो कि कुछ सालों के अनुभव वाले अकाउंटेंट्स की तुलना में काफी कम ही होती है। 

Accountant और Chartered Accountant में अंतर होता है?

यहां पर एक जरुरी बात है कि कई बार लोगों को एक अकाउंटेंट और एक चार्टर्ड अकाउंटेंट के बीच कंफ्यूजन होता है कि क्या दोनों एक ही होते हैं या अलग अलग। 

तो वैसे कहें तो अकाउंटेंट और चार्टर्ड अकाउंटेंट में अंतर होता तो है। 

दरअसल एक चार्टर्ड अकाउंटेंट को आप काफ़ी ज्यादा अनुभवी और accountancy की गहरी knowledge रखने वाला अकाउंटेंट कह सकते हैं। 

यानी accountancy की नई नई पढ़ाई करके निकलने वाले फ्रेशर्स Accountant बन सकते हैं लेकिन चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने के लिए CA का स्पेशल कोर्स और इसके लिए आयोजित जरूरी परीक्षा पास करनी होती है। 

Salary की बात करें तो एक सामान्य अकाउंटेंट की तुलना में चार्टर्ड अकाउंटेंट की सैलरी ज्यादा होती है। 

Chartered Accountant की salary कितनी होती है?

एक चार्टर्ड अकाउंटेंट बन जाने पर आपकी शुरुआती औसतन सैलरी आसानी से 2.5 – 3 लाख रुपए प्रति वर्ष तक हो सकती है। 

जबकि एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की मैक्सिमम सैलेरी 75-80 लाख रुपए प्रति वर्ष तक भी हो सकती है। 

Chartered Accountant commerce field का सबसे प्रतिष्ठित जॉब है, commerce के विद्यार्थियों के लिए इसी क्षेत्र में सबसे ऊंचा लक्ष्य चार्टर्ड अकाउंटेंट ही होता है। 

इसीलिए सामान्यतः अकाउंटेंट कहने पर भी बहुत से विद्यार्थियों और लोगों के मन में Chartered Accountant ही आता है। 

एक Chartered Accountant की सैलरी के बारे में हमें ऊपर बात की है इसे थोड़ा और विस्तार में जानें तो, 

  • Freshers के लिए सामान्य firms में औसत सैलरी 3,00,000 रुपए सालाना तक रहती है। लेकिन कुछ बड़े firms में चार्टर्ड अकाउंटेंट की शुरुआती सैलरी 8,00,000 प्रति वर्ष तक भी रह सकती है।
  • इन्हीं firms में चार पांच साल या इससे ज्यादा का अनुभव हो जाने के बाद एक चार्टर्ड अकाउंटेंट के तौर पर आपकी सैलरी 20-25 लाख रुपए सालाना तक भी जा सकती है।
  • International posting में एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की सैलरी 75 से 80 लाख रुपए सालाना तक भी जा सकती है। 
  • International posting में एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की औसत सैलरी 9-10 लाख रुपए सालाना रहती है और अन्य सभी मदो को जोड़कर यह 20 लाख रुपए सालाना तक भी चली जाती है। 
  • यदि एक चार्टर्ड अकाउंटेंट के तौर पर आपकी posting internationally public sector में होती है तो आपकी सैलरी 10-20 लाख रुपए सालाना तक रह सकती है।
  • Indian business की दिग्गज कंपनियों में International posting होने पर एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की औसतन सैलरी  6-10 लाख रुपए प्रति वर्ष तक रह सकती है। यह अलग-अलग कंपनियों के लिए अलग अलग हो सकता है। 

इन्हें भी पढ़ें

Accountant और Accountancy के बारे में –

अब जब हमने अकाउंटेंट और चार्टर्ड अकाउंटेंट की सैलरी के बारे में बात कर ली है तो, एक अकाउंटेंट बन्ना कितना सही है और भविष्य में इसके क्या स्कोप हैं? इसके बारे में भी विद्यार्थियों को जानकारी होनी चाहिए। 

सबसे पहले तो यह है कि एक अकाउंटेंट का काम किसी कंपनी, व्यक्ति या सीधे कहे कि क्लाइंट के वित्तीय लेन देन का लेखा-जोखा रखने का होता है। 

किसी भी कंपनी में अकाउंटेंट बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि उस कंपनी में होने वाले सारे के सारे खर्चों का ब्यौरा एकाउंटेंट ही रखता है। 

इसके अलावा वित्तीय मामलों में सहायता और सलाह देने का काम भी अकाउंटेंट का होता है। 

तो एक अकाउंटेंट का काम बहुत ही महत्वपूर्ण होता है इसीलिए भविष्य में इसमें scope भी काफी अच्छा है। 

भले ही आने वाले समय में डिजिटलाइजेशन बढ़ेगा लेकिन कंपनी में एक अकाउंटेंट की जरूरत हमेशा ही रहेगी। क्यूंकि accountant के काम में बहुत से जरूरी काम आते हैं। 

इसलिए जिन विद्यार्थियों की कॉमर्स या फाइनेंस के क्षेत्र में करियर बनाने में रुचि हो, वे निश्चय ही एक अकाउंटेंट बनने की तरह देख सकते हैं। 

हमने पहले भी कहा है कि चार्टर्ड अकाउंटेंट आज के समय में वैसे भी विद्यार्थियों के लिए सबसे प्रतिष्ठित जॉब प्रोफाइल्स में से एक माना जाता है।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने अकाउंटेंट की सैलरी के बारे में बात की है। 

हमने जाना है कि एक अकाउंटेंट की सैलरी कितनी होती है? यहां हमने अकाउंटेंट और चार्टर्ड अकाउंटेंट दोनों की सैलरी के बारे में जाना है। 

उम्मीद करते हैं कि यह जानकारी आपके लिए informative रहेगी, यदि आपके मन में कोई प्रश्न हो तो आप हमें नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं। 

इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि एक अकाउंटेंट की सैलरी कितनी होती है? एक Accountant को महीने की कितनी तनख्वाह मिलती है?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *