किस नौकरी में मेडिकल नहीं होता है? | Jobs without medical test

नमस्कार दोस्तों! हमारे आज के इस लेख का टॉपिक है कि किस नौकरी में मेडिकल नहीं होता है? या किस नौकरी के लिए मेडिकल टेस्ट नहीं देना होता है? 

आज के समय में नौकरी की जरूरत तो हर किसी को ही होती है। 

चाहे सरकारी हो या प्राइवेट एक नौकरी जीवन यापन के लिए जरूरी है। 

हालांकि जब हम नौकरी की बात करते हैं तो ज्यादातर विद्यार्थी विद्यार्थियों के मन में सरकारी नौकरी का ही नाम आता है। 

ज्यादातर विद्यार्थी एक अच्छे भविष्य के लिए सरकारी नौकरी ही लेना चाहते हैं। 

Specifically सरकारी नौकरी की ही बात करें तो इसके लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा से गुजरना तो होता ही है, पर साथ ही इसमें सिलेक्शन के लिए medical test भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

ऐसे में जो विद्यार्थी नौकरी की तैयारी करते हैं उनके मन में एक सवाल निश्चय ही रहता है कि किस नौकरी में मेडिकल नहीं होता है? कौन सी नौकरी बिना मेडिकल टेस्ट मिल सकती है? 

इस लेख में आगे हम इसी विषय पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

किस नौकरी में medical नहीं होता है

कोई भी सरकारी नौकरी ऐसी नहीं है जिसके लिए  उम्मीदवारों को मेडिकल टेस्ट से नहीं गुजरना होता। 

सीधी सी बात यह है कि यदि सरकार आपको एक परमानेंट (या फिर टेंपरेरी भी) नौकरी दे रही है तो वह यह सुनिश्चित करेगी कि आप मेडिकली पूरी तरह फिट हैं और उस नौकरी को या कहें उस काम को करने के योग्य हैं। जिससे कि बाद में इससे संबंधित कोई समस्या ना हो।

अब नौकरियों में तो मुख्य ये दो ही categories हैं, सरकारी और प्राइवेट। 

सरकारी नौकरी चाहे कितनी भी छोटी पद के लिए हो या कितनी भी बड़ी पद के लिए हो, आपको joining के लिए एक मेडिकल सर्टिफिकेट तो देना होता ही है। 

और यदि आप ऐसी सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई कर रहे हैं, जिसमें शारीरिक क्षमता की बहुत जरूरत होती है जैसे की आर्मी आदि तो उसमें तो आपको काफी कठिन मेडिकल टेस्ट से गुजरना होता है।

Private job में सामान्यतः medical नहीं होता है 

हां, यदि प्राइवेट नौकरी की बात करें तो इसके लिए सामान्यत: किसी तरह का कोई मेडिकल टेस्ट नहीं होता है। 

प्राइवेट कंपनी में आपकी नौकरी सरकारी की तरह ठोस नहीं होती है इसीलिए वहां नौकरी के आप बिना मेडिकल टेस्ट दिए भी जा सकते हैं। 

हालांकि कुछ ऐसी बड़ी प्राइवेट कंपनियां हो सकती हैं जोकि नौकरी के लिए आपसे एक मेडिकल का सर्टिफिकेट मांगे पर सामान्यतः प्राइवेट नौकरी की स्थिति में मेडिकल टेस्ट किसी तरह की समस्या नहीं बनती है।

सरकारी नौकरी के लिए मेडिकल टेस्ट कैसा होता है?

जैसा कि हमने ऊपर कहा, चाहे आप किसी भी सरकारी पद पर नौकरी प्राप्त करें उसके लिए आपको अपने medically fit होने का प्रमाण तो देना होता ही है। 

हां, यदि कोई उम्मीदवार दिव्यांग आदि है, तो रही है उस स्थिति में मेडिकल टेस्ट बदल जाता है जिसके बारे में उस नौकरी की अधिसूचना में भी जानकारी दी हुई होती है, यह असल में एक अलग बात हो जाती है। 

Clerk, Assistant आदि समेत बहुत सी ऐसी सरकारी नौकरी होती है जिनके लिए बेहद सामान्य मेडिकल टेस्ट होता है। 

Basically आपको बस जॉइनिंग से पहले एक मेडिकल सर्टिफिकेट देना होता है जो आप किसी सरकारी अस्पताल से बनवा सकते हैं। 

इसके अलावा यदि आप किसी विभाग की नौकरी ज्वाइन कर रहे हैं दो आपको उस विभाग द्वारा आयोजित मेडिकल टेस्ट प्रक्रिया से गुजर ना हो सकता है।

लेकिन यदि आप Army, या फिर railway guard या railway driver जैसी सरकारी नौकरी के लिए देख रहे हैं तो इनमें उम्मीदवारों का मेडिकली फिट होना उनके नौकरी के लिए बहुत जरूरी हो जाता है इसीलिए इनका मेडिकल टेस्ट काफी कठिन होता है। 

Army आदि में तो मेडिकल टेस्ट में थोड़ी सी भी कमी रह जाने पर आप सेलेक्ट नहीं किए जाते हैं। 

Private नौकरी के लिए मेडिकल टेस्ट कैसा होता है?

Private नौकरी के लिए मेडिकल टेस्ट सामान्यतः नहीं ही होता है। 

Private नौकरी को आप एक तरह से टेंपरेरी यानी अंशकालिक नौकरी कह सकते हैं, जिसमें कंपनी आपको नौकरी और सैलरी आदि देती है। 

इनमें मेडिकल टेस्ट की ज्यादा कोई गुंजाइश नहीं होती, आप बस अपनी योग्यता के आधार पर नौकरी पाते हैं, और बाद में किसी तरह की समस्या होने पर आपको कंपनी द्वारा निकाला जा सकता है, हालांकि यह निकालने आदि की बात medical test से संबंधित नहीं है। 

मुख्य बात यही है कि प्राइवेट नौकरी के लिए उम्मीदवारों को मेडिकल टेस्ट की कोई ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है। 

यदि ऐसी कोई कंपनी होती भी है जो नौकरी में medical test mention करती है तो generally एक सामान्य मेडिकल सर्टिफिकेट से ही आपका काम चल जाता है। 

Private नौकरीयों में, IT Field में job या इससे संबंधित किसी भी तरह के क्षेत्र में किसी भी कंपनी में जॉब आ जाते हैं।

इन्हें भी पढ़ें

ऐसे नौकरी/पेशे जिनमें मेडिकल टेस्ट आता ही नहीं है

अब नौकरी में तो हमने सरकारी और प्राइवेट नौकरियों की बात कर ली कि किनके लिए मेडिकल टेस्ट होता है और किनके लिए नहीं। 

पर नौकरी में तो अन्य भी कई professions/job profile आ जाते हैं। 

तो उस हिसाब से कहें तो यह कुछ 1-2 ऐसी नौकरियां/professions हैं, जिनमें मेडिकल टेस्ट आता ही नहीं है।

  • Self Employed
  • Freelancer
  • आदि 

Self Employed

इसका मतलब होता है स्वरोजगार। यानी कि वह व्यक्ति जो खुद का कोई किसी भी तरह का कोई बिजनेस आदि कर रहा हो। 

इसमें हम ऑनलाइन बिजनेस ऑनलाइन बिजनेस सारे को गिन सकते हैं। 

यदि आप इसमें है तो जाहिर है आप अपने स्तर पर खुद काम कर कर पैसे कमा रहे हैं, और उसके लिए आपको मेडिकल टेस्ट की किसी भी तरह की कोई जरूरत नहीं है। 

इसमें आप अपने हिसाब से काम करते हैं, किसी का आप पर किसी तरह का कोई नियंत्रण नहीं होता है।

Freelancer

Freelancer एक तरह की नौकरी है, जिसे हम प्राइवेट नौकरी के कैटेगरी में रख सकते हैं। 

आसान भाषा में समझे तो, इसमें आप कोई कंपनी जॉइन नहीं करते हैं पर आपकी जो भी योग्यता हो यानी आप जिस भी काम को कर सकते हैं, जैसे web development, designing, या और भी अलग-अलग फील्ड के बाद सारे काम, उस काम को करने के लिए कंपनी आपको हायर करती है और बस उसी काम के हिसाब से आपको पैसे देती है। 

इसमें आप कंपनी के एंप्लॉय नहीं होते, बस आपने जिस प्रोजेक्ट पर काम किया आपको उसी के पैसे मिलते हैं। 

आप इसमें घर बैठ कर ही काम करते हैं, इसलिए इसमें भी किसी तरह की कोई मेडिकल टेस्ट आदि देने की जरूरत आपको नहीं है।

Conclusion

आज के इस लेख में हमने बात की है कि किस नौकरी में मेडिकल नहीं होता है। 

यहां हमने सरकारी, प्राइवेट और इसके अलावा कुछ और नौकरियों (या कहें प्रोफेशन) के बारे में बात की है जिनके लिए आपको मेडिकल टेस्ट नहीं देना होता है। 

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपके लिए informative रही होगी, इससे संबंधित कोई प्रश्न आदि हो तो आप हमें कमेंट में पूछ सकते हैं।

यहां तक यह आर्टिकल पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद!

Leave a Comment

Your email address will not be published.