IIT के लिए 10वीं में न्युनतम प्रतिशत ? | Percentage required for IIT in 10th

दोस्तों इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि IIT के लिए 10वीं में न्युनतम प्रतिशत कितने चाहिए होते हैं? 

IIT में प्रवेश के लिए 10वीं में कितने प्रतिशत मार्क्स होने चाहिए? या IIT मिलने के लिए 10th में कितने percentage marks होने चाहिए? 

दोस्तों विद्यार्थियों के लिए करियर की बात होने पर उसमें इंजीनियरिंग का नाम सबसे पहले आता है। 

हर साल लाखों की संख्या में विद्यार्थी 12वीं के बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए जाते हैं, और उनमें से हर विद्यार्थी का पहला लक्ष्य यही होता है कि उन्हें इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए एक IIT college मिले। 

आईआईटी देश के टॉप शिक्षण संस्थानों में आता है, और इसीलिए इसमें दाखिले के लिए भी बहुत ही ज्यादा कड़ी प्रतिस्पर्धा होती है। 

ऐसे में IIT में दाखिले से संबंधित कई सवाल विद्यार्थियों के मन में रहते हैं, जिसमें से एक सवाल यह भी है कि आईआईटी के लिए दसवीं में न्यूनतम प्रतिशत कितने चाहिए? 

IIT के लिए 10वीं में न्युनतम प्रतिशत ?

इस लेख में हम मुख्यतः इसी सवाल पर चर्चा करेंगे, जानेंगे कि एक IIT कॉलेज में दाखिला मिलने के लिए विद्यार्थियों को दसवीं में कम से कम कितने मार्क्स लाने जरूरी होते हैं? 

IIT के लिए 10th में कितने marks चाहिए?

आईआईटी में प्रवेश पाने के लिए 10th के marks मायने नहीं रखते हैं। 

आप 10th में कितने भी अंक लाएं, उससे आपके‌ IIT में दाखिले का कोई भी संबंध नहीं है। 

यदि आप आईआईटी में प्रवेश पाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको JEE यानी joint entrance examination पास करनी होती है, जिसे आप 12वीं कक्षा पास करने के बाद दे सकते हैं, और इसमें भी आपको टॉप ranks में आना होता है तभी आपको एक‌ IIT कॉलेज में दाखिला मिलता है। 

आपके वर्ग के हिसाब से आपकी जितनी अच्छी rank होगी आपको उतने ही अच्छे IIT college में दाखिला मिलता है।  

आईआईटी का पूरा नाम इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (Indian Institute of Technology) होता है, जो कि देश में educational institutions में सबसे शीर्ष स्थानों में आता है। 

आप दसवीं में 90% अंक लाएं या 60%, आप आईटी में प्रवेश पा सकते हैं यदि आपने जेईई की परीक्षा में अच्छी रैंक हासिल की है। 

यदि आपने दसवीं कक्षा एक बार फेल भी की है तो भी आप आईआईटी में प्रवेश ले सकते हैं। 

हां, दसवीं कक्षा के बजाय 12th class के marks आईआईटी में प्रवेश के लिए मायने रखते हैं। 

यदि आपको आईआईटी में प्रवेश पाना है और उसके लिए जेईई की परीक्षा में बैठना है तो 12वीं कक्षा में आपको अच्छे अंक अर्जित करना जरूरी होता है। 

IIT के लिए JEE पास करना जरूरी –

JEE राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली एक बहुत ही कठिन प्रवेश परीक्षा होती है, इसीलिए इसमें काफी ज्यादा प्रतिस्पर्धा भी रहती है। 

इसमें अच्छे अंक लाने के लिए दसवीं कक्षा के marks तो मायने नहीं रखते लेकिन यदि आपको इसमें सफल होना है,और एक आईआईटी कॉलेज में एडमिशन लेना है तो इस JEE की तैयारी आपको दसवीं कक्षा के बाद से या यदि संभव हो तो इसके पहले से ही शुरु कर देनी चाहिए। 

आज के समय में आपको बहुत से ऐसे कोचिंग इंस्टिट्यूट देखने को मिल जाएंगे जो दसवीं के बाद से ही JEE की तैयारी करवाते हैं। 

या इसके अलावा आप इसकी ऑनलाइन पढ़ाई भी कर सकते हैं। IIT से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए JEE में अच्छा रैंक लाना अनिवार्य है, और इसके लिए आपको उतनी ही मेहनत के साथ पढ़ाई करनी भी जरूरी है।

IIT के लिए 12th में कितने marks चाहिए?

आईआईटी में प्रवेश पाने के लिए ट्वेल्थ में आपको कम से कम 75% अंक लाने जरूरी होते हैं। 

सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों को 12वीं में 75% अंक और SC/ST/PWD candidates को 65% अंक लाने जरूरी होते हैं। 

असल में 12वीं कक्षा में 75% अंक जेईई की परीक्षा में बैठने के लिए अनिवार्य होते हैं, IIT में प्रवेश आपको JEE exam में आए rank के अनुसार ही मिलती है। 

तो फिर से बात वही आ जाती है कि दसवीं कक्षा में आपने कितने अंक लाए हैं यह मायने नहीं रखता, आईआईटी में प्रवेश के लिए आपको 12वीं कक्षा अच्छे अंकों के साथ पास करना जरूरी होता है। 

IIT में इंजीनियरिंग की पढ़ाई होती है, इसके लिए 12वीं कक्षा साइंस स्ट्रीम और इसमें भी PCM (यानी physics chemistry और mathematics) stream से पास करनी जरूरी होती है। 

तो आईआईटी में दाखिले के लिए आपको PCM के साथ बारहवीं कक्षा कम से कम 75% अंकों के साथ पास करनी जरूरी है।

यहां पढ़ें: NEET में पास होने के लिए कितने नंबर चाहिए?

IIT में admission की प्रक्रिया

हमने ऊपर बात की है की आईआईटी में प्रवेश के लिए JEE की परीक्षा पास करनी होती है। 

जेईई की परीक्षा आप 12वीं के बाद दे सकते हैं, हालांकि इसके लिए 12वीं कक्षा में पढ़ रहे विद्यार्थी भी आवेदन कर सकते हैं, क्योंकि जेईई की परीक्षा 12वीं के रिजल्ट आने के बाद ही आयोजित होती है। 

JEE की प्रवेश परीक्षा दो चरणों में आयोजित होती है इसमें पहला JEE mains और दूसरा JEE advance होता है। 

JEE mains qualifying exam होता है, यानी इसे पास करने के बाद ही आप advance के लिए बैठ सकते हैं। 

और advance पेपर में आप कितने अंक लाते हैं, उससे आपका जेईई का रैंक डिसाइड होता है, और फिर उस आधार पर आपको कॉलेज मिलता है। 

एडवांस का रिजल्ट निकलने के पश्चात रैंक घोषित होता है। 

उसके बाद, आपको विशेष स्ट्रीम वाले अलग अलग IIT courses में से किसी एक को चुनने की आवश्यकता होती है, जैसे आपने इंजीनियरिंग के अलग-अलग ब्रांच मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, सिविल आदि के बारे में सुना होगा। 

फिर कुछ दिनों के बाद काउंसलिंग शुरू हो जाती है, और उपलब्ध seats और rank के हिसाब से आपको IIT में प्रवेश मिलता है। 

यदि आप JEE एग्जाम में अच्छे ज्यादा अच्छे अंक नहीं ला पाते और आपकी rank थोड़ी ज्यादा रहती है तो IITs के बाद आपको NIT (National Institute of Technology) में प्रवेश मिलता है।

यहां पढ़ें: भारत में कितने आईआईटी कॉलेज हैं?

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने आईआईटी में प्रवेश के लिए दसवीं में जरूरी न्यूनतम अंको के बारे में बात की है। 

यहां हमें अच्छे से बताने का प्रयास किया है कि एक आईआईटी college में प्रवेश के लिए दसवीं के अंको की क्या भूमिका रहती है। 

हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह article helpful लगा होगा। 

इस विषय से संबंधित कोई भी अन्य प्रश्न यदि आपके मन में है, तो आप हमें नीचे comment section में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.