IIT के लिए 12वीं में न्युनतम प्रतिशत? | Percentage required for IIT in 12th

दोस्तों इस आर्टिकल में हम IIT के लिए 12वीं में न्युनतम प्रतिशत के बारे में बात करेंगे। 

IIT के लिए 12th में कितने % marks चाहिए? आईआईटी में दाखिला पाने के लिए विद्यार्थियों को 12वीं में कितने प्रतिशत अंक लाने होते हैं? 

दोस्तों इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए उपलब्ध colleges/institutes में IIT का नाम सबसे पहले आता है। 

इंजीनियरिंग पढ़ना चाहने वाले हर विद्यार्थी का सपना एक IIT कॉलेज से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने का होता है। 

परंतु एक आईआईटी में दाखिला मिलना बहुत ज्यादा कठिन होता है, इसके लिए बहुत ज्यादा मेहनत करके जरूरी परीक्षाएं अच्छे अंको के साथ पास करनी होती हैं। 

इसी से संबंधित एक सवाल जो लगभग हर विद्यार्थी के मन में रहता ही है कि IIT के लिए 12वीं में न्युनतम प्रतिशत क्या मांगी जाती है? 

IIT के लिए 12वीं में न्युनतम प्रतिशत?

यानी IIT में admission के लिए 12th में कम से कम कितने प्रतिशत अंक लाने जरूरी होते हैं?

इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में विस्तार से जानेंगे। IIT के लिए 12वीं में न्युनतम प्रतिशत के साथ-साथ इससे संबंधित दूसरी कुछ जरूरी बातों को भी जानेंगे।

IIT के लिए 12th में minimum percentage ?

दोस्तों IIT के लिए 12th में minimum percentage सामान्यतः सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए, PCM यानी physics chemistry और mathematics विषय के साथ 75% है, वहीं SC, ST, PwD वर्ग के विद्यार्थियों के लिए यह percentage 65% है। 

यानी कि यदि आपको IIT में दाखिला देना है तो उसके लिए आपको 12th में science stream में PCM विषयों के साथ कम से कम 75% अंक लाने होंगे, और यदि SC, ST, PwD वर्ग से belong करते हैं तो आपको 12वीं में कम से कम 65% अंक अर्जित करने जरूरी होते हैं। 

सामान्यतः यदि विद्यार्थी इससे कम अंक हासिल करते हैं तो उन्हें आईआईटी में दाखिला नहीं मिल पाता है। 

हालांकि आईआईटी में दाखिले के लिए JEE की परीक्षा अच्छे अंकों के साथ पास करना सबसे महत्वपूर्ण होता है, जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे। 

इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए एक आईआईटी कॉलेज में दाखिला लेने के लिए विद्यार्थियों को पढ़ाई में काफी अच्छा होना जरूरी होता है, क्योंकि इसके लिए जितनी प्रतिस्पर्धा होती है उस हिसाब से सिर्फ top candidates ही IIT जैसे संस्थान में पढ़ने के लिए अपनी जगह बना पाते हैं। 

इसीलिए उस हिसाब से देखें तो 12वीं कक्षा में 75% अंक विद्यार्थियों के लिए सामान्य ही हैं।

कई विद्यार्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि IIT के लिए 10वीं में न्युनतम प्रतिशत कितना चाहिए? तो इसकी जानकारी विद्यार्थी यहां से ले सकते हैं।

12th के percentage JEE में बैठने के लिए जरूरी हैं –

जो विद्यार्थी इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए आईआईटी में दाखिला लेने की सोचते हैं, उन्हें इसकी जानकारी होती है कि एक IIT college में प्रवेश पाने के लिए उन्हें JEE यानी Joint Entrance Examination पास करनी होती है, जो कि राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित एक इंजीनियरिंग एंट्रेंस टेस्ट होता है। 

JEE, NTA यानी National Testing Agency द्वारा आयोजित की जाती है, और इस परीक्षा को देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। 

और असल में 12th में आपके percentage इसी JEE की परीक्षा में बैठने के लिए जरूरी होते हैं। 

ऐसा नहीं है कि आपको आपके 12वीं के अंकों के आधार पर ही आईआईटी में दाखिला मिल जाता है, 12वीं में यदि आप 75% (या अन्य वर्गों के लिए 65%) से अधिक लाते हैं, तो इससे आप JEE की परीक्षा में बैठने के लिए एलिजिबल होते हैं।

JEE की परीक्षा दो बार होती है, पहले JEE mains होता है और फ़िर JEE Advance. 

JEE mains अच्छे अंको से पास करने के बाद आप JEE Advance के लिए बैठ सकते हैं, और यदि आप advance भी अपने वर्ग के हिसाब से अच्छे अंको से पास कर लेते हैं, तब जाकर आपको एक आईआईटी में दाखिला मिलता है। 

सिर्फ Mains पास करके भी IIT नहीं मिल सकता है। 

तो 12वीं कक्षा के marks आपको सिर्फ आईआईटी में प्रवेश के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिए एलिजिबल बना सकते हैं, IIT में दाखिला आपको इस परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करके ही मिलता है।

यहां पढ़ें : JEE में कितने नंबर पर अच्छा कॉलेज मिलता है?

JEE 2022 के लिए 75% marks की बाध्यता नहीं है?

दोस्तों हमने ऊपर बात की है कि बारहवीं कक्षा के अंक आईआईटी में दाखिले के लिए नहीं बल्कि जेईई की परीक्षा में बैठने के लिए जरूरी होते हैं। 

आईआईटी में दाखिला आपको जेईई मेंस और एडवांस पास करने के बाद ही मिलता है। 

इस साल 2022 की बात करें तो JEE mains की जो परीक्षा होने वाली है उस में बैठने के लिए विद्यार्थियों को 12वीं में 75% अंक लाना अनिवार्य नहीं है। 

सरकार द्वारा इस साल जेईई मेंस की परीक्षा के लिए 12वीं में 75% अंको की बाध्यता को समाप्त कर दिया गया है। 

तो इस बार विद्यार्थी यदि 75% अंक से कम अंक भी लाते हैं तो भी वे जेईई की परीक्षा में बैठ सकते हैं। 

JEE परीक्षा के लिए जो आधिकारिक अधिसूचना जारी की जाती है उसमें इस बात का उल्लेख किया गया है। 

जबकि पिछले वर्षों की सूचनाओं में 12वीं कक्षा में 75 प्रतिशत अंकों को दर्शाया गया था। 

इससे पहले भी JEE की परीक्षा के लिए सरकार द्वारा इस 75% मार्क्स की बाध्यता को हटाया गया था।

लेकिन फिर वही बात है कि आईआईटी में दाखिले के लिए आपके 12वीं के अंक ज्यादा मायने नहीं रखते बल्कि JEE कि दोनों परीक्षाओं यानी जेईई मेंस और जेईई एडवांस में आप कितने अच्छे अंक लाते हैं, उससे निर्धारित होता है कि आपको एक आईआईटी कॉलेज मिलेगा या नहीं। 

वर्तमान में भारत में आईआईटी संस्थानों की संख्या limited ही है, और उसमें सीटें भी limited हैं इसीलिए JEE Advance पास करने वाले top candidates को ही आईआईटी कॉलेजों में दाखिला मिल पाता है। 

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने IIT के लिए 12वीं में न्यूनतम प्रतिशत कितना चाहिए इस बारे में बात की है। 

यहां हमने इस टॉपिक के बारे में अच्छे से बताने का प्रयास किया है। उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। 

इससे संबंधित कोई सवाल आदि यदि आपके मन में है, तो आप हमें नीचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.