B.Pharma की फीस कितनी है?

बी फार्मा की फीस कितनी है? बी फार्मा का कोर्स करने में कितना खर्च आता है? बी फार्मा के लिए कॉलेज फीस क्या होती है? फार्मेसी यानी मेडिकल के क्षेत्र में करियर बनाने की सोचने वाले या कहें बी फार्मा का कोर्स करने की सोचने वाले विद्यार्थियों के लिए यह एक obvious सवाल रहता है।

दसवीं के बाद से ही हम किस प्रोफेशन में जाना चाहते हैं उसी हिसाब से हमें सब्जेक्ट चुनना होता है, मेडिकल लाइन में जाना चाहने वाले छात्र science में बायलॉजी चुनते हैं, और उनमें से कई छात्र आगे बी फार्मा का कोर्स करते हैं।

यहां इस लेख में आज हम मुख्यतः बी फार्मा की फीस की बात करेंगे, किसी भी कोर्स की पढ़ाई के लिए विद्यार्थी की फाइनेंसियल कंडीशन काफी मायने रखती है, इसीलिए कोर्स की फीस के बारे में पता होना जरूरी है।

बी फार्मा कोर्स की फीस के साथ साथ, बी फार्मा का कोर्स क्या है, इसे कैसे कर सकते हैं, इसके लिए क्या योग्यताएं चाहिए, इसके बाद क्या करियर ऑप्शन होते हैं, और इस तरह के बाकी सभी चीजों के बारे में भी जानेंगे।

बी फार्मा का कोर्स क्या है?

B.pharma का पूरा नाम बैचलर ऑफ फार्मेसी (bachelor of pharmacy) है, यह फार्मेसी यानी मेडिकल क्षेत्र में एक बैचलर डिग्री का कोर्स होता है।

इस कोर्स के नाम में ही फार्मेसी है जिससे पता चलता है कि यानी पैरामेडिकल यानी चिकित्सा से जुड़ा कोर्स है।

फार्मेसी डिपार्टमेंट में अपना करियर सेट करने की सोचने वाले विद्यार्थियों के लिए यह अच्छा कोर्स है।

इस कोर्स को करने के बाद आप मेडिकल स्टोर खोलने के लिए योग्य हो जाते हैं, जिससे आप अच्छी कमाई कर सकते हैं।

जाहिर है बी फार्मा के कोर्स में विद्यार्थियों को दवाओं और औषधियों के बारे में पढ़ाया जाता है, सामान्य बीमारियों में किस तरह के मरीजों को कौन सी दवाई देनी चाहिए, आदि।

बी फार्मा 4 साल का एक बैचलर डिग्री कोर्स है जिसे आठ semesters में बांटा जाता है। यह कोर्स पूरा करने पर विद्यार्थियों के लिए चिकित्सा के क्षेत्र में कई सारे रास्ते खुल जाते हैं।

B.Pharma की फीस कितनी है?

बी फार्मा की फीस की बात करें तो मेडिकल के दूसरे courses की तरह बी फार्मा की फीस भी हर कॉलेज में एक ही नहीं होती, सरकारी कॉलेज से बी फार्मा करने पर आपकी फीस काफी कम लगती है, वहीं यदि आप एक प्राइवेट कॉलेज से बी फार्मा का कोर्स करते हैं तो आपको सरकारी कॉलेज की तुलना में काफी ज्यादा फीस देनी पड़ती है।

हमने ऊपर जाना कि बी फार्मा 4 साल का कोर्स है, और course के दौरान आपको अपने शिक्षण संस्थान को सालाना इसकी फीस देनी होती है।

पहले यदि सरकारी कॉलेज की बात करें तो यहां से बी फार्मा करने पर आपको औसतन 15000 से 40000 रुपए तक की सालाना फीस देनी पड़ सकती है, अब हर सरकारी कॉलेज की फीस में भी अंतर होता है, फीस की सटीक जानकारी आप कॉलेज यूनिवर्सिटी की वेबसाइट से या फिर कॉलेज जाकर ही पता कर सकते हैं।

बी फार्मा के कोर्स के लिए अच्छे सरकारी कॉलेजेस में seats कम होती है, इसीलिए सरकारी कॉलेजों में दाखिले के लिए आपको entrance exam देकर उसे अच्छे अंको से पास करना होता है।

यदि विद्यार्थी शुरू से ही इस कोर्स को करने का निर्णय लेते हैं तो वह एंट्रेंस परीक्षा की तैयारी पहले से ही शुरु कर सकते हैं, परीक्षा में 11वीं 12वीं से ही प्रश्न रहते हैं।

अब बात आती है प्राइवेट कॉलेजों में बी फार्मा की फीस की, private college में यदि आप बी फार्मा में दाखिला लेते हैं तो आपको इसकी फीस के रूप में सालाना कॉलेज को 60,000 से लेकर 100000 तक या फिर इससे ज्यादा की फीस भी देनी पड़ सकती है।

मेडिकल के दूसरे courses की तरह बी फार्मा के लिए भी प्राइवेट कॉलेज मोटी फीस लेते हैं। Fee ही कारण है कि ज्यादातर विद्यार्थी इसके लिए होने वाली एंट्रेंस परीक्षा पास करके एक सरकारी कॉलेज पाना चाहते हैं।

B.Pharma के लिए योग्यता

हमने ऊपर जाना कि बी फार्मा का कोर्स एक अंडर ग्रेजुएशन कोर्स है, इसीलिए दूसरे अंडर ग्रेजुएशन courses की तरह इसके लिए भी न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता एक मान्यता प्राप्त संस्थान से साइंस स्ट्रीम (physics, chemistry, biology) से बारहवीं उत्तीर्ण है।

सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए उम्र 20 साल से कम और आरक्षित वर्ग के लिए 22 साल से कम होनी चाहिए।

बात करें 12वीं में अंको की तो विद्यार्थी को कम से कम 50-60 % अंक तो लाने ही चाहिए। असल में, 12वीं में कितने अंक आने चाहिए यह अलग-अलग कॉलेजों में अलग-अलग निर्धारित होती है।

अच्छे सरकारी कॉलेज के लिए ज्यादा अंक चाहिए, वहीं थोड़े कम अंक होने पर भी प्राइवेट कॉलेज में दाखिला हो जाता है।

वैसे तो जितने ज्यादा अंक हो उतना ही अच्छा है क्योंकि कई कॉलेजों में दाखिला merit basis पर भी होता है।

B.Pharma में दाखिला कैसे ले सकते हैं?

जिन विद्यार्थियों का लक्ष्य शुरू से ही मेडिकल लाइन में जाने का होता है, और उन्हें भी जो बी फार्मा का कोर्स करना चाहते हैं, पहले तो वे दसवीं के बाद साइंस स्ट्रीम में PCB (physics, chemistry, biology) चुनना होगा।

12वीं कक्षा आपको अच्छे अंकों के साथ पास करनी होगी, क्योंकि कई कॉलेजों में मेरिट बेसिस पर भी दाखिला होता है।

अच्छे सरकारी colleges इस कोर्स में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा में आयोजित करवाती है, जैसे बी फार्मा की कुछ मुख्य प्रवेश परीक्षाएं GPAT(graduate pharmacy aptitude test), NIPER, DELHI CET, KCET(Karnataka common entrance test), Goa common entrance test, Gujarat common entrance test आदि हैं।

कुछ प्रवेश परीक्षा केंद्र जबकि कुछ राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाती है।

इन प्रवेश परीक्षाओ को पास करके आप फार्मेसी कॉलेजों में दाखिला ले सकते हैं, नेशनल लेवल पर आयोजित होने वाली परीक्षाओं को पास करके आप देश के बड़े कॉलेजों में बी फार्मा में admission ले सकते हैं।

B.Pharma के लिए Top Colleges

विद्यार्थी जितने बड़े कॉलेज से बी फार्मा का कोर्स पूरा करेंगे वह उनके करियर के लिए उतना ही अच्छा होता है।

अच्छे कॉलेजों से बी फार्मा का कोर्स किए हुए विद्यार्थियों को कई बार ज्यादा priority दी जाती है।

बी फार्मा जैसे कोर्स के लिए देश के कुछ शीर्ष colleges/universities निम्नलिखित है –

  • Delhi University
  • University Institute of Pharmaceutical science Chandigarh
  • University Institute of Chemical Technology Mumbai
  • Goa College of Pharmacy
  • Al Ameen College Of Pharmacy Bangalore
  • Jamia Hamdard University
  • Delhi Institute of Pharmaceutical science and research
  • PSG College of Pharmacy Coimbatore
  • Government College of Pharmacy Bangalore
  • JSS College of Pharmacy
  • Manipal college of Pharmaceutical science

B.Pharma के बाद क्या कर सकते हैं?

यदि आपने बी फार्मा का कोर्स पूरा कर लिया है, उसके बाद यदि आपकी नौकरी करने की इच्छा है तो कई पदों पर बी फार्मा किए हुए उम्मीदवारों के लिए नौकरी रहती है, या फिर यदि आपके और आगे पढ़ने की इच्छा है तो बी फार्मा के बाद आप एम फार्मा आदि जैसे courses भी कर सकते हैं।

नौकरी की बात करें तो बी फार्मा करने के बाद आप निम्नलिखित पदों पर नौकरि ले सकते हैं।

  • Research officer
  • Professor and teacher
  • Drug inspector
  • Medical transcriptionist
  • Analytical chemist
  • Drug therapists
  • Drug technician आदि।

Leave a Comment

Your email address will not be published.