B.ED की फीस कितनी है? | B.ED Ki Fees

B.Ed की फीस कितनी है? B.Ed करने में कितने तक का खर्च आता है? B.Ed का कोर्स पूरा करने के लिए कितने पैसे लगते हैं? दोस्तों इस तरह के सवाल टीचिंग प्रोफेशन में अपना करियर बनाने की सोचने वाले विद्यार्थियों के मन में जरूर ही आता है।

डॉक्टर या इंजीनियर जैसे प्रोफैशंस को छोड़कर, बहुत से विद्यार्थी आज एक teacher बनाना चाहते हैं, और एक टीचर बनने के लिए b.Ed अनिवार्य सा है।

एक शिक्षक का प्रोफेशन काफी अच्छा है, इसमें अच्छी सैलरी के साथ साथ इज्जत भी मिलती है।

भारत में अगर आप शिक्षक बनना चाहते हैं तो आपको b.Ed का कोर्स करना पड़ता है, ऐसे में यह सवाल की b.Ed की फीस कितनी है? जाहिर सा है।

आज यहां इस लेख में हम मुख्यतः b.Ed की फीस के बारे में ही बात करेंगे। साथ ही b.Ed कोर्स से संबंधित दूसरी जरूरी बातें भी जैसे कि b.Ed क्या है, इसमें क्या पढ़ाया जाता है, b.Ed कितने साल का होता है, इसके लिए क्या योग्यता चाहिए आदि, सभी के बारे में चर्चा करेंगे।

B.Ed का Course क्या है?

यदि पहले फुल फॉर्म से शुरू करें तो b.Ed का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ एजुकेशन (bachelor of education) होता है, b.Ed का कोर्स एक स्नातक पेशेवर डिग्री है जो छात्रों को स्कूलों में शिक्षकों के रूप में पढ़ाने और काम करने के लिए तैयार करता है।

B.Ed कोर्स की अवधि 2 वर्ष की होती है जिस दौरान इसमें कोई 4 सेमेस्टर होते हैं जो माध्यमिक यानी कक्षा 6 से 10 और उच्चतर माध्यमिक यानी कक्षा ग्यारहवीं और बारहवीं प्रभागो में शिक्षण के लिए आवश्यक है।

B.Ed आप रेगुलर या डिस्टेंस दोनों तरीके से कर सकते हैं हालांकि रेगुलर ज्यादा सही रहता है, दोनों की ही अवधि 2 साल की ही होती है।

B.Ed में आप किसी एक main विषय (+ वैकल्पिक विषय) के साथ पढ़ाई करते हैं जिस विषय के आप शिक्षक बनेंगे।

B.Ed कर लेने के बाद आपको टीजीटी (TGT) एवं पीजीटी (PGT) शिक्षक बनने के लिए टीजीटी एवं पीजीटी के लिए आयोजित परीक्षाओं को पास करना होता है, जो सरकार के द्वारा निर्धारित की गई है।

B.Ed की Fees कितनी होती है?

हर विद्यार्थी की फाइनेंसियल कंडीशन एक जैसी नहीं होती है, इसीलिए जो भी विद्यार्थी b.Ed के कोर्स में दाखिला लेना चाहते हैं उन्हें इसकी फीस के बारे में सही जानकारी होना बहुत जरूरी हो जाता है।

यदि सीधे बात करें b.Ed की फीस की तो यह फीस कॉलेज या यूनिवर्सिटी के मानकों के आधार पर अलग-अलग कॉलेजेस में अलग अलग हो सकती है।

जब कॉलेजेस की बात आती है तो उसमें दो प्रकार है, सरकारी कॉलेज या प्राइवेट कॉलेज।

दूसरे किसी भी कोर्स की ही तरह यदि आप एक सरकारी कॉलेज से b.Ed करते हैं तो आपकी फीस कम लगती है, वहीं एक प्राइवेट कॉलेज से b.Ed करने पर फीस सरकारी कॉलेज की तुलना में काफी ज्यादा लगती है।

इसीलिए b.Ed की फीस पूछे जाने पर एक औसतन ( इतने से इतने रुपए के बीच) रकम बताई जाती है। आप रेगुलर b.Ed कर रहे हैं या डिस्टेंस से, यह बात भी आपकी फीस को प्रभावित करती है।

सरकारी कॉलेज में B.Ed की फीस कम होती है?

सामान्यत: सरकारी कॉलेज में b.Ed की 1 साल की फीस 10000 से 15000 के बीच हो सकती है, अब अलग-अलग सरकारी कॉलेज के लिए यह अलग अलग भी हो सकता है।

इस दृष्टि से b.Ed ज्यादा महंगा कोर्स नहीं है। पर सरकारी कॉलेज से b.Ed के लिए यह बात है कि एक अच्छे सरकारी कॉलेज में b.Ed में दाखिला लेने के लिए आपको b.Ed की एंट्रेंस परीक्षा अच्छे अंको से पास करनी जरूरी होती है।

कई सारी यूनिवर्सिटी बीएड में दाखिले के लिए एंट्रेंस एग्जाम लेती है, इसीलिए छात्रों के लिए यह जरूरी है कि वे अपने सब्जेक्ट विशेष के लिए b.Ed की एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी अच्छे से करें, जिससे उन्हें एक सरकारी कॉलेज मिले।

प्राइवेट कॉलेज में B.Ed की फीस थोड़ी ज्यादा होती है?

यदि किसी कारणवश आपको b.Ed के लिए एक सरकारी कॉलेज नहीं मिल पाता है, तो आपके पास प्राइवेट कॉलेज से b.Ed करने का विकल्प बचता है।

Private colleges में भी अलग-अलग कॉलेजेस में fees में भिन्नता होती है, पर औसतन एक प्राइवेट कॉलेज की b.Ed की 1 साल की फीस 40,000 से 100000 तक हो सकती है।

जो थोड़े ज्यादा बड़े प्राइवेट कॉलेजेस होते हैं उनकी फीस ज्यादा जबकि छोटे प्राइवेट कॉलेजेस की फीस उससे कम होती है।

Fees की सही जानकारी के लिए सबसे अच्छा रहता है कि आप कॉलेज या university की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर सही जानकारी प्राप्त कर लें।

B.Ed के लिए Eligibility

B.Ed के कोर्स में एडमिशन के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से बीए, बीकॉम या बीएससी की डिग्री है।

इस कोर्स में दाखिले के लिए ग्रेजुएशन में कम से कम 50% अंक और कॉलेजों में प्रवेश के लिए स्नातकोत्तर स्तर पर कम से कम 55% कुल स्कोर होना ही चाहिए।

Universities और colleges प्रवेश परीक्षा में उनके प्रदर्शन के आधार पर उम्मीदवारों के चयन के लिए entrance exams आयोजित करते हैं, इनमे से अधिकांश परीक्षाएं जून या मई के महीने में आयोजित की जाती हैं।

B.Ed में दाखिले के लिए Entrance Exams

B.Ed पाठ्यक्रम में विद्यार्थियों के प्रवेश के उद्देश्य से institutes उम्मीदवारों की योग्यता के मूल्यांकन के लिए प्रवेश परीक्षाएं लेती है।

कुछ entrance exams, लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा, इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित इलाहाबाद विश्वविद्यालय बी.एड प्रवेश परीक्षा, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय बी.एड प्रवेश परीक्षा, आंध्र प्रदेश education common entrance test, छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा आदि हैं।

उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे जिस विश्वविद्यालय का चयन कर रहे हैं, उसमें प्रवेश के लिए जो विभिन्न प्रक्रिया आए हैं उन्हें फॉलो करें।

इन परीक्षाओं के परिणाम आम तौर पर जुलाई/अगस्त तक घोषित कर दिए जाते हैं, मेरिट लिस्ट घोषित होने के बाद काउंसलिंग राउंड होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.