B.Com में कितने विषय होते है? | B.Com Subject In Hindi

आज हम जानेंगे कि बीकॉम (B.Com) में कौन-कौन से विषय होते हैं? (B.Com Subject In Hindi) तथा हमें बीकॉम जनरल करना चाहिए या बीकॉम ऑनर्स करना चाहिए।

बीकॉम से जुड़े सारे सवालों का उत्तर में आज आपको इस article में पूरे विस्तार से दूंगा, कृपया इसे पूरा और ध्यान से पढ़ें।

B.com 1st year subject in hindi

बीकॉम के पहले साल में फ़र्स्ट और सेकंड year होते हैं, दोनो में syllabus लगभग एक समान ही होते हैं, बस second year में syllabus थोड़ा complicated हो जाता है।

B.Com 1st Semester subject

1Environmental Studies
2Financial Accounting
3Business Organisations and Management
4English Language
5Computer Applications and IT
6Economics
7Maths/ Computer
8Second language

B.Com 2nd Semester subject

1Accounts
2Economics
3Maths
4Computers
5Management
6General Awareness 1 & 2

B.com 2nd year subject in hindi

बीकॉम के दूसरे वर्ष के तीसरे और चौथे सेमेस्टर में सिलेबस को दो अलग-अलग भागों में बांटा गया है ग्रुप ए और ग्रुप भी जिसमें की ग्रुप ए में आपको 7 विषय को पढ़ना होता है, तथा ग्रुप बी में आपको 2 विषय को पढ़ना होता है।

B.Com 3rd Semester subject

1Income Tax Laws
2Financial Markets and Institutions
3Banking and Insurance
4Indian Economy
5Microeconomics-I
6Corporate Accounting-I

B.Com 4th Semester subject

1Basics of cost accounting labor
2Corporate accounting-II
3Elements of company Law
4Macroeconomics
5Managerial communication
6Overheads SPL
7The Indian banking system and central banking
1Business Communication
2Marketing Management Subjectsकंक

B.com 3rd year subject in hindi

सेमेस्टर 5 और semester 6 में आपको 5~5 विषय पढ़ने होते हैं, इनमे पांच साधारण विषय होते हैं और एक विषय ऐसे होते हैं जिन्हें आप अपने पसंद के अनुसार पढ़ सकते हैं, और इसमें आपको 4 विषय के बीच चुनने का मौका भी मिलता है।

B.Com 5th Semester subject

1Banking & Financial systems
2Cost accounting
3Entrepreneurship
4Income Tax
5Marketing Management

B.Com 6th Semester subject

1Advance accounting paper 2
2Contemporary Indian economics Issue and policies
3BCom Indirect Taxes paper 2
4Mercantile Law-II
5Marketing Management

बीकॉम जनरल Vs बीकॉम ऑनर्स

जैसा कि आप जानते हैं कि, बीकॉम कोर्स को आप दो तरीके से कर सकते हैं पहला बीकॉम जनरल है और दूसरा बीकॉम ऑनर्स है। आइए जानते हैं कि इन दोनों में क्या क्या अंतर होता है और क्या क्या समानताएं होती है।

Syllabus- अगर सिलेबस की बात करें तो बीकॉम जनरल और बीकॉम ऑनर्स की पहले वर्ष और दूसरे वर्ष का सिलेबस लगभग एक ही होता है, लेकिन तीसरे वर्ष में बीकॉम जनरल और बीकॉम ऑनर्स के syllabus में अंतर आ जाता है, और यहीं पर बीकॉम जेनरल और बीकॉम honours में अंतर आ जाता है।

B.Com General – जैसा कि इसके नाम से ही पता चल रहा है बीकॉम जनरल एक जनरल कोर्स है, यानी कि इसमें आप किसी खास विषय पर बीकॉम की डिग्री नहीं पा सकते इसमें आप एक साधारण बीकॉम की डिग्री प्राप्त करते हैं। इसके दौरान आप commerce क़े किसी एक विषय में specialization नहीं करते हैं।

B.Com Honour – बीकॉम ऑनर्स में पहले वर्ष और दूसरे वर्ष का सिलेबस बीकॉम जनरल वाला ही होता है, लेकिन तीसरे वर्ष में आपको विकल्प दिया जाता है कि आप किसी एक खास विषय में अपनी बीकॉम की पढ़ाई पूरी करें और उस विषय पर बीकॉम की डिग्री प्राप्त करें।

इसके बाद आप उस विषय में degree प्राप्त करके उससे सम्बंधित क्षेत्र में career बना सकते हैं।

Admission Process

  • बीकॉम जनरल करने के लिए आप जिस भी कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं उस कॉलेज में एडमिशन merit basis या एंट्रेंस एग्जाम के जरिए होता है। अगर कटऑफ की बात की जाए तो बीकॉम जनरल के लिए कट ऑफ बीकॉम ऑनर्स के मुकाबले कम ही होती है।
  • बीकॉम ऑनर्स के लिए कट ऑफ बीकॉम जनरल के मुकाबले बहुत ज्यादा जाती है, और कुछ कॉलेज ऐसे भी हैं जहां मेरिट के अनुसार आपका सिलेक्शन हो जाता है। बहुत बार देखा गया है कि कुछ कॉलेज में बीकॉम ऑनर्स की कट ऑफ 90% तक भी पहुंच जाती है।

Market Value And Salary

अगर बात की जाए नौकरी की, तो अक्सर देखा गया है कि बीकॉम ऑनर्स वाले छात्रों की मांग ज्यादा रहती है बीकॉम जनरल वाले छात्र के मुकाबले।

लेकिन अगर आप बीकॉम जनरल के साथ साथ अपनी पढ़ाई को जारी रखते हुए एमकॉम या एमबीए कर लेते हैं तो ऐसे में आपकी नौकरी पाने की संभावना बहुत हद तक बढ़ जाती है, क्यूँकि आपके पास knowledge और अनुभव ज़्यादा हो जाता है ।और इन बच्चों की मांग भी बहुत ज्यादा होती है

अगर शुरुआती समय की बात करें तो, अगर आप बीकॉम जनरल करने के बाद कोई नौकरी करते हैं तो ऐसे में आपकी शुरुआती सैलरी 12000 से लेकर 20000 तक के बीच हो सकती है।

लेकिन वही अगर बीकॉम ऑनर्स वाले विद्यार्थी की शुरुआती salary की बात करें तो उन्हें 20,000 से लेकर 35000 तक की नौकरी मिल जाती है।

Fees – अगर कॉलेज की फीस की बात की जाए तो बीकॉम जनरल वाले कॉलेज की फीस कम होती है, बीकॉम ऑनर्स वाले कॉलेज के मुकाबले। क्यूँकि देखा जाय तो बीकॉम honours की degree की मान्यता भी ज़्यादा होती है।

B.com General करे या B.Com Honour

कई विद्यार्थीयों का यह सवाल होता है कि बीकॉम जनरल करें या बीकॉम ऑनर्स? ऐसे में में उन बच्चों को यह कहना चाहूंगा कि अगर आपका aim कुछ और है और आपको सिर्फ बीकॉम की डिग्री चाहिए तो आप बीकॉम जनरल कर सकते हैं। लेकिन अगर आपकी रूचि commerce के हाई किसी खास विषय या फील्ड में है जिसमें कि आप अपना भविष्य भी बनाना चाहते हैं तो ऐसे में आपको बीकॉम ऑनर्स ही लेनी चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.