बीकॉम की फीस कितनी है? | B.Com Ki Fees Kitni Hai

इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि बीकॉम की फीस कितनी होती है? दोस्तों आज के समय में विद्यार्थियों को अपने करियर की चिंता दसवीं पूरी होने के बाद से ही होने लगती है।

और आगे विद्यार्थी जो भी प्रोफेशन अपनाना चाहते हैं उसे ध्यान में रखकर ही वे 11वीं और 12वीं में सब्जेक्ट चुनते हैं।

जैसे डॉक्टर या इंजीनियरिंग या विज्ञान से संबंधित किसी क्षेत्र में करियर बनाने की सोचने वाले छात्र साइंस लेते हैं, banking sector या CA आदि में रुचि रखने वाले छात्र कॉमर्स, और बाकी बचे विद्यार्थी आर्ट्स लेते हैं।

जो विद्यार्थी 11वीं 12वीं में कॉमर्स स्ट्रीम लेते हैं, graduation में वे b.com यानी bachelor of commerce का कोर्स करते हैं।

कॉमर्स स्ट्रीम के बहुत से छात्र बीकॉम कोर्स का चुनाव करते हैं, बल्कि 11वीं 12वीं में science stream वाले छात्र भी b.com कर सकते हैं।

बीकॉम की फीस कितनी है?

बीकॉम के कोर्स से जुड़ा एक कॉमन सवाल कि आखिर बीकॉम की फीस कितनी होती है कई विद्यार्थियों के मन में आता है और यहां इस आर्टिकल में हम मुख्यत: इसी की बात करेंगे।

बीकॉम की फीस के साथ-साथ BCom course से जुड़े दूसरे कुछ जरूरी बातों को भी जानेंगे।

B.com क्या है?

वैसे 12वीं के बाद जो विद्यार्थी b.com करना चाहते हैं उन्हें बीकॉम के बारे में पता होता है और होना ही चाहिए।

Full form से शुरू करें तो बीकॉम का पूरा नाम bachelor of commerce (बैचलर ऑफ कॉमर्स) होता है।

यह एक under graduation की डिग्री है, जो कि 3 साल की होती है।

यह कॉमर्स के फील्ड में बैचलर की डिग्री है, जिसमें business and finance, banking और accounts आदि के बारे में नॉलेज दी जाती है और लेखांकन के सभी कार्यों को सिखाया जाता है। 

जैसे कि कोई बिजनेस कब कहां और कैसे करना है, उसे फाइनेंशली कैसे मैनेज करते हैं, फिर बैंक के सिस्टम से संबंधित नॉलेज, आदि के बारे में ही बीकॉम के अंदर पूरी जानकारी दी जाती है।

योग कोर्स के दौरान विद्यार्थी के पर्सनैलिटी और कम्युनिकेशन स्किल पर भी ध्यान दिया जाता है, क्योंकि business और management के लिए इनकी जरूरत रहती है।

B.Com Course की Fees कितनी है?

दोस्तों अगर सीधे बात करें बीकॉम यानी बैचलर ऑफ कॉमर्स कोर्स के फीस की तो, इस कोर्स की फीस अलग-अलग कॉलेज में अलग-अलग होती है।

पहले तो यह है कि आप किस तरह के कॉलेज से बीकॉम का कोर्स करते हैं। 

यदि वह एक सरकारी कॉलेज है तो आप काफी कम फीस के साथ बीकॉम पूरी कर लेंगे, वहीं एक प्राइवेट कॉलेज में बीकॉम की फीस सरकारी कॉलेज के मुकाबले थोड़ी ज्यादा ही होती है। 

फिर अलग-अलग राज्यों के कॉलेजों में भी बीकॉम की फीस अलग-अलग हो सकती है जैसे झारखंड राज्य के सरकारी कॉलेज में BCom की fees और महाराष्ट्र राज्य के सरकारी कॉलेज में b.com की फीस अलग अलग हो

सकती है। यही बात  अलग अलग राज्य की सरकारों द्वारा अपने राज्य के कॉलेजों की फीस का निर्धारण अलग अलग किया जाता है।

सरकारी कॉलेज

किसी भी राज्य के सरकारी कॉलेजों की फीस तो प्राइवेट कॉलेजों की तुलना में कम ही होती है।

आप जैसा कि हमने ऊपर बताया की अलग-अलग यूनिवर्सिटी के हिसाब से fees में अंतर हो सकता है, पर सरकारी कॉलेजों के मामले में एक औसतन फीस की बात करें तो यह रकम 2-4 हजार प्रति वर्ष तक रहता है।

यानी कि लगभग 5-10 हज़ार तक के खर्च में आप एक सरकारी कॉलेज से अपनी बीकॉम की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं। 

देश के बड़े और नामी सरकारी यूनिवर्सिटीज में बीकॉम जैसे कोर्स में दाखिले के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होता है, और यदि विद्यार्थी प्रवेश परीक्षा पास कर लेते हैं तो वे  देश के उन बड़े यूनिवर्सिटीज से बीकॉम कर सकते हैं।

जिनमें से कुछ की फीस तो सिर्फ कुछ सौ रुपए प्रति वर्ष की होती है, और बाकी विद्यार्थी के रहने और खाने का जो खर्च होगा वही।

Private College

हालांकि b.com जैसे कोर्स के लिए एक सरकारी कॉलेज ही अच्छा रहता है, लेकिन यदि सरकारी कॉलेज में एडमिशन नहीं मिलता तो विद्यार्थी के पास प्राइवेट से भी बीकॉम करने का विकल्प रहता है।

बस इसकी फीस सरकारी कॉलेज के मुकाबले ज्यादा होती है। बीकॉम जैसे कोई के लिए प्राइवेट कॉलेजों की औसतन फीस की बात करें तो यह लगभग 20-30 हजार रुपए प्रति वर्ष तक भी जा सकती है।

और यदि इसे 3 साल की अवधि के लिए जोड़े तो private college से बीकॉम की फीस लगभग 1,00,000 रुपए तक भी जा सकती है।

अब यह बस एक औसतन फीस है, आपको कई ऐसे प्राइवेट कॉलेज भी मिलेंगे जिनकी फीस इससे कम होगी, वहीं कुछ की फीस इससे थोड़ी ज्यादा भी हो सकती है।

अलग अलग राज्य और यूनिवर्सिटी के हिसाब से भी फीस में अंतर हो सकता है। सबसे अच्छा यही रहता है कि विद्यार्थी कॉलेज से संपर्क करके फीस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लें।

B. Com में Admission कैसे लें ?

B.com यानी graduation इसीलिए अगर आपको बीकॉम में एडमिशन लेना है तो सबसे पहले तो आपको 12वीं अच्छे अंकों के साथ पास करना होगा।

यदि आप की 12वीं में कॉमर्स stream है तो ज्यादा बेहतर होगा, हालांकि साइंस स्ट्रीम वाले भी बीकॉम में एडमिशन ले सकते हैं। इसके बाद बात आती है कि बीकॉम के लिए आपको कोई कॉलेज  ढूंढना होगा।

बड़े यूनिवर्सिटीज से इस कोर्स की पढ़ाई के लिए एंट्रेंस एग्जाम दे सकते हैं या और भी कई सरकारी कॉलेज उपलब्ध है। 

कॉलेज ढूंढने के बाद आपको कॉलेज में दाखिल प्रक्रिया पूरी करनी होगी।

दाखिले की प्रक्रिया के साथ ही आपको सब्जेक्ट चुनना होगा, जिस सब्जेक्ट से आप बीकॉम  करना चाहते हैं।

बैचलर ऑफ कॉमर्स में एडमिशन लेने के बाद आप बी कॉम 3 साल में 6 सेमेस्टर पास करके बीकॉम अपनी पूरी कर सकते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने बीकॉम की फ़ीस के बारे में जानकारी प्राप्त की। अलग-अलग सरकारी और प्राइवेट colleges में बीकॉम कोर्स की फीस अलग-अलग होती है।

अलग-अलग राज्यों के colleges में भी फीस में अंतर रहता है। विद्यार्थी जिस भी कॉलेज में बीकॉम में दाखिला चाहते हैं, उस college की आधिकारिक वेबसाइट या कॉलेज से संपर्क करके फीस की सही जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.