बीकॉम करने के फायदे? | B.Com karne ke fayde

दोस्तों अपनी दसवीं पूरी करने के बाद विद्यार्थियों के पास साइंस, कॉमर्स या फिर आर्ट्स स्ट्रीम में से किसी एक को चुनना होता है और वह आगे फिर उसी की पढ़ाई करते हैं।

Chartered accountant या banking, finance accounting आदि में रुचि रखने वाले और इसी में आगे करियर बनाने की सोचने वाले विद्यार्थी कॉमर्स स्ट्रीम को चुनते हैं।

Commerce stream से 12वीं पूरी करने के बाद उन विद्यार्थियों के मन में सवाल आता है कि आगे क्या करें? एक विकल्प रहता है कि वे सिंपल अंडर ग्रेजुएशन में बीकॉम की डिग्री ले सकते हैं। 

फिर यह बात आती है कि बीकॉम कोर्स करने के फायदे क्या-क्या है?, B.Com की डिग्री लेने से विद्यार्थियों को किस तरह करियर में फायदा मिलता है?

यहां इस आर्टिकल में  हम मुख्यत: बीकॉम करने के फायदो के बारे में ही जानेंगे।

बीकॉम करने के फायदे क्या हैं?

बहुत से विद्यार्थी बीकॉम करने को लेकर कन्फ्यूजन में रह सकते हैं, यदि उन्हें बीकॉम कोर्स के सभी फायदों के बारे में सही से पता होगा तो वे अपने लिए बेहतर निर्णय ले सकेंगे कि बीकॉम उनके लिए सही होगा या नहीं।

बीकॉम करने के फायदों के साथ-साथ इस कोर्स से जुड़ी दूसरी कुछ जरूरी बातें को भी जानेंगे।

बीकॉम क्यों करना चाहिए?

बीकॉम का कोर्स करने से विद्यार्थियों को क्या-क्या फायदे हैं, इसके बारे में जानने से पहले संक्षिप्त में बीकॉम के बारे में जरूरी चीजें जान लेते हैं।

बीकॉम का पूरा नाम बैचलर ऑफ कॉमर्स है, जो कि 3 साल की एक अंडर ग्रेजुएशन डिग्री है जिसमें 12वीं के बाद कॉमर्स स्ट्रीम के विद्यार्थी एडमिशन ले सकते हैं, हालांकि साइंस वाले भी इसमें जा सकते हैं।

इस कोर्स में बैंकिंग और फाइनेंस सेक्टर, एकाउंटिंग,  बिजनेस मैनेजमेंट और इसके लिए जरूरी दूसरी चीजों के बारे में पढ़ाया जाता है।

यदि आप बैंक में नौकरी या किसी कंपनी में अकाउंटिंग आदि के पद पर नौकरी या चार्टर्ड अकाउंटेंट जैसे बड़े पद पर भी नियुक्ति चाहते हैं तो बीकॉम आपकी सहायता करता है।

बीकॉम आपको कॉमर्स में ग्रेजुएट बना देता है, और इस विषय के अंदर जिन चीजों की पढ़ाई की जाती है उनसे संबंधित कामों की वर्तमान में कई कंपनियों और संस्थाओं में मांग रहती है, जिससे कि उस उम्मीदवार के लिए नौकरी के अवसर बढ़ जाते हैं।

देश में बहुत से कॉलेज बीकॉम का कोर्स ऑफर करते हैं, 3 साल के दौरान इसमें छह सेमेस्टर होते हैं।

बीकॉम करने के फायदे क्या-क्या हैं? (Benefits Of B.Com)

यहां जो हम बीकॉम कोर्स करने के फायदों के बारे में बात करने वाले हैं, तो हम इसके सभी फायदों के बारे में एक साथ बात कर लेते हैं।

मतलब की बीकॉम में एडमिशन लेने तक विद्यार्थी को क्या फायदे मिलते हैं, फिर एडमिशन ले लेने के बाद कोर्स के दौरान बीकॉम के क्या फायदे हैं, और अंत में बीकॉम पूरी हो जाने के बाद विद्यार्थियों को इससे क्या फायदे मिलेंगे, इन सभी फायदों के बारे में।

1. अधिक परसेंटेज की आवश्यकता नहीं होती।

तो इसमें एडमिशन लेने से पहले के फायदे में, बीकॉम करने के लिए अधिक परसेंटेज की आवश्यकता नहीं होती।

एडमिशन के लिए इसका cut off कम जाता है, जिससे एडमिशन लेना आसान हो जाता है। तो अगर आपके 12वीं में कुछ कम नंबर भी है तो भी आप b.com कर सकते हैं।

2. Communication skill and Personality सुधरती है।

बीकॉम कोर्स से विद्यार्थी की कम्युनिकेशन स्किल और पर्सनालिटी अच्छी हो जाती है। कॉमर्स के अंदर बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई होती है, और ये दोनों ही चीजे उसके लिए जरूरी है।

इसीलिए कोर्स के दौरान इन पर ध्यान दिया जाता है, विद्यार्थी की personality और communication skills को बेहतर बनाया जाता है।

3. कई fields की knowledge हो जाती है।

बीकॉम करने के बाद विद्यार्थी को Accounts, finance, Banking, Law, statics, मार्केटिंग, आदि की अच्छी खासी नॉलेज हो जाती है, इसका इस्तेमाल वे कहीं भी कर सकते हैं।

जैसे की startups शुरू करने के लिए भी इनकी सही जानकारी जरूरी है, तो बीकॉम करने के बाद विद्यार्थी इसमें भी देख सकते हैं।

4. भरपूर job opportunities होती हैं।

BCom course करने के सबसे बड़े फायदे में से एक है इसके बाद आने वाली job opportunities.

कॉमर्स स्ट्रीम में जिन चीजों की पढ़ाई कराई जाती है उनके जानकारों की कई बड़े कंपनियों और संस्थाओं में मांग रहती है, जैसे कि अकाउंटेंट्स, बिजनेस एडवाइजर आदि।

इसके अलावा बैंक और दूसरे कुछ संस्थाओं में भी नौकरी के कई अवसर रहते हैं। सिर्फ बीकॉम के बाद ही आप जूनियर अकाउंटेंट की नौकरी ले सकते हैं।

5. Business Mathematics सीखते हैं।

दूसरे कुछ फायदो में, BCom में business mathematics होती है इससे बीकॉम के विद्यार्थी बिजनेस क्षेत्र में भी अच्छा करियर बनाने का देख सकते हैं।

या Accounts के बारे में पढ़कर आप आसानी से अकाउंटेंट बन सकते हैं। 

6. इसके बाद कई courses कर सकते हैं।

बीकॉम का कोर्स पूरा करने के बाद विद्यार्थी के पास और आगे कई सारे कोर्स करने का विकल्प होता है जिससे वह और भी बेहतर करियर बना सकते हैं।

इस तरह के कोर्स में FRM, ICWA, MBA, m.com, CA(chartered accountant), CS और CPA का नाम आता है। बीकॉम के बाद आप इन courses को कर सकते हैं।

तो यह सारे कुछ फायदे थे, बीकॉम कोर्स को करने के। यदि आप कॉमर्स के स्टूडेंट हैं, और आप 12वीं के बाद ग्रेजुएशन में ही एडमिशन लेंगे तो आप बीकॉम ही करते हैं। 

BCom के लिए योग्यता

बीकॉम कोर्स के फायदे में सबसे पहले हमने यही जाना कि इसमें दाखिला लेना आसान है।

इस कोर्स में दाखिले के लिए योग्यता की बात करें तो 11वीं और 12वीं में विद्यार्थी का कॉमर्स स्ट्रीम हो तो बेहतर है, क्योंकि जैसा हमने ऊपर भी कहा साइंस स्ट्रीम वाले भी इसमें जा सकते हैं, हालांकि अमूमन ऐसा होता नहीं है।

B.com में एडमिशन लेने की सोचने वाले विद्यार्थी का 12वीं उत्तीर्ण होना जरूरी है वह भी 55% अंकों के साथ। बीकॉम में दाखिले के लिए और किसी खास योग्यता की आवश्यकता नहीं होती।

हां, यदि विद्यार्थी देश के अच्छे सरकारी यूनिवर्सिटीज (जैसे बीएचयू आदि) से बीकॉम करना चाहते हैं, तो उसके लिए उन्हें प्रवेश परीक्षा पास करनी होती है जिसे आप एक जरुरी योग्यता समझ सकते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने मुख्य तौर पर बीकॉम कोर्स करने के फायदों के बारे में बात की।

बहुत बड़ी संख्या में विद्यार्थी आज के समय में बीकॉम में दाखिला लेते हैं, एडमिशन लेने से पहले यदि उन्हें इस कोर्स के सभी फायदों के बारे में पता हो तो यह उनके लिए अच्छा ही रहता है।

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी और इससे संबंधित कोई सवाल  यदि आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.