स्त्री-रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें? | Gynecologist doctor kaise bane

दोस्तों इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें? एक डॉक्टर बनना बहुत से विद्यार्थियों का सपना होता है।

और जब हम डॉक्टर की बात करते हैं तो असल में specialisation के आधार पर कई प्रकार के डॉक्टर होते हैं, कोई सर्जरी में स्पेशलिस्ट होता है, कोई ह्रदय रोगों में, कोई त्वचा से संबंधित रोगों में तो कोई हड्डी से संबंधित रोगों में आदि।

Doctors के लिए specialisation करने के कई options होते हैं। इन्हीं डॉक्टरों में एक स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर भी होते हैं।

अब बहुत बार विद्यार्थियों के मन में यह सवाल आता है कि स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें? या स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बन सकते हैं? इसके लिए क्या पढ़ाई या क्या कोर्स करना होता है? आदि।

स्त्री-रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें?

यहां इस आर्टिकल में हम मुख्य तौर पर इसी की बात करेंगे कि कोई विद्यार्थी स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें?

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर बनने की क्या प्रक्रिया है? इसके लिए किन विषयों के साथ क्या पढ़ाई और कौन सा कोर्स करना होता है? आदि सभी के बारे में जानेंगे।

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बनें?

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर को Gynecologist कहा जाता है।

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर बनने के लिए आपको medical में Bachelor degree (MBBS), और उसके बाद Masters degree करनी होती है।

असल में, अपने PG course में ही आप Gynecology को अपने specialization के रूप में चुनते हैं।

और अपना यह post graduation medical course पूरा करने के बाद आप एक स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर या Gynecologist बनते हैं।

Gynecology, female reproductive system से जुड़ी  चिकित्सा के अध्ययन को कहा जाता है।

Gynecology की पढ़ाई करके स्त्री रोगों के treatment और diagnosis करने वाले doctors ही Gynecologist कहलाते हैं। 

इसमें surgical और medical procedure दोनों ही प्रक्रियाए शामिल होती हैं।

Gynecologists female reproductive health, Obstetrics for delivery and the pregnancy process और Reproductive Medicine के जानकर होते हैं।

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर/Gynecologist के लिए निम्नलिखित कोर्स उपलब्ध हैं – 

  • MBBS (Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery) – यह तो अनिवार्य होता है, 12वीं के बाद पहले आपको mbbs करना ही होगा। यह सामान्यतः 5.5 साल का course होता है, जिसमें 1 साल की internship करनी होती है। MBBS में दाखिले के लिए आपको bio के साथ 12th कम से कम 50% marks के साथ पास करनी होती है, उसके बाद आपको NEET की परीक्षा पास करनी होती है।
  1. Postgraduate Diploma in Gynecology and Obstetrics – Gynecologist बनने के लिए आप MBBS के बाद post graduation level पर यह दो साल का course कर सकते हैं। इस course में admission लेने के लिए आपके पास से MBBS की degree मांगी जाती है।
  1. Master of Surgery (M.S.) in Gynecology – Gynecologist बनने के लिए MBBS के बाद आप यह कोर्स भी कर सकते हैं। यह भी दो साल का course होता है। और इसमें admission लेने के लिए भी आपके पास MBBS की degree होनी आवश्यक है। 
  1. Diplomate of Medicine (D.N.B.) in Gynecology – एमबीबीएस के बाद Gynecologist बनने के लिए आप यह तीन साल का course भी कर सकते है। इसमें admission लेने के लिए भी MBBS की degree मांगी जाती है।
  1. Doctor of Medicine (M.D.) in Gynecology:  MBBS के बाद यह तीन साल का course है। इस कोर्स के बाद भी आप स्त्री रोग में specialisation कर सकते हैं।

MBBS की पढ़ाई पूरी करने के बाद students को एक साल की internship करनी होती है।

वहीं Gynecology में यदि आप M.S. या M.D. पूरी कर लेते हैं तो इसके बाद आपको तीन साल का senior internship program पूरा करना जरूरी होता है।

Internship का मतलब जैसा हमें पता है, इसमें आपको अपने काम की practical knowledge मिलती है। आप यह internship किसी भी hospital से या फिर independent भी कर सकते हैं।

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर बनने के steps-

शुरू से एकदम स्टेप बाय स्टेप एक स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर यानी Gynecologist बनने की प्रक्रिया की बात करें तो इसमें निम्नलिखित steps आते हैं।

Step-1 – 

सबसे पहले तो जाहिर है कि आप दसवीं और उसके बाद 12वीं पास करेंगे। आपका किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 पास किया हुआ होना चाहिए। 12वीं में आप जितने हो सके अच्छे नंबर लायेंगे। 

Step-2 – 

उसके बाद का स्टेप आता है कि आपको MBBS program में admission लेना होता है। MBBS में admission लेने के लिए आपको NEET-UG की entrance exam पास करनी होती है।

NTA द्वारा हर साल ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन मेडिकल courses में दाखिले के लिए नीट आयोजित की जाती है।

Step-3 – 

NEET Entrance exam पास करने के बाद NEET में आई आपकी rank के अनुसार आपको medical college में admission मिलता है।

College allot होने के बाद आप MBBS में admission की प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकते हैं।

यह सामान्यतः 5.5 साल का course होता है, जिसमें 1 साल की internship भी शामिल होती है। 

Step-4 – 

हम यहां Gynecologist बनाने की बात कर रहे हैं इसलिए MBBS की पढ़ाई पूरी करने के बाद फिर आपको NEET-PG का entrance exam देना होगा।

या काफी कठिन परीक्षा होती है जिसे पास करने के बाद ही आप PG course में admission ले सकते हैं, और Gynecology में specialization कर सकते है। 

Step-5 – 

NEET-PG entrance exam अच्छे अंक से पास करने के बाद आप Gynecology के M.S. या M.D. course में admission लेंगे।

M.S. या M.D. course में ही आपको specialization चुनते हैं। जैसा हमने ऊपर जाना M.S. या M.D. तीन साल का course है।

Degree पूरी करने के बाद आपको किसी hospital में या independently three-year की internship senior residency पूरी करनी होगी।

और इसके बाद आप एक गाइनेकोलॉजिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने बात की है कि स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर कैसे बने?

या स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर बनने की क्या प्रक्रिया होती है।

डॉक्टर बनना लाखों विद्यार्थी का लक्ष्य होता है और डॉक्टर में भी अलग अलग specialisation होते हैं, और gynecologist भी इनमें एक मुख्य नाम है।

यहां हमने एक गाइनेकोलॉजिस्ट बनने की प्रक्रिया को स्टेप बाय स्टेप देखा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.