एलएलबी के लिए अधिकतम आयु सीमा? | LLB ke liye adhiktam aayu seema

इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि एलएलबी (LLB) के कोर्स में दाखिले के लिए अधिकतम आयु सीमा कितनी निर्धारित की गई है।

दोस्तों करियर सिलेक्शन हर विद्यार्थी के जीवन का एक बहुत ही अहम फैसला होता है। कोई डॉक्टर, तो कोई इंजीनियर, तो कोई सरकारी officer, तो कोई बिजनेसमैन बनना चाहता है, इसी में बहुत से विद्यार्थी वकील बनने की इच्छा भी रखते हैं।

और वकील बनने के लिए विद्यार्थियों को एलएलबी का कोर्स करना पड़ता है। दूसरे courses की तरह इसमें भी दाखिले के लिए कुछ जरूरी पात्रताएं होती है, और age limit भी इन्हीं में से एक है।

बहुत से विद्यार्थीयों के मन में यह सवाल होता है कि एलएलबी में दाखिले के लिए अधिकतम आयु सीमा कितनी है? और यहां हम मुख्यत: इसी की बात करने वाले हैं।

एलएलबी के लिए अधिकतम आयु सीमा ?

हालांकि ज्यादातर विद्यार्थियों के लिए age limit कोई समस्या नहीं होती, पर फिर भी इसके बारे में सही जानकारी होनी चाहिए।

जिन विद्यार्थियों का लक्ष्य वकील बनना है, उन्हें LLB course से संबंधित सारी जानकारी होनी चाहिए।

LLB के लिए आयु सीमा कितनी निर्धारित है?

एलएलबी के कोर्स में दाखिले के लिए आपको प्रवेश परीक्षा पास करनी होती है, और इस परीक्षा का नाम CLAT यानी common Law admission test है।

और असल में जो age limit निर्धारित की जाती है, वह इस परीक्षा में बैठने के लिए होती है। यानी कि यदि उम्मीदवार की आयु CLAT में  बैठने के लिए निर्धारित आयु सीमा के अंतर्गत ही है तो वे LLB में दाखिला ले सकते हैं।

Age limit की बात करें तो नई नीति के अनुसार अब से CLAT ( जोकि अंडर ग्रेजुएशन प्रोग्राम के लिए उम्मीदवारों का चुनाव करते हैं ) के लिए किसी प्रकार की उम्र सीमा नहीं रखी गई है।

मतलब की किसी भी उम्र के विद्यार्थी CLAT की परीक्षा पास करके LLB के कोर्स में दाखिला ले सकते हैं।

हालांकि पहले से CLAT परीक्षा में बैठने के लिए एक निर्धारित आयु सीमा थी, जिसके अंतर्गत आने वाले विद्यार्थी ही इसमें बैठ सकते थे।

पहले उम्र सीमा थी वो इस प्रकार थी- CLAT की परीक्षा देने वाले general category के उम्मीदवारों की उम्र 20 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए थी, इसके अलावा अन्य वर्गों SC/ST/OBC/Physically Challenged candidates की उम्र 22 साल से नीचे होनी चाहिए थी।

इससे ज्यादा उम्र के उम्मीदवार इस परीक्षा में नहीं बैठ सकते थे, इसलिए एलएलबी में दाखिला भी नहीं ले सकते थे। 

LLB में दाखिले के लिए दूसरी जरूरी योग्यताएं

एलएलबी के कोर्स में दाखिले के लिए educational qualifications में कुछ बहुत ज्यादा नहीं चाहिए होता है।

विद्यार्थी या तो 12वीं के बाद या फिर ग्रेजुएशन के बाद भी एलएलबी कर सकते हैं। 12वीं के बाद एलएलबी कोर्स करने के लिए आपको पहले 12th पास होना जरूरी है।

12वीं के बाद कराए जाने वाले एलएलबी कोर्स की अवधि 5 साल की होती है, और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में कम से कम विद्यार्थी का 45 परसेंट नंबर के साथ पास होना भी जरूरी है।

12वीं के बाद एलएलबी की जगह यदि आप ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको 3 साल का कोर्स करना पड़ता है, और यहां भी ग्रेजुएशन में आपको कम से कम 45 परसेंट नंबर जरूर लाना पड़ता है। 

LLB का कोर्स कैसे करें ?

जैसा कि हमने ऊपर जाना, विद्यार्थी 12वी या फिर ग्रेजुएशन के बाद LLB का कोर्स कर सकते हैं। इसे step by step देखें तो –

1.अपना 12th कंप्लीट करें।

लॉ की पढ़ाई करने के लिए सबसे पहले तो आपको अपना 12th कंप्लीट करना है, ऐसा कोई जरूरी नहीं है कि आप 12वीं में किसी खास विषय को ही पढ़ें।

मतलब अगर आप  साइंस, कॉमर्स, या आर्ट में से कोई भी कोई भी विषय लेंगे तो भी आप वकालत की पढ़ाई आगे कर सकते हैं।

पर ज्यादातर कक्षा 11वीं और 12वीं में आर्ट्स लेने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसके विषय अन्य streams की तुलना में आसान होते हैं। 

2. प्रवेश परीक्षा की तैयारी करें।

हमने ऊपर यह भी जाना कि भारत में एलएलबी कोर्स जॉइन करने के लिए CLAT (Common Law Admission Test) एग्जाम पास करना जरूरी है, तभी उम्मीदवार को एक अच्छे सरकारी लॉ कॉलेज में एडमिशन मिलता है।

इस परीक्षा में Elementary Mathematics (Numerical Ability), Logical Reasoning, English including Comprehension, Legal Aptitude, General Knowledge and current Affairs से प्रश्न पूछे जाते हैं।

3. प्रवेश परीक्षा पास करके कॉलेज में एडमिशन लें।

ऊपर बताए गए सभी विषयों के लिए अच्छे से तैयारी करनी चाहिए, क्योंकि जब तक उम्मीदवार इन विषयों की अच्छी जानकारी नहीं रखेंगे तब तक वे इस परीक्षा को pass नहीं कर पाएंगे।

इसीलिए इसकी तैयारी अच्छे ढंग से करें और पास होने के बाद एक अच्छे लॉ कॉलेज में एडमिशन लें।

इंडिया में वकालत की पढ़ाई करने के लिए National Law University (NLU) सबसे प्रचलित नाम है और इसी के द्वारा एलएलबी एंट्रेंस एग्जाम CLAT (Common Law Admission Test) का आयोजन किया जाता है, जिसमें पास करने वाले उम्मीदवारों को यहां ऐडमिशन दी जाती है।

4. LLB का कोर्स पुरा करके degree लें।

हम ऊपर जान चुके हैं कि 12वीं पास करने के बाद  वकालत की जो पढ़ाई होती है वह पूरे 5 साल के कोर्स के रूप में कराई जाती है, जिस दौरान आपको कानून के कई विषयों के बारे में पढ़ाया जाता है।

जब आप अपना 5 साल का कोर्स पूरा कर लेते हैं तो उसके बाद आपको इंटर्नशिप करनी पड़ती है।

साथ ही आपको डिग्री कोर्स के दौरान कराए जाने वाले सेमिनार, ट्यूटोरियल वर्क, Moot Courts (कोर्ट में होने वाली जीरह), और प्रैक्टिकल ट्रेनिंग प्रोग्राम में हिस्सा लेना पड़ता है।

जब आप अपना कोर्स सफलतापूर्वक पूरा करके डिग्री हासिल कर लेते हैं, तब आप एक वकील के रूप में अपने करियर की शुरुआत कर सकते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने मुख्य तौर पर बात की एलएलबी के कोर्स में दाखिले के लिए निर्धारित अधिकतम आयु सीमा के बारे में।

एलएलबी कोर्स से संबंधित यह सवाल बहुत से विद्यार्थियों के मन में आ सकता है और यहां हमने इसी की चर्चा की है। एलएलबी के लिए जरूरी आयु सीमा के साथ-साथ हमने यहां इसके लिए दूसरी जरूरी योग्यताओं के बारे में भी जाना।

Leave a Comment

Your email address will not be published.