यूपीएससी के लिए योग्यता क्या चाहिए? | UPSC ke liye yogyata kya chahie

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि यूपीएससी के लिए योग्यता क्या चाहिए? UPSC की परीक्षा में बैठने के लिए क्या योग्यता चाहिए? 

दोस्तों सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास करके आईएएस, आईपीएस आदि जैसे देश के सबसे प्रतिष्ठित पदों पर नौकरी लेने का सपना बहुत से विद्यार्थियों का होता है। 

हर साल लाखों की संख्या में विद्यार्थी civil services में जाने के लिए UPSC की परीक्षा में बैठते हैं। 

जिन विद्यार्थियों को सिविल सर्विस और यूपीएससी के बारे में पूरी जानकारी नहीं होती है, उनके मन में कई बार यह सवाल आता है कि यूपीएससी के लिए योग्यता क्या चाहिए? 

या UPSC की परीक्षा में बैठने के लिए क्या योग्यता मांगी जाती है? 

यहां इस लेख में हम मुख्य तौर पर इस बात पर चर्चा करेंगे। जानेंगे कि यूपीएससी के लिए योग्यता क्या चाहिए होती है? 

यूपीएससी के लिए योग्यता क्या चाहिए?

यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवारों के पास क्या शैक्षणिक योग्यता होनी चाहिए? 

इसके साथ-साथ ही हम यूपीएससी की परीक्षा से संबंधित दूसरी कुछ जरूरी बातों पर भी चर्चा कर लेंगे।

UPSC के लिए योग्यता क्या चाहिए?

UPSC के लिए न्यूनतम graduation यानी स्नातक की योग्यता चाहिए होती है। 

यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवार का कम से कम स्नातक होना जरूरी होता है। 

अब अंडरग्रेजुएशन स्तर पर विद्यार्थी ने कोई भी कोर्स किया हो (BSc, BCom, BA, BTech आदि)  उससे कोई फर्क नहीं पड़ता, यदि विद्यार्थी ग्रेजुएट है, तो वह यूपीएससी में बैठने के लिए योग्य है। 

इसके अलावा ग्रेजुएशन में last year/थर्ड ईयर के विद्यार्थी भी यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा का फॉर्म भर सकते हैं। 

क्योंकि फॉर्म भरने से लेकर परीक्षा होने तक तो विद्यार्थी ग्रेजुएशन पास कर चुका होता है। 

तो, यूपीसी के लिए जरूरी न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता स्नातक यानी ग्रेजुएशन ही है। 

अब जाहिर है, जिन उम्मीदवारों के पास इससे ज्यादा educational qualifications होंगी, वे तो UPSC की परीक्षा में बैठ ही सकते हैं।

UPSC क्या है?

UPSC की बात करें तो इसका पूरा नाम यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (union public service commission) है, जो हर वर्ष सिविल सर्विसेज की परीक्षा लेता है, जिसके माध्यम से आईएएस और आईपीएस के साथ-साथ कुल 24 सर्विसेस में उम्मीदवारों की नियुक्ति होती है। 

यूपीएससी के services अंतर्गत दो तरह के categories, पहला ऑल इंडिया सर्विसेज और दूसरा सेंट्रल सर्विसेज आते हैं। 

ऑल इंडिया services में आईएएस और आईपीएस पदों पर नियुक्ति होती है, जिन्हें राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों का कैडर दिया जाता है। 

बाकी में IFS, IRS और इस तरह के group A और B की भी दूसरी कुछ सर्विसेज आती हैं। 

यूपीएससी द्वारा ली जाने वाली सिविल सर्विसेज की परीक्षा, देश की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है। 

इसमें सफल होने के लिए उम्मीदवारों को बहुत कड़ी मेहनत करनी होती है।

UPSC के लिए Age limit –

यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए एज लिमिट भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण factor हो जाता है। 

Age limit को भी आप परीक्षा में बैठने के लिए एक जरूरी योग्यता कह सकते हैं, क्योंकि age limit कम होने पर या पार हो जाने पर उम्मीदवार इसकी परीक्षा में नहीं बैठ सकते हैं। 

यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए न्यूनतम age तो 21 वर्ष की ही है। 

ग्रेजुएशन पूरी होने तक विद्यार्थी इस आयु सीमा में आ जाते हैं। 

सवाल आता है, maximum age limit का, मतलब की ज्यादा से ज्यादा कितने साल तक के उम्मीदवार यूपीएससी की परीक्षा में बैठ सकते हैं। 

यूपीएससी की परीक्षा बहुत ज्यादा कठिन होती है, और सामान्यतः बहुत ही कम विद्यार्थी इसे एक बार में क्लियर कर पाते हैं। 

इसके लिए 3-4 या 5 या इससे भी ज्यादा attempts लग सकते हैं। इसीलिए यह जानना भी जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा कितने साल तक और मैक्सिमम कितने attempts विद्यार्थियों के पास होते हैं।

तो अलग-अलग वर्गो के हिसाब से, मतलब कि जनरल, ओबीसी, EWS, एससी, एसटी के उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा अलग-अलग होती हैं। 

इस परीक्षा में हिस्सा लेने के लिए अभ्यर्थियों की न्यूनतम आयु 21 साल और अधिकतम आयु 32 साल (सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए) की है। 

इस आयु सीमा में एससी और एसटी समुदाय के अभ्यर्थियों को 5 साल की छूट, ओबीसी श्रेणी के अभ्यर्थियों को 3 साल की छुट और शारीरिक रूप से अक्षम अभ्यर्थियों को 10 साल की छूट दी गई है। 

इस सब को जोड़कर देखें तो, इस परीक्षा में शामिल होने वाले एससी और एसटी श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 37 वर्ष, ओबीसी श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए 35 वर्ष और शारीरिक रूप से अक्षम अभ्यर्थियों के लिए 42 वर्ष की हो जाती है।

अब ऐसा भी नहीं है कि maximum age limit तक विद्यार्थी हर साल प्रयास कर सकते हैं। 

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थियों को सीमित मौके ही मिलते हैं। 

असल में, जनरल category के अभ्यर्थी इस UPSC की परीक्षा में 6 बार शामिल हो सकते हैं। 

OBC की बात करें तो, ओबीसी श्रेणी के अभ्यर्थी इस परीक्षा में 9 बार शामिल हो सकते हैं। 

वहीं, SC/ST category के अभ्यर्थियों के लिए इस परीक्षा के attempts की कोई सीमा नहीं है। यानी वे जितनी बार चाहे प्रयास कर सकते हैं। 

जनरल, ईडब्ल्यूएस तथा ओबीसी श्रेणी के शारीरिक रूप से असक्षम (disabled) अभ्यर्थी इस परीक्षा में 9 बार हिस्सा ले सकते हैं, इसके बाद इनका अटेम्प्ट्स खत्म हो जाता है।

तो यही सारी योग्यताएं हैं यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए। 

आयु सीमा के अंदर आने वाली ग्रेजुएट (या इससे आगे की डिग्री वाले) विद्यार्थी  UPSC में बैठने के लिए एलिजिबल होते हैं। 

UPSC देश के सबसे प्रतिष्ठित नौकरियों में गिना जाता है, जो विद्यार्थी जानना चाहते हैं कि यूपीएससी में क्या बन सकते हैं? 

तो इसमें IAS, IPS से लेकर सरकार के कई अन्य विभागों में top पदों पर नियुक्ति होती है। 

UPSC की परीक्षा (prelims, mains और interview) पास करके कोई विद्यार्थी देश के सबसे उच्च पदों में से किसी पर नौकरी ले सकते हैं। 

Conclusion

ऊपर इस आर्टिकल में हमने, ‘यूपीएससी के लिए योग्यता क्या चाहिए?’ इस बारे में बात की है। 

हर साल बहुत बड़ी संख्या में विद्यार्थी यूपीएससी की तैयारी में आते हैं, और इसके साथ साथ यूपीएससी से संबंधित अन्य बहुत से सवाल भी उनके मन में रहते हैं, जैसे यूपीएससी में कितने पेपर होते हैं? 

कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं, कितने अंकों के होते हैं, उसमें से कितने अंक लाने होते हैं आदि। 

यहां हमने UPSC में बैठने के लिए जरूरी eligibilities के बारे में बात की है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.