आईटीआई के बाद करियर | ITI ke baad career

दोस्तों आज के समय में हर विद्यार्थी के लिए सबसे जरूरी होता है कि वह अपने लिए एक अच्छा करियर बनाए।

इसके लिए विद्यार्थी अपनी रुचि और लक्ष्य के अनुसार अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग courses की पढ़ाई करते हैं।

Engineering, medical, teaching, government job जैसे और भी बहुत से fields हैं जिनसे संबंधित courses की पढ़ाई करके विद्यार्थी अच्छा करियर बना सकते हैं, और ITI का कोर्स भी भी इन्हीं में से एक है।

बहुत से विद्यार्थी 10वीं और 12वीं के बाद टेक्निकल फील्ड में ITI का कोर्स करते है।

और बहुत से विद्यार्थियों के मन में यह सवाल होता है कि आईटीआई करने के बाद उनके पास क्या करियर ऑप्शंस होते हैं?

आईटीआई का सर्टिफिकेट प्राप्त करके वे किन-किन क्षेत्रों में नौकरी पा सकते हैं?

आईटीआई के बाद करियर ?

आज यहां इस आर्टिकल में हम मुख्यतः ITI के बाद के career options की ही बात करेंगे।

आईटीआई की डिग्री पा लेने के बाद विद्यार्थी किन किन क्षेत्रों में कौन-कौन सी नौकरियों के योग्य हो जाते हैं, इसके बारे में उन्हें सही जानकारी होना जरूरी है ताकि इच्छुक विद्यार्थी आसानी से नौकरी प्राप्त कर सके।

ITI किस तरह की ट्रेनिंग है?

आईटीआई एक इंडस्ट्रियल कोर्स है, जिसका पूरा नाम इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट(industrial training institute) होता है।

यह कोर्स आठवीं से लेकर 12वीं क्लास तक के स्टूडेंट के लिए बनाया गया है। विद्यार्थी आठवीं या 10वीं या 12वीं पास करने के लिए इस में दाखिला ले सकते हैं।

इस कोर्स की विशेषता यह है कि इसमें स्टूडेंट्स को industry level पर काम करने के लिए तैयार किया जाता है, ताकि विद्यार्थी टेक्निकल क्षेत्र में अच्छी जॉब पा सके।

इस कोर्स को आठवीं पास, 10वी पास या 12 वीं पास विद्यार्थी कर सकते हैं। असल में आईटीआई के कोर्स में विद्यार्थियों को कई तरह के कोर्स यानी trade कराए जाते हैं। 

जैसे कि मेकेनिकल इलेक्ट्रॉनिक ,फैशन डिजाइनिंग, कंप्यूटर आदि। इस तरह के और बहुत सारे ऐसे और भी कोर्स होते हैं, जिनकी पढ़ाई करके आप एक अच्छी जॉब पा सकते हैं।

इस कोर्स को करने के काफी सारे फायदे हैं।

यदि आपको आईटीआई के कोर्स की थोड़ी जानकारी होगी तो शायद आपने ऐसा सुना होगा कि इलेक्ट्रिकल, मैकेनिकल और आईटी आदि में ही आपको डिप्लोमा करना चाहिए, क्योंकि इसमें आपको जॉब आसानी से मिल जाती है।

यह बात काफी हद तक सही भी है लेकिन दोस्तों समय के अनुसार सबका ट्रेंड बदल भी सकता है और बदला भी है।

इसलिए जरूरी नहीं कि सिर्फ यही कोर्स अच्छे होते हैं, आईटीआई के अंतर्गत 100 से ज्यादा courses उपलब्ध हैं।

विद्यार्थियों को अपनी रुचि के अनुसार और उस क्षेत्र में job opportunities को ध्यान में रखकर ही course चूनना चाहिए। 

ITI के बाद विद्यार्थियों के लिए career options

आईटीआई का कोर्स किए हुए candidates के लिए नौकरी के कई क्षेत्र हैं, उन्हें रेलवे, इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड, ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज, एनटीपीसी, BHEL, पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड, दूरसंचार, आयल एंड नेचुरल गैस कारपोरेशन लिमिटेड, इंडियन आर्मी और सीआरपीएफ जैसी पैरा मिलिट्री फोर्स में भी नौकरी के विभिन्न अवसर मिलते हैं।

यदि आप आईटीआई इलेक्ट्रिकल से करते हैं तो wireman, electrician या electric mechanic आदि की नौकरी ले सकते हैं।

इंडियन रेलवे में ग्रुप सी और ग्रुप डी में आईटीआई उम्मीदवारों के लिए वैकेंसी निकलती हैं।

Ordnance factories में भी आईटीआई किए उम्मीदवारों के लिए नौकरी रहती है।

Indian army में भी technical और trade man जैसे पदों के लिए आईटीआई डिग्री धारकों से एप्लीकेशन मांगी जाती है।

इन सबके अलावा और भी कई नौकरियां हैं जिनके लिए आईटीआई की डिग्री काम आती है।

आईटीआई के बाद नौकरियों में शुरुआती सैलरी 14-15 हजार तक हो सकती है, लेकिन समय के साथ इसमें बढ़ोतरी भी होती है।

आईटीआई के बाद डिप्लोमा धारक चाहे तो higher studies करके बेहतर करियर बना सकते है ये फिर किसी सरकारी या प्राइवेट सेक्टर में जॉब कर सकते हैं।

आईटीआई पास छात्रों के लिए All India Trade Test भी एक बेहतर विकल्‍प है। NCVT द्वारा आयोजित यह परीक्षा एक तरह का स्किल टेस्ट है जो आईटीआई छात्रों को सर्टिफाइड करता है।

एआईटीटी पास करने के बाद, छात्रों को एनसीवीटी द्वारा संबंधित व्यापार में राष्ट्रीय व्यापार प्रमाणपत्र (एनटीसी) से सम्मानित किया जाता है।

इसका सर्टिफिकेट बहुत सारे इंजीनियरिंग ट्रेड्स में एनटीसी डिप्लोमा, डिग्री के बराबर है।

ITI के बाद entrepreneurship कर सकते हैं

आईटीआई के बाद छात्र entrepreneurship भी कर सकते हैं। इसमें छात्रों को औद्योगिक पर्यवेक्षण के अंतर्गत ऑन-द-जॉब प्रशिक्षण (ओजेटी) और कक्षा संबंधित निर्देश दोनों का नॉलेज दिया जाता है।

एंटरप्रेन्योरशिप 1 या 1.5 साल की कुशलता और योग्यता की ट्रेनिंग होती है। इससे आपको उसी आर्गेनाइजेशन में स्थाई नौकरी भी मिल सकती है।

Public Sectors में job कर सकते हैं

आईटीआई का कोर्स छात्रों के लिए सार्वजनिक क्षेत्र या सरकारी एजेंसी में करियर बनाने का अच्छा अवसर देता है।

जिन छात्रों ने ITI की प्रशिक्षण किया है वे रेलवे, टेलीकॉम/बीएसएनएल, IOCL, ONCG, राज्य-वार पीडब्ल्यूडी जैसी विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

जबकि सरकारी क्षेत्र में वे भारतीय सशस्त्र बलों यानी भारतीय सेना जैसे भारतीय नौसेना, वायु सेना, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और अन्य अर्धसैनिक बल इत्यादि में भी apply कर सकते हैं।

 Private Sectors में job कर सकते हैं

आईटीआई छात्रों को निजी क्षेत्र भी रोजगार के ढेर सारे अवसर मिलते हैं। निजी क्षेत्रों के तहत मुख्य क्षेत्र जहां आईटीआई के छात्र को ज्यादा हायर किया जाता है।

उनमें कंस्ट्रक्शन, एग्रीकल्चर, टेक्सटाइल्स, एनर्जी और कुछ निर्दिष्ट जॉब प्रोफाइल जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स, वेल्डिंग रेफ्रिजरेशन और एयर-कंडीशनर मैकेनिक शामिल हैं।

Self-Employment कर सकते हैं

कई विद्यार्थियों के लिए स्वरोजगार शायद सबसे बेहतर विकल्प है।

क्योंकि आईटीआई में व्यावहारिक प्रशिक्षण छात्रों को अपना व्यवसाय शुरू करने या स्वरोजगार प्राप्त करने की गुणों को भी प्रशिक्षित करती है।

Self-employment का मतलब अन्य नियोक्ताओं के लिए काम करने के बजाय खुद के लिए काम करना है।

Foreign में भी job पा सकते हैं

आईटीआई करने वाले छात्र विदेश में भी अपना अच्छा करियर बना सकते हैं।

विदेशों में ऐसे उम्मीदवारों की जरुरत होती है, जो कई विकसित और विकासशील देशों में चीजों को ठीक कर सकते हैं, या इससे संबंधित सेवाएं प्रदान कर सकते हैं।

कुछ विशेष trades जैसे fitters आदि के लिए अंतरराष्ट्रीय तेल और गैस कारखानों तथा शिपयार्ड इत्यादि में नौकरी के कई मौके उपलब्ध होते हैं।

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने मुख्य तौर पर आईटीआई का कोर्स करने के बाद के करियर ऑप्शंस के बारे में बात की है। 

बहुत से विद्यार्थी ज्यादा पढ़ाई करके जल्दी एक अच्छी नोकरी पाना चाहते हैं, ऐसे में उनके लिए यह कोर्स फायदेमंद रहता है।

टेक्निकल फील्ड का यह कोर्स विद्यार्थियों को इंडस्ट्रियल लाइन में बेहतर कैरियर बनाने का मौका देती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.