बीएससी के बाद मेडिकल कोर्स कौन-से हैं? | B.Sc ke baad medical course kaun se hain

दोस्तों वर्तमान में मेडिकल लाइन करियर के मामले में इंजीनियरिंग के अलावा सबसे ज्यादा लोकप्रिय field है। हर साल लाखों की संख्या में विद्यार्थी मेडिकल लाइन में करियर बनाने के लिए अलग-अलग मेडिकल courses में दाखिला लेते हैं।

Medical line में जाने के लिए दसवीं के बाद साइंस और उसमें भी सामान्यतः PCB (physics, chemistry और biology) लेना जरूरी होता है। 

बहुत से विद्यार्थी 12वीं के बाद bsc में दाखिला ले लेते हैं, और बीएससी पूरी होने के बाद वे medical courses में दाखिला लेने की सोचते हैं।

ऐसे में उन विद्यार्थियों के मन में या फिर सामान्यतः भी विद्यार्थियों के मन में यह सवाल कई बार आता है कि बीएससी के बाद मेडिकल कोर्स कौन-से हैं?

यानी बीएससी के बाद विद्यार्थी किन medical courses में दाखिला ले सकते हैं?

बीएससी के बाद मेडिकल कोर्स कौन-से हैं?

आज यहां इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में जानेंगे कि बीएससी के बाद मेडिकल कोर्स कौन-से हैं?

बीएससी पूरी कर चुके विद्यार्थी किन medical courses की तरफ जा सकते हैं? बीएससी के बाद विद्यार्थी मेडिकल कोर्स में दाखिला कैसे ले सकते हैं? आदि।

B.sc के बाद Medical Course कौन-से हैं?

B.Sc के बाद विद्यार्थी एमबीबीएस, बीडीएस या बीएएमएस, pharmacy जैसे अन्य कई मेडिकल courses में दाखिला ले सकते हैं, पर एडमिशन के लिए उन्हें इसके लिए जरूरी प्रवेश परीक्षा पास करनी ही होगी जो कि वर्तमान में NEET की परीक्षा है।

इसका मतलब है कि यदि विद्यार्थी मुख्य medical courses जैसे एमबीबीएस आदि की तरफ जाना चाहते हैं तो उन्हें उसी चयन प्रक्रिया से गुजरना होगा जिससे 12वीं पास विद्यार्थी गुजरते हैं, यानी कि NEET  की परीक्षा से।

12वीं के बाद हर विद्यार्थी पहली बार में ही नीट की परीक्षा पास नहीं कर लेता कई बार इसके लिए सालों की तैयारी लग जाती है।

ऐसे में इस दौरान यदि विद्यार्थी बीएससी कर लेता है तो इसका उसे नीट की तैयारी में फायदा ही होता है।

क्योंकि पहली बात तो यह है कि लगभग सारे ही मुख्य medical courses में दाखिला लेने के लिए बायोलॉजी होना जरूरी है, इसीलिए मेडिकल लाइन में जाने की सोचने वाले विद्यार्थियों का 12वीं तक तो बायोलॉजी होगा ही।

12वीं के बाद यदि वे बीएससी करते हैं, तो वहां भी विद्यार्थी को इसी से जुड़े विषयों में बीएससी करनी चाहिए।

यदि वह विज्ञान के दूसरे विषयों में (जैसे कि maths या physics में) b.sc करते हैं।

तब इसका उन्हें किसी मेडिकल कोर्स में दाखिले में कोई फायदा नहीं होता।

हालांकि pharmacy जैसे कोर्स को science stream के maths वाले विद्यार्थी भी कर सकते हैं।

पर वैसे भी किसी भी अच्छे मेडिकल कोर्स की बात कर लें, उसमें दाखिले के लिए बीएससी की डिग्री का विद्यार्थी को कोई फायदा नहीं होता, बस एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी के लिए बीएससी कोर्स की पढ़ाई विद्यार्थी की मदद कर सकती हैं।

वहीं यदि बीएससी नर्सिंग की बात करें तो वह तो पहले से ही मेडिकल कोर्स है।

मेडिकल लाइन में जो विद्यार्थी नर्सिंग में करियर बनाना चाहते हैं अबे 12वीं के बाद b.sc nursing course का चुनाव कर सकते हैं। Nursing में b.sc पूरी करके वे नर्स के तौर पर अस्पताल आदि में join कर सकते हैं।

इसलिए अंत में यह कह सकते हैं कि बीएससी के बाद विद्यार्थी किसी भी मेडिकल कोर्स के लिए जा सकते हैं, लेकिन पहला तो उस विद्यार्थी को PCB stream का होना चाहिए और फिर यह भी कि उन्हें दूसरे विद्यार्थियों की ही तरह इसके लिए जरूरी entrance exams (NEET) को पास करना होगा।

B.sc की degree विद्यार्थी के कोई खास काम नहीं आती, बस यह प्रवेश परीक्षा की तैयारी में सहायक हो सकती है।

B.sc के बाद MBBS medical course

मेडिकल लाइन में best करियर बनाने की इच्छा रखने वाले विद्यार्थी सबसे पहले एमबीबीएस में दाखिला लेने की ही सोचते हैं।

MBBS की पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद विद्यार्थी एक एमबीबीएस डॉक्टर बन सकते हैं जिसके बाद वे सरकारी या प्राइवेट अस्पतालों में नौकरी ले सकते हैं या फिर खुद का क्लीनिक आदि भी खोल सकते हैं।

यदि विद्यार्थी बीएससी करने के बाद एमबीबीएस के लिए जाना चाहते हैं तो वे जा तो सकते हैं पर बीएससी के बाद भी एमबीबीएस में दाखिले की प्रक्रिया NEET की परीक्षा से होकर ही गुजरेगी।

बीएससी करने के बाद भी विद्यार्थी को नीट की परीक्षा clear करने के बाद ही एमबीबीएस में दाखिला मिल सकता है।

इसीलिए यदि विद्यार्थी का लक्ष्य एमबीबीएस ही है, तो बीएससी के बजाय उन्हें नीट की परीक्षा क्लियर करने पर ज्यादा फोकस करना चाहिए।

क्योंकि जैसा हमने ऊपर भी बताया एमबीबीएस में दाखिले के लिए बीएससी की डिग्री का कोई महत्व नहीं होता आप बस NEET की परीक्षा अच्छे अंको से पास होने चाहिए।

बीएससी के बाद भी विद्यार्थी एमबीबीएस के लिए जा सकते हैं क्योंकि NEET की परीक्षा में बैठने के लिए मिनिमम एजुकेशनल क्वालीफिकेशन 12वीं पास है।

B.sc के बाद BDS medical course

एमबीबीएस के बाद शायद BDS (bachelor of dental surgery) ही सबसे लोकप्रिय मेडिकल कोर्स है। और इस कोर्स में दाखिले के लिए भी NEET की परीक्षा से ही गुजरना होता है। 

बीएससी के बाद विद्यार्थी इसमें भी एडमिशन ले सकते हैं और इसकी प्रक्रिया भी वही होगी।

यानी कि आसान भाषा में, इस में दाखिले के लिए भी विद्यार्थी को बीएससी की डिग्री का कोई फायदा नहीं होता है। 

हां, जैसा कि हमने ऊपर भी बात की, NEET की परीक्षा की तैयारी में ज्यादातर विद्यार्थियों को कई साल लग जाते हैं, उस दौरान वे बीएससी कर सकते हैं।

Bsc की पढ़ाई का फायदा उन्हें NEET की प्रिपरेशन में मिलता है।

B.sc के बाद pharmacy medical course

मेडिकल लाइन में फार्मेसी का कोर्स भी बहुत लोकप्रिय है इसके बाद विद्यार्थी एक फार्मासिस्ट के तौर पर अच्छा करियर बना सकते हैं।

B.Pharma और D.Pharma काफी लोकप्रिय कोर्स हैं। 

बीएससी के बाद विद्यार्थी फार्मेसी के कोर्स में भी दाखिला ले सकते हैं। क्योंकि फार्मेसी में दाखिले के लिए भी 12वीं तक की शैक्षणिक योग्यता ही मांगी जाती है।

फार्मेसी के लिए बायोलॉजी सब्जेक्ट कोई बहुत जरूरी नहीं होता, साइंस स्ट्रीम का होने पर ही आप फार्मेसी कर सकते हैं, चाहे अब बायोलॉजी के स्टूडेंट हो या मैथ्स के।

B.sc के बाद अन्य मुख्य medical courses

एमबीबीएस या बीडीएस के अलावा BAMS, BUMS, BHMS, BTP आदि जैसे अन्य और भी कई मेडिकल courses हैं, जिनमें विद्यार्थी बीएससी के बाद दाखिला ले सकते हैं पर वही, नीट की परीक्षा पास करके।

तो नीट की परीक्षा के आधार पर जितने भी medical courses में एडमिशन होते हैं उनमें विद्यार्थी बीएससी के बाद दाखिला ले सकते हैं, क्योंकि NEET के लिए शैक्षणिक योग्यता 12वीं पास है।

ऐसा कुछ नहीं है कि बीएससी की डिग्री का विद्यार्थी को किसी मेडिकल कोर्स में दाखिले में कोई फायदा मिलता है।

हालांकि हम यहां बीएससी नर्सिंग की बात नहीं कर रहे हैं क्योंकि वह खुद ही मेडिकल कोर्स है। 

Conclusion

ऊपर दिए गए इस आर्टिकल में हमने बीएससी के बाद के medical courses के बारे में बात की है।

बीएससी पूरी करने के बाद विद्यार्थी उन सभी मेडिकल कोर्सेज के लिए जा सकते हैं जिनके लिए 12वीं पास विद्यार्थी जा सकते हैं।

B.sc की डिग्री किसी मेडिकल कोर्स में दाखिले में कोई खास सहायता नहीं करता।

अलग-अलग मेडिकल courses में 12वीं पास और बीएससी पास same process से जा सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.