कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के होते हैं? | Computer course kitne prakar ke hote hai

दोस्तों कंप्यूटर आज के समय में हर क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है, जिसके फलस्वरूप कंप्यूटर की जानकारी होना भी हर किसी के लिए जरुरी हो गया है।

आपको कंप्यूटर की जितनी अच्छी जानकारी होगी किसी भी क्षेत्र में आपके लिए नौकरी के अवसर उतने ही बढ़ेंगे।

कंप्यूटर का इस्तेमाल बहुत से अलग-अलग चीजों के लिए होता है, और उसी हिसाब से अलग-अलग प्रकार के computer courses भी होते हैं, जिनमें कंप्यूटर फील्ड के अलग-अलग जरूरी चीजों के बारे में सिखाया जाता है। 

आज यहां इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में जानेंगे कि कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के होते हैं?

कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के होते हैं?

यानी मुख्य तौर पर कौन-कौन से कंप्यूटर courses हैं जिन्हें करने के बाद विद्यार्थी अपने लिए एक बेहतर करियर बना सकते हैं।

इस लेख में हम बात करेंगे कि दसवीं के बाद, फिर 12वीं के बाद या फिर ग्रेजुएशन के बाद विद्यार्थी किन कंप्यूटर courses का चुनाव कर सकते हैं, जिससे वे अपने लिए बेहतर कैरियर बना सकें।

Computer courses कितने प्रकार के होते हैं?

कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के होते हैं, इससे मतलब है कि कंप्यूटर के अलग-अलग कोर्सेज होते हैं, जिनमें कंप्यूटर की अलग-अलग चीजों के बारे में सिखाया जाता है।

कंप्यूटर के इस्तेमाल के क्षेत्र की कोई सीमा नहीं है, अलग-अलग क्षेत्रों में इसका अलग-अलग काम के लिए इस्तेमाल होता है इसीलिए उनके लिए अलग-अलग courses बनाए गए हैं। 

अलग-अलग कोर्स में अलग-अलग चीजें सिखाई जाती हैं, जैसे कोई कोर्स बेसिक कंप्यूटर के लिए होता है, तो कोई specifically कंप्यूटर के प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस के लिए।

कोई course सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट का होता है तो कोई खास तौर पर एनिमेशन और vfx के लिए। 

उसी तरह फिर डाटा एंट्री, वेब डेवलपर, डिजिटल मार्केटिंग, ग्राफिक डिजाइनिंग आदि के लिए कंप्यूटर के अलग-अलग कोर्स होते हैं।

विद्यार्थी की इनमें से जिसमें भी रूचि हो, वे उस कोर्स का चुनाव कर सकते हैं, और उसी में आगे अपने लिए अच्छा करियर बना सकते हैं। 

आगे हम कंप्यूटर कोर्सेज के प्रकार में दसवीं के बाद कौन कौन से मुख्य कंप्यूटर कोर्स हैं?, फिर 12वीं के बाद कौन कौन से मुख्य कंप्यूटर कोर्स हैं? और उसके बाद ग्रेजुएशन के बाद कौन-कौन से मुख्य कंप्यूटर कोर्स हैं? उन सब के बारे में जानेंगे।

10वीं के बाद कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के हैं?

कंप्यूटर का फील्ड ही आगे चलकर आईटी सेक्टर जैसे बड़े क्षेत्र में बदल जाता है, जिसमें नौकरियों के अपार अवसर होते हैं। 

ऐसे में जो विद्यार्थी इस क्षेत्र में अच्छा करियर बनाना चाहते हैं, उनके लिए कंप्यूटर कोर्स अनिवार्य है। 

अब यदि दसवीं के बाद के कंप्यूटर courses के विकल्प की बात करें तो ये कुछ मुख्य computer courses हैं, जिनका विद्यार्थी दसवीं के बाद चुनाव कर सकते हैं –

  • Certificate Program In MS Office
  • Graphic Designing Course
  • Computer Science Diploma/Engineering
  • Basic Computer Course
  • Digital Marketing Course
  • Data Entry Course
  • Diploma In Financial Accounting
  • Animation And VFX Course
  • Web Designing Course
  • Web Development Course
  • आदि

इन अलग-अलग कोर्स में कंप्यूटर के क्षेत्र में अलग-अलग चीजों के बारे में पढ़ाया जाता है।

जो उम्मीदवार डिजिटल मार्केटिंग में जाना चाहते हैं उनके लिए डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स है।

उसी तरह बहुत से ऑफिस जॉब्स के लिए अप्लाई करने के लिए उम्मीदवार Certificate Program In MS Office का कोर्स कर सकते हैं।

वेबसाइट डेवलपर और वेबसाइट डिजाइनर भी आज के समय में काफी लोकप्रिय कंप्यूटर courses हैं।

उसी तरह ग्राफिक डिजाइनिंग और एनिमेशन और vfx जैसे कंप्यूटर कोर्स करने के बाद भी उम्मीदवार कई अच्छे पदों पर नौकरी पा सकते हैं। 

Computer Science Diploma/Engineering का कोर्स किए हुए उम्मीदवारों की मांग बहुत सी कंपनिययों में रहती है।

इसके अलावा Basic Computer Course, Data Entry Course और Diploma In Financial Accounting जैसे कंप्यूटर कोर्स में आज के समय में बहुत से विद्यार्थियों द्वारा चुने जाते हैं।

और इन courses के बाद भी आगे career में अच्छे options खुलते हैं।

12वीं के बाद कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के हैं?

Computer courses के बाद आज के समय में विद्यार्थी एक अच्छे करियर की तरफ देख सकते हैं।

कंप्यूटर साइंस का क्षेत्र काफी विशाल है, और यदि 12वीं के बादकिए जाने वाले मुख्य computer courses की बात करें तो इनमें certification, Diploma, Undergraduate, Post Graduate, और  Ph.D. लेवल के computer courses भी आते हैं। 

Graphic Designing, Digital Marketing, Mobile App Development, Animation and VFX, Software Engineering, Web Designing and Development, MS Office Certification, Computer Aided Design & Drawing जैसे computer course विद्यार्थी 12वीं के बाद भी कर सकते हैं।

Computer में Associate Degree course

कंप्यूटर के क्षेत्र में उम्मीदवार एसोसिएट डिग्री भी ले सकते हैं, जो कि सामान्यत: 2 वर्ष की अवधि का कंप्यूटर कोर्स होता है।

इस तरह के कंप्यूटर courses में उम्मीदवारों को networking, multimedia development, application development आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाती है। 

इसमें Computer Programming, Calculus, Circuits, Data Structure आदि आते हैं।

इस तरह की डिग्री के बाद उम्मीदवार IT और सॉफ्टवेयर सेक्टर में के पद पर नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Computer में certificate courses

Certificate course level के computer courses भी उम्मीदवारों को कई क्षेत्रों में नौकरी के लिए आवेदन करने के योग्य बनाती है।

इन courses में भी Web Designing, VFX and Animation, Hardware and Networking Courses, Cyber Security Courses, Microsoft Office and typing courses, Diploma in IT, Diploma in Computer Science, Software and Programming Language Course, Tally, Data entry operator course, Computer hardware maintenance आदि का नाम आता है।

Computer में diploma courses

कंप्यूटर के क्षेत्र में डिप्लोमा किए हुए उम्मीदवारों की मांग तो हर क्षेत्र में ही रहती है। उम्मीदवार 10वीं या 12वीं या फिर ग्रेजुएशन के बाद भी कंप्यूटर में डिप्लोमा कोर्स का चुनाव कर सकते हैं।

इन courses में  Diploma in Computer Applications (DCA), Diploma in Computer Programming (DCP), Post Graduate in Diploma in Computer Application (PGDCA) और Post Graduate Diploma in Computer Science and Applications जैसे courses का नाम आता है।

Computer में bachelors degree course

इसके अलावा यदि विद्यार्थी कंप्यूटर को ही मुख्य विषय को लेकर आगे पढ़ना चाहते हैं तो 12वीं के बाद ग्रेजुएशन में computer में ही बैचलर की डिग्री भी ले सकते हैं। 

जैसा कि कंप्यूटर के क्षेत्र में इंजीनियरिंग के लिए b.tech जैसा कोर्स सबसे लोकप्रिय कोर्स में आता है। बहुत से विद्यार्थी बीटेक कंप्यूटर साइंस करते हैं।

इसके अलावा बीसीए यानी bachelor of Computer application भी computer से एक लोकप्रिय अंडर ग्रेजुएशन डिग्री है।

इसके अलावा विद्यार्थी BSc in computer application जैसे कोर्स का चुनाव भी करते हैं।

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के होते हैं, इसके बारे में बात की है।

कंप्यूटर कोर्स के अलग-अलग प्रकारों का मतलब है कि इन अलग-अलग courses में कंप्यूटर से संबंधित अलग-अलग चीजें सिखाई जाती है।

दसवीं के बाद या 12वीं के बाद या फिर ग्रेजुएशन के बाद, इसके अलावा एसोसिएट डिग्री फिर डिप्लोमा और बैचलर की डिग्री के लिए भी computer से संबंधित बहुत से courses उपलब्ध हैं।

1 thought on “कंप्यूटर कोर्स कितने प्रकार के होते हैं? | Computer course kitne prakar ke hote hai”

Leave a Comment

Your email address will not be published.